हर दुखों का निवारण करता है - पवित्र श्रावण मास - Har Dukhon Ka Nivaran Karta Hai-Pavitr Sharavan Maas

Share:

shiv-pooja, kaal-ka-bhay-kaise, sharavan-maas-pooja, sharavan-mein-shiv-ki-pooja, har-dukh-door,shiv-parvati, shiv-ke-barin-mein, shiv-pooja-ka-mahatva, shiv-kunji, shiv-hi-shiv, om-namah-shivaya, shiv-ki-bhakti-mein-shakti, shiv hindi, shiv-gyan hindi, pavitra sawan ka mahina,   shiv ki pooja in hindi, shiv pooja in hindi, shiv pooja hindi, kaal ka bhay kaise in hindi, kaal ka bhay kaise in hindi, hindi, sharavan maas pooja in hindi, sharavan maas pooja  hindi, sharavan mein shiv ki pooja in hindi, har dukh door in hindi, shiv-parvati in hindi, shiv ke barin mein in hindi, shiv pooja ka mahatva in hindi,  shiv-kunji  in hindi,  shiv hi shiv in hindi,  om-namah-shivaya in hindi,  shiv ki bhakti  in hindi, shiv bhakti mein shakti in hindi, shiv hindi, shiv-gyan in hindi, pavitra sawan ka mahina in hindi, पवित्र सावन मास in hindi, शिव भगवान अति प्रसन्न होते सावन महिने में in hindi, शिव को प्रसन्न करने का सरल उपाय in hindi, सब देवताओं का आर्शीवाद एक साथ प्राप्त होता है in hindi, चन्द्रमा की दशा से मुक्ति मिलती है in hindi, शिव शंकर ने चन्द्रमा को अपने सिर पर धारण किया in hindi, देवी-देवताओं ने जल वर्षा की, शिवलिंग की पूजा कैसे करें in hindi, शिवलिंग की पूजा विधि in hindi, शिवलिंग पर लाल रंग का प्रयोग भूल से भी न करें in hindi, शिव शंकर प्रसन्न होते है in hindi, बेलपत्र का प्रयोग करे in hindi, धातूरे का प्रयोग करें in hindi, दूध का प्रयोग करें in hindi, सबसे दयालु शिव भगवान in hindi, शीघ्र फल देते है in hindi, शीघ्र प्रसन्न होते है in hindi, हर मनोकामना पूरी करते है in hindi, शिव पूजा से प्राण संकट की दशा मिट जाती है in hindi, मां पार्वती अटूट भक्ति से शिव की प्राप्ति in hindi, सावन में मां पार्वती की शिव भक्ति in hindi, मोक्ष प्राप्त होता है in hindi, शिव-पार्वती विवाह से विवाह प्रथा शुरू हुई in hindi, सोमवार को शिव पूजा जरूर कीजिए in hindi, सोमवार व्रत विधि in hindi, सावन में सोमवार का महत्व in hindi,शिव पूजा से गृह क्लेश दूर होता है in hindi, शिव पूजा से सभी ग्रहों का प्रकोप दूर होता है in hindi, शनि का प्रकोप दूर होता है in hindi, सावन के सोमवार व्रत से मन पसन्द जीवन साथी मिलता है in hindi, निश्चित शिव कृपा प्राप्त होती है in hindi, सावन में शिव-शक्ति का मिलन in hindi, चावल in hindi, तिल in hindi, इत्र in hindi, पुष्प in hindi, धतुरा in hindi, बेल पत्र in hindi 5, 11, 21, शुभ संख्या है अर्पित करें in hindi, मौली in hindi, जनेऊ in hindi,  वस्त्र अर्पित कर सकते हैं in hindi,  दूध hindi, दही in hindi, घी in hindi, शहद in hindi, शक्कर hin hindi, केसर के मिश्रण से अभिषेक कीजिए in hindi, भगवान शिव को चमेली के फूल अर्पित करने से वाहन सुख की प्राप्ति होती है in hindi, भगवान शिव को बेलपत्रा अर्पित करने से सभी रागों से मुक्ति मिलती है in hindi, pavitr shravan month in hindi, shiv bhagwan ati prasan hote shravan month mein in hindi, shiv ko prasann karane ka saral upay in hindi, sab devataon ka asheevad ek sath prapt hota hai in hindi, chandrama ki dasha se mukti miltee hai in hindi, shiv shankar ne chandrama ko apane sir par dharan kiya in hindi, devi-devtaon ne jal varsha kee in hindi, shivaling ki pooja kaise karen in hindi, shivaling ki pooja vidhi in hindi, shivaling par lal rang ka prayog bhool se bhee na karen in hindi, shiv shankar prasann hote hai in hindi, belapatr ka prayog kare in hindi, dhaatoore ka prayog karen in hindi, doodh ka prayog karen in hindi, sabase dayalu shiv bhagwan in hindi, sheeghr phal dete hai in hindi, sheeghr prasann hote hai in hindi, har manokamana poori karate hai in hindi, shiv pooja se pran sankat ki dasha mit jati hai in hindi, maa parwati atoot bhakti se shiv ki prapti in hindi, shravan month mein man parwati ki shiv bhakti in hindi, moksh prapt hota hai in hindi, shiv-parwati vivah se vivah pratha shuroo huee in hindi, somavar ko shiv pooja jaroor keejie in hindi, somavar vrat vidhi in hindi, shravan month mein somavar ka mahatv in hindi, shiv pooja se grh klesh door hota hai in hindi, shiv pooja se sabhee grahon ka prakop door hota hai in hindi, shani ka prakop door hota hai in hindi, shravan month ke somavar vrat se man pasand jeevan sathi milta hai in hindi, nishchit shiv krpa prapt hoti hai in hindi, shravan month mein shiv-shakti ka milan in hindi, isee mahine bhagwan shiv ne samudr manthan se nikala vishpan karke srishti  ki raksha kee thee  in hindi, shravan mahina ka mahatva vibhinn prakar se hai in hindi, shravan mahina ka mahatva vibhinn prakar se hai in hindi, Redressal every misery-holy shravan month in hindi, The significance of the Shravan month for different type in hindi, In the same month Lord Shiva had protected the universe by poisoning the sea manthan in hindi, Raja bali in hindi, Do necessarily on monday in hindi, On the first monday conferred raw rice to Lord Shiva in hindi, Monday conferred white sesame to Lord Shiva on second in hindi, On the third Monday conferred whole moong dal to Lord Shiva in hindi, On the fourth Monday conferred barley to Lord Shiva in hindi, On the fifth Monday conferred Satua to Lord Shiva in hindi, How to worship Shivling in hindi,  Remembering Lord Shiva hin hindi, immerse the water of Shivling in copper utensils Gangajal is best in hindi,  ablution of Shivling with a mixture of milk in hindi, curd, ghee, honey, sugar and saffron in hindi, apply sandalwood ih hindi, Molly in hindi, Janeu in hindi,  clothes can conferred to shivling in hindi, Offer rice, sesame, perfume, flower, datura, baelptra 5, 11, 21, auspicious number in hindi, Never do it in hindi,  Shivaling should not be conferred related to vermilion, turmeric, red lowers and feminine beauty because Shivling is considered a symbol of masculinity in hindi, By doing this in hindi, life gets all this in hindi,  Lord Shiva gets pleasure by receiving the jasmine flowers, this brings pleasure to the vehicle in hindi, Lord Shiva gets pleasure by receiving the bell flowers & gives boon of  favorite life partner in hindi, Lord Shiva gets pleasure by receiving the dhatoora & gives boon of the worthy son in hindi,  Lord Shiva gets pleasure by receiving the baelptra & gets rid of all diseases in hindi, Lord Shiva gets pleasure by receiving the wheat & gives boon of children grow up in hindi, Lord Shiva gets pleasure by receiving the sesame & gives boon of liberation from sins in hindi, offering Lord Shiva rice brings wealth in hindi, conferred sugarcane juice to Lord Shiva, all kinds of happiness are attained in hindi, Rudrabhishek from Lord Shiva's cow's milk, doing so it gives along with the achievement of fame and Lakshmi & any kind of strife goes away in the house in hindi, consecration of Lord Shiva with cow ghee, Lord Shiva gives boon of an increase in lineage along with longevity in hindi, Consecration of Lord Shiva with mustard oil, success is achieved in every task as well as victory over the enemies in hindi, consecration with the honey of Lord Shiva gives liberation from TB in hindi, The condition of Saturn from the worship of Lord Shiva and the ill effects of the sadhesati automatically goes away in hindi, If there is any problem in the house then tease gaumutra in hindi, Freedom from these diseases in hindi, Worship of Lord Shiva or offering floral or baelptra in Shivaling, removes headache, eye disease, osteoporosis in hindi, By doing Rudri worship of Lord Shiva with the black sesame, cough, cold, nasal, blood pressure and mental troubles are removed in hindi, consecration of Shivalinga with the juice of Gilioya removes blood defects in hindi, Consecration of Shivaling with herb juice, removes skin diseases and kidney disease in hindi, Consecration of Shivaling with mixed milk & turmeric, it helps in lever, intestines and fats in hindi, consecration of Shivaling with panchamrit, honey, Dhrit, the physical weaknesses are removed in hindi, consecration of Shivaling with sugarcane juice and lassi, stomach disease, muscles disease are removed in hindi, Satvic meal should be done this month to get Shiva's grace in hindi, Holy Shravan month does prevention every  misery  in hindi, हर-दुखों-का-निवारण-करता-है-पवित्र-श्रावण-मास, पवित्र श्रावण मास  in hindi, श्रावण मास in hindi, संक्षमबनों इन हिन्दी में, संक्षम बनों इन हिन्दी में, sakshambano in hindi, saksham bano in hindi, Shiv ki pooja in hindi, Shiv ki pooja hindi, shiv ki pooja kaise, shiv ki pooja kaise in hidi, shiv ki pooja kaise hoti hai, shiv pooja vidhi in hindi, shiv pooja kaise hoti hai, bhagwan shiv in hindi, bholenath ki bhakti, bholenath ki bhakti in hidi, shiv kirpa in hindi, shiv ki kirpa in hindi, kaise hoti hai shiv kirpa in hindi, bholenath ki kirpa, shivling pooja, shiv pooja vidhi-vidhan in hindi, shiv shakti in hindi, shiv upasna in hindi, mahadev bhakti in hindi, mahadev ki kirpa, bholebaba ki kirpa, shiv shankar, shiv shankar in hindi, शिव की पूजा करने पर मिलती है ये शक्तियां in hindi, शिव पूजा एवं अभिषेक in hindi, भगवान शिव पूजा में न करें इन चीजों का प्रयोग in hindi, समस्त संकट मिटाने वाला सोमवार व्रत in hindi, श्रावण सोमवार व्रत in hindi, शिव-पार्वती का वरदान in hindi, क्यों सक्षमबनो इन हिन्दी में, क्यों सक्षमबनो अच्छा लगता है इन हिन्दी में?, कैसे सक्षमबनो इन हिन्दी में? सक्षमबनो ब्रांड से कैसे संपर्क करें इन हिन्दी में, सक्षमबनो हिन्दी में, सक्षमबनो इन हिन्दी में, सब सक्षमबनो हिन्दी में,अपने को सक्षमबनो हिन्दीं में, सक्षमबनो कर्तव्य हिन्दी में, सक्षमबनो भारत हिन्दी में, सक्षमबनो देश के लिए हिन्दी में,खुद सक्षमबनो हिन्दी में, पहले खुद सक्षमबनो हिन्दी में, एक कदम सक्षमबनो के ओर हिन्दी में, आज से ही सक्षमबनो हिन्दीें में,सक्षमबनो के उपाय हिन्दी में, अपनों को भी सक्षमबनो का रास्ता दिखाओं हिन्दी में, सक्षमबनो का ज्ञान पाप्त करों हिन्दी में,सक्षमबनो-सक्षमबनो हिन्दीें में, kiyon saksambano in hindi, kiyon saksambano achcha lagta hai in hindi, kaise saksambano in hindi, kaise saksambano brand se sampark  in hindi, sampark karein saksambano brand se in hindi, saksambano brand in hindi, sakshambano bahut accha hai in hindi, gyan ganga sakshambnao se in hindi, apne aap ko saksambano in hindi, ek kadam saksambano ki or in hindi,saksambano phir se in hindi, ek baar phir saksambano in hindi, ek kadam saksambano ki or in hindi, self saksambano in hindi, give advice to others for saksambano, saksambano ke upaya in hindi, saksambano-saksambano india in hindi, saksambano-saksambano phir se in hindi, भगवान शिव के अवतार hindi, Bhagwan Shiv Ke Avatars hindi,

हर दुखों का निवारण करता है - पवित्र श्रावण मास
(Relieves every suffering- Holy Shravan Month)
  • भगवान शिव की कृपा प्राप्ति के लिए श्रावण मास का अपना विशेष महत्व होता है। शिव आराधना से शिव और शक्ति दोनो का आर्शीवाद प्राप्त होता है। जो व्यक्ति दुख दद्रिता, निःसंतान और विवाह संयोग से बंचित है अवश्य ही भगवान शिव की अराधना या सोमवार का व्रत रखे। श्रावण माह में सोमवार का विशेष महत्व है। सोमवार चन्द्रमा का दिन है और चन्द्रमा की पूजा भी स्वयं भगवान शिव को स्वतः ही प्राप्त हो जाती है। क्योंकि चन्द्रमा भगवान शिव ने अपने सिर पर धारण किया है। इस महिने शिव पूजा से सभी देवी.देवताओं का आर्शीवाद स्वतः ही प्राप्त हो जाता है।
श्रावण महिने का महत्व विभिन्न प्रकार से है
(The importance of Shravan month is different)
  • जब सनत कुमारों ने भगवान शिव से इस पवित्र महिने के बारे में पूछा। तब भगवान शिव ने बताया कि सती ने अपने शरीर का त्याग करने से पहले शंकर भगवान को हर जन्म में पति के रूप में पाने का संकल्प किया। दूसरे जन्म में भगवान शिव को प्राप्त करने के लिए श्रावण के महिने कठोर व्रत रखा। भगवान शिव इससे अत्यन्त प्रसन्न हुए उन्होने मां पार्वती से विवाह किया, तभी से विवाह की यह प्रथा चली आ रही है।  श्रावण का यह पवित्र महिना भगवान शिव को अत्यधिक प्रिय है, इस महिने शिव पूजा से कुवारी कन्याओं को मनचाहा जीवन साथी प्राप्त होता है।
इसी महीने भगवान शिव ने विषपान करके सृष्टि की रक्षा की थी
(This month, Lord Shiva protected the world by poisoning it)
  • विषपान के बाद भगवान शिव का कंठ नीलवर्ण हो गया। विष के प्रभाव को कम करने के लिए तथा शरीर को शीतल रखने के लिए भगवान शिव ने चन्द्रमा को अपने सिर पर धारण किया। अन्य देवी-देवताओं ने जल का अभिषेक करने लगे, यहां तक इन्द्र देव ने जल की वर्षा की ताकि भगवान शिव के शरीर का तापमान को कम किया जाए,  इसलिए श्रावण के महिने अत्यधिक वर्षा होती है जिससे भगवान शिव अत्यधिक प्रसन्न होते है।
राजा बलि - Raja bali
  • बलि के अंहकार को मिटाने के लिए भगवान विष्णु ने अपने वामन अवतार में अवतरित हुए और बलि का उद्धार किया। इसके साथ-साथ राजा बलि को पाताल लोक का राजा बनाया। राज बलि ने भी भगवान विष्णु से ही अपने द्वारपाल बनने का वरदान प्राप्त किया। सृष्टि के पालन कर्ता द्वारपाल बन जाते तो सृष्टि कैसे चलती। इसका मतलब सृष्टि के कार्य में रूकावट इसलिए मां लक्ष्मी नेे इसका समाधान किया और उन्होंने राजा बलि को राखी के बंधन से बांध दिया और साथ ही भाई-बहन का रिस्ता बनाया। इसके साथ-साथ भाई ने भगवान विष्णु को मां लक्ष्मी को दे दिया और उन्हें इस बंधन से मुक्त कर दिया। तब से ही रक्षा बंधन का त्यौहार मनाया जाता है। राजा बलि ने भगवान विष्णु से अनुरोध किया - प्रभु हो सके तो साल में एक वार मुझे अवश्य दर्शन देवें भगवान विष्णु ने इस अनुरोध को स्वीकार किया। इसलिए भगवान विष्णु एकादशी के दिन पाताल लोक में राजा बलि के यहां चार महिने तक पहरा देने जाते हैं। और इन चार महिने तक सृष्टि का संचालन भगवान शिव करते है और तभी से श्रावण का पवित्र  मास शुरू होता है। इन चार महिनों तक खाने पीने का विशेष ध्यान देना चाहिए, हरी सब्जियों का से बचना चाहिए, एकादशी के दिन जो मनुष्य भगवान विष्णु का कमल पुष्पों से पूजन करता है  उसे तीनों देवताओं का फल प्राप्त होता है।
शिव की कृपा पाने के लिए इस महीने सात्विक भोजन करना चाहिए
(Satvic meal should be done this month to get Shiva's grace)
  • प्याज तथा लहसुन का सेवन नही करना चाहिए। सावन में अगर संभव हो तो दूध का सेवन न करें, इसलिए श्रावण में शिव भगवान का दूध से अभिषेक की परम्परा शुरू हुई । इसके साथ-साथ दूध पित्त रोग को बढ़ाने का काम करता है। मान्यता है कि श्रावण में हरी सब्जी का त्याग करने देने से विशेष पुण्य का फल प्राप्त होता है । इस महिने खाने में बैंगन न ले बैंगन अशुभ माना जाता है, श्रावण में  बैल अगर घर के दरवाजे पर आए तो उसे कुछ खाने को दें भगवान शिव की कृपा प्राप्त होती है।
 भगवान शिव द्वरा निश्चित रूप से मनोकामना पूर्ण होती  है 
Bhagwan Shiv dwara nishchit roop se manokamana poorn hoti hai
  सोमवार को जरूर कीजिये  
(Somvar ko jaroor keejiye)
  • पहले सोमवार को भगवान शिव को कच्चे चावल अर्पित करें।
  • दूसरे सोमवार को भगवान शिव को सफेद तिल अर्पित करें
  • तीसरे सोमवार को भगवान शिव को साबत मूग दाल अर्पित करें।
  • चौथे  सोमवार को भगवान शिव को जौ अर्पित करें।
  • पांचवे सोमवार को भगवान शिव को सतुआ अर्पित करें।
  कैसे करें शिव लिंग की पूजा 
(Kaise karein Shiv Ling ki Pooja)
  • शिव भगवान का स्मरण करते हुए ताम्बे के वर्तन में शिव लिंग का जलअभिषेक करें। गंगाजल अति उत्तम है।
  • दूध, दही, घी, शहद, शक्कर, केसर के मिश्रण से अभिषेक कीजिए।
  • चन्दन लगाइये ।
  • मौली, जनेऊ,  वस्त्र अर्पित कर सकते हैं।
  • चावल, तिल, इत्र, पुष्प, धतुरा, बेल पत्र 5, 11, 21, शुभ संख्या है अर्पित करें।
ऐसा कभी नही करना
(Aisa kabhi nahi karna)
शिवलिंग पर सिंदूर, हल्दी, लाल रंग के फूल तथा स्त्री सौंदर्य से सम्बंधित समान न अर्पित करें
क्योंकि शिवलिंग पुरुषत्व का प्रतीक माना जाता है।
  ऐसे करने से जीवन ये सब की प्राप्ति होती है  
(Aise karne se jeevan ye sab ki praapti hoti hai)
  • भगवान शिव को चमेली के फूल अर्पित करने से वाहन सुख की प्राप्ति होती है।
  • भगवान शिव को बेल के फूल अर्पित करने मनचाहा जीवन-साथी मिलता है।
  • भगवान शिव को धतूरे के फूल अर्पित करने से सुयोग्य पुत्र की प्राप्ति होती है।
  • भगवान शिव को बेलपत्र अर्पित करने से सभी रागों से मुक्ति मिलती है।
  • भगवान शिव को गेहूं अर्पित करने से संतान वृद्धि होती है।
  • भगवान शिव को जौ अर्पित करने से सुख में वृद्धि होती है।
  • भगवान शिव को तिल अर्पित करने से पापों से मुक्ति प्राप्त होती है।
  • भगवान शिव चावल अर्पित करने से धन की प्राप्ति होती है।
  • भगवान शिव को गन्ने का रस अर्पित करने से सभी प्रकार के सुख प्राप्त होते है।
  • भगवान शिव का गाय के दूध से रूद्रभिषेक करने से मनुष्य को यश और लक्ष्मी की प्राप्ति के साथ-साथ घर में किसी प्रकार कलह दूर हो जाता है।
  • भगवान शिव को गाय घी से अभिषेक करने से दीर्घायु के साथ-साथ वंश की वृद्धि होती है।
  • भगवान शिव को सरसों के तेल से अभिषेक करने से शत्रुओं पर विजय के साथ-साथ हर कार्य में सफलता प्राप्त होती है।
  • भगवान शिव का शहद से अभिषेक करने से टीबी रोग से मुक्ति मिलती है।
  • भगवान शिव की पूजा से शनि की दशा अथवा साढ़ेसाती का कुप्रभाव स्वतः चला जाता है।
  • अगर घर में कोई भी परेशानी चल रही है तो गौमूत्र का चिढ़काव करें।
  इन रोगों से मुक्ति मिलती है  
(In rogon se mukti milti hai)
  • भगवान शिव की पूजा या शिव लिंग में पुष्प या बेलपत्र  अर्पित करने से सिरदर्द, नेत्र रोग, अस्तिरोग दूर हो जाता है।
  • भगवान शिव का रूद्री पाठ काले तिल के साथ करने से खांसी, जुखाम, नज़ला, रक्तचाप तथा मानसिक परेशानी दूर हो जाती है।
  • शिवलिंग का गिलोये के रस से अभिषेक करने से रक्तदोष दूर हो जाता है।
  • शिवलिंग कां विदार या जड़ी-बूटी के रस से अभिषेक करने से चर्म रोग, गुर्दे का रोग दूर हो जाता है।
  • शिवलिंग का मिश्रित दूध और हल्दी से अभिषेक करने से लीवर, आतों एवं चर्बी करने में सहायता मिलती है।
  • शिवलिंग का पंचामृत, शहद, धृत से अभिषेक करने से शारीरिक कमजोरियां दूर हो जाती है।
  • शिवलिंग का गन्ने के रस तथा लस्सी से अभिषेक करने से वात, जोड़ों तथा मांस पेशियों का रोग दूर हो जाता है।
Holy Shravan month does prevention every misery 
  • Shravan month own special significance for achieving Lord Shiva’s grace. This worship gives bless of both Shiva and Shakt. The person who is deprived from sadness, destitute, occasion of marriage, they should do Lord Shiva's worship or should be do Monday's fast. Monday has special significance in the month of Shravan. Monday is the moon day the worship of moon also gets Lord Shiva himself. Because the moon Lord Shiva has put on his head. this month, the blessings of all Goddesses and Gods are received automatically by Shiv pooja. 
 The significance of the Shravan month is different type 
  • When Sanat Kumar asked Lord Shiva about this holy month. Then Lord Shiva told that Mata Sati before leaving his body & resolved to get Lord Shiv as a husband in every birth. In the second birth to receive Lord Shiva she kept harsh fast in the month of Shravan. Lord Shiva was very pleased with this & he married to Mata Parvati this is the tradition of marriage since then. This holy month of Shravan is very dear to Lord Shiva,   Lord Shiva worship gives good life partner for virgin girls who do so.
This month Lord Shiva had protected universe with poison
  • Shiva's throat became the blue after toxicity. To reduce the effect of toxin Lord Shiva placed the moon on his head to keep the body cold, Other gods and goddesses began to anoint water. Indra Dev used to rain water till temperature of Lord Shiva's body is reduce. Therefore there is excessive rainfall during the month of Shravan which makes Lord Shiva very pleased..
Raja bali
  • Lord Vishnu came in his Vaman incarnation to  erase the  ego of Raja bali & Lord Vishnu made king Bali the king of patal lok. King Bali also received a boon from Lord Vishnu to become his gatekeeper. When the creator of the universe became the gatekeeper then how to walks universe? It means interrupt the creation, so maa Lakshmi solved this problem. Maa Lakshmi tied Bali alongwith Rakhi and made brother-sister. Along with this the brother gave Lord Vishnu to mother Lakshmi and he freed them from this bondage. Since then the festival of Raksha Bandhan is celebrated. King Bali requested Lord Vishnu if possible come to me once in a year Lord Vishnu accepted this request therefore on Ekadashi Lord Vishnu go inferno folk & made concierge themselves for four months and Lord Shiva operates the universe for these four months and since then the holy month of Shravan starts. These four months should be given special attention to eating, green vegetables should be avoided, On the day of Ekadashi that person who worship Lord Vishnu with Lotus flowers he receives the blessing of the three gods.

click here » शिव की पूजा से काल का भय कैसे ? 
(Kaalsarp ka prakop kaise? Shiv ki pooja se kaal ka bhay kaise?)

Satvic meal should be done this month to get Shiva's grace 
  • Onions and garlic should not be consumed, do not drink milk if possible in the shravan month the tradition of milk is began with Lord Shiva. Milk does increase of biliary disease. It is believed that giving up the green vegetable in Shravan month the special grace of God Shiva is obtained. Don't take eggplant in eat this month is considered inauspicious, should be give to somlthing eat to bulls in holy month, they receive Lord Shiva grace.
Do this on Monday 
  • On the first Monday conferred raw rice to Lord Shiva.
  • Ont the second Monday conferred white sesame to Lord Shiva.
  • On the third Monday conferred whole moong dal to Lord Shiva.
  • On the fourth Monday conferred barley to Lord Shiva.
  • On the fifth Monday conferred Satua to Lord Shiva.
How to worship Shivling 
  • Remembering Lord Shiva, immerse the water of Shivling in copper utensils. 
  • Gangajal is best.
  • Consecration of Shivling with a mixture of milk, curd, ghee, honey, sugar and saffron.
  • Apply sandalwood.
  • Molly, Janeu & clothes can conferred to shivling.
  • Offer rice, sesame, perfume, flower, datura, baelptra 5, 11, 21, auspicious number.
Never do it 
  • Shivaling should not be conferred related vermilion, turmeric, red lowers and feminine beauty because Shivling is considered a symbol of masculinity.
By doing this, all this is achieved 
  • Lord Shiva gets pleasure to receiving the jasmine flowers this brings pleasure of vehicle.
  • Lord Shiva gets pleasure to receiving the baelptra  flowers it gives boon of favorite life partner.
  • Lord Shiva gets pleasure by receiving the dhatoora it gives boon of the worthy son.
  • Lord Shiva gets pleasure by receiving the baelptra  it gets rid of all diseases.
  • Lord Shiva gets pleasure by receiving the wheat it gives boon to increase children's. 
  • Lord Shiva gets pleasure by receiving the sesame it gives boon of liberation from sins.
  • Lord Shiva gets pleasure by receiving rice it gives boon for wealth.
  • Lord Shiva gets pleasure by sugarcane juice it gives all kinds of happiness are attained.
  • Lord Shiva gets pleasure to cow's milk by Rudrabhishek it gives fame and Lakshmi & any kind of strife goes from house.
  • Anointment of Lord Shiva with cow ghee, Lord Shiva gives boon of an increase in lineage along with longevity.
  • Anointment of Lord Shiva with mustard oil, success is achieved in every task as well as victory over the enemies.
  • Anointment with the honey of Lord Shiva it gives liberation from TB.
  • The condition of Saturn from the worship of Lord Shiva and the ill effects of the sadhesati automatically goes away.
  • If there is any problem in the house then tease gaumutra. 
 Freedom from these diseases 
  • If do worship of Lord Shiva with floral-baelptra it removes headache, eye disease, osteoporosis.
  • If do worship of Lord Shiva with black sesame it removes cough-cold, nasal, blood pressure and mental troubles.
  • If do anointment of Shivalinga with the juice of gilioya it removes blood defects.
  • If do anointment of Shivaling with herb juice it removes skin diseases and kidney disease.
  • If do anointment of Shivaling with mixed milk & turmeric it helps in lever, intestines and fats.
  • If do Anointment of Shivaling with panchamrit, honey, Dhrit it removes physical weaknesses.
  • If do Anointment of Shivaling with sugarcane juice and lassi it removes stomach disease, muscles disease.

भगवान शिव के अवतार- Bhagwan Shiv Ke Avatars
click here » भगवान शिव का किरात अवतार Kirat Avatar
click here » शिव का रौद्र अवतार-वीरभद्र