ऋषि कश्यप का अंश हैं समस्त प्राणी - Rshi Kashyap Ka Ansh Hain Samast Prani

Share:


rshi kashyap ka ansh hain samast prani in hindi, samast prani , rshi kashyap ka ansh hain  in hindi, ऋषि कश्यप का अंश हैं समस्त प्राणी in hindi, समस्त प्राणी  ऋषि कश्यप का अंश हैं in hindi, ऋषि कश्यप in hindi, कश्यप ऋषि in hindi, kashyap rishi in hindi, kashyap rishi ke bare mein in hindi, kashyap rishi se sampoon jaati ki utpati in hindi, ब्रहमा जी के 6 मानस पुत्रों में से एक मरीचि थे in hindi, इनके पुत्र कश्यप ऋषि ने प्रजापति दक्ष की 17 कन्याओं से विवाह किया in hindi, पुराणों के अनुसार सब मनुष्य कश्यप ऋषि की संतान है in hindi, सारी जातियां महर्षि कश्यप की इन्हीं 17 पत्नियों की संतानें है in hindi, कश्यप ऋषि के पुत्र विस्वान से मनु का जन्म हुआ in hindi, महाराज को इक्ष्वाकु in hindi, ऋषि पत्नियों द्वारा उत्पन्न विभिन्न प्राणी  in indi, अदिति in hindi, प्रजापति दक्ष की पुत्री और कश्यप ऋषि की पत्नी अदिति ने तेजस्वी पुत्र देवराज इन्द्र को जन्म दिया in hindi, दिति in hindi, कश्यप ऋषि की पत्नी दिति से हिरण्यकश्यप और हिरण्याक्ष नाम दो पुत्र एवं एक पुत्री सिंहिका का जन्म हुआ in hindi, पुराणों के अनुसार इन तीन पुत्रों के अलावा दिति ने 49 और पुत्रों को जन्म दिया in hindi, यह पुत्र मरून्दण से जाने जाते है सभी पुत्र निःसंतान रहे। हिरण्यकश्यप के चार पुत्र थे in hindi, अनुहल्लाद in hindi, हल्लाद in hindi, प्रहलाद in hindi, संहलाद in hindi, दनु in hindi, दनु के गर्भ से द्विमुर्धा in hindi, शम्बर in hindi, अरिष्ट in hindi, विभावसु in hindi, अरुण in hindi अनुतापन in hindi, हयग्रीव in hindi, धूम्रकेश in hindi, तारक in hindi, विरूपाक्ष in hindi, दुर्जय in hindi, शंकुशिरा in hindi, कपिल in hindi, शंकर in hindi, अयोमुख in hindi, एकचक्र in hindi, महाबाहु in hindi,  महाबल in hinndi, स्वर्भानु in hindi वृषपर्वा in hindi, महाबली पुलोम in hindi, विप्रचिति in hindi काष्ठा in hindi घोड़े आदि एक खुर वाले पशु उत्पन्न हुए in hindi, अनिष्ठा in hindi, गन्धर्व को संतान के रूप में उत्पन्न किया in hindi, सुरसा in hindi, यातुघान राक्षस उत्पन्न हुआ in hindi, इला in hindi, वृक्ष, लता इत्यादि पृथ्वी पर उत्पन्न होने वाली वनस्पतियों को उत्पन्न किया in hindi, मुनि in hindi, सुन्दर अप्सरा उत्पन्न हुई in hindi, करोधवशा in hindi, सर्प in hindi, विच्छु in hindi, in hindi आदि विषैले जन्तु उत्पन्न हुए in hindi, सुरभि in hindi, गाय in hindi, भैस in hindi, और दो खुर वाले पशुओं को उत्पन्न किया in hindi, सरसा in hindi, बाघ in hindi, जैसे हिंसक जीव को संतान के रूप में उत्पन्न किया in hindi, ताम्रा in in hindi,  बाज in hindi, गिद्ध in hindi, आदि शिकारी पक्षियों को उत्पन्न किया in hindi, तिमि :  जलचर जन्तुओं को अपनी संतान के रूप में उत्पन्न किया in hindi, विनता in hindi, गरुड़ विष्णु का वाहन और वरुण सूर्य का सारथि उत्पन्न हुए in hindi, कद्रु in hindi, शेष नाग in hindi, वासुकिनाग in hindi, तक्षक नाग in hindi, कर्कोटक नाग in hindi, धृतराष्ट्र नाग in hindi, कालिया नाग in hindi, पतंगी in hindi, पक्षियों को अपनी संतान के रूप में उत्पन्न किया in hindi, यामिनी in hindi, शलभ या पंतगों को अपनी संतान के रूप में उत्पन्न किया। यामिनी in hindi, शलभ या पंतगों को अपनी संतान के रूप में उत्पन्न किया in hindi, kashyap rishi kaun hai hindi, kashyap rishi ki kahani in hindi, संक्षमबनों इन हिन्दी में, संक्षम बनों इन हिन्दी में, sakshambano in hindi, saksham bano in hindi, क्यों सक्षमबनो इन हिन्दी में, क्यों सक्षमबनो अच्छा लगता है इन हिन्दी में?, कैसे सक्षमबनो इन हिन्दी में? सक्षमबनो ब्रांड से कैसे संपर्क करें इन हिन्दी में, सक्षमबनो हिन्दी में, सक्षमबनो इन हिन्दी में, सब सक्षमबनो हिन्दी में,अपने को सक्षमबनो हिन्दीं में, सक्षमबनो कर्तव्य हिन्दी में, सक्षमबनो भारत हिन्दी में, सक्षमबनो देश के लिए हिन्दी में,खुद सक्षमबनो हिन्दी में, पहले खुद सक्षमबनो हिन्दी में, एक कदम सक्षमबनो के ओर हिन्दी में, आज से ही सक्षमबनो हिन्दीें में,सक्षमबनो के उपाय हिन्दी में, अपनों को भी सक्षमबनो का रास्ता दिखाओं हिन्दी में, सक्षमबनो का ज्ञान पाप्त करों हिन्दी में,सक्षमबनो-सक्षमबनो हिन्दीें में, kiyon saksambano in hindi, kiyon saksambano achcha lagta hai in hindi, kaise saksambano in hindi, kaise saksambano brand se sampark  in hindi, sampark karein saksambano brand se in hindi, saksambano brand in hindi, sakshambano bahut accha hai in hindi, gyan ganga sakshambnao se in hindi, apne aap ko saksambano in hindi, ek kadam saksambano ki or in hindi,saksambano phir se in hindi, ek baar phir saksambano in hindi, ek kadam saksambano ki or in hindi, self saksambano in hindi, give advice to others for saksambano, saksambano ke upaya in hindi, saksambano-saksambano india in hindi, saksambano-saksambano phir se in hindi,, ऋषि-पत्नियों-द्वारा-उत्पन्न-विभिन्न-प्राणी,अदिति-दिति-दनु-काष्ठा-अनिष्ठा-सुरसा-इला-मुनि-करोधवशा-सुरभि-सरसा-ताम्रा-तिमि-विनता-कद्रु-पतंगी-यामिनी-यामिनी

  समस्त प्राणी ऋषि कश्यप का अंश हैं  
ऋषि कश्यप का अंश हैं समस्त प्राणी 
(Rshi Kashyap ka ansh hain samast prani)
  • ब्रहमा जी के 6 मानस पुत्रों में से एक मरीचि थेे और इनके पुत्र कश्यप ऋषि ने प्रजापति दक्ष की 17 कन्याओं से विवाह किया। पुराणों के अनुसार सब मनुष्य कश्यप ऋषि की संतान है। सारी जातियां महर्षि कश्यप की इन्हीं 17 पत्नियों की संतानें है। कश्यप ऋषि के पुत्र विस्वान से मनु का जन्म हुआ महाराज को इक्ष्वाकु,  धृष्ट, नाभाग, शर्याति, नृग, नरिश्यन्त, दिष्ट, प्रान्शु, पृषध्र, करूष, नामक दस पुत्रों की प्राप्ति हुई। 
ऋषि पत्नियों द्वारा उत्पन्न विभिन्न प्राणी 
  • अदिति : प्रजापति दक्ष की पुत्री और कश्यप ऋषि की पत्नी अदिति ने तेजस्वी पुत्र देवराज इन्द्र को जन्म दिया।
  • दिति : कश्यप ऋषि की पत्नी दिति से हिरण्यकश्यप और हिरण्याक्ष नाम दो पुत्र एवं एक पुत्री सिंहिका का जन्म हुआ। पुराणों के अनुसार इन तीन पुत्रों के अलावा दिति ने 49 और पुत्रों को जन्म दिया। यह पुत्र मरून्दण से जाने जाते है सभी पुत्र निःसंतान रहे। हिरण्यकश्यप के चार पुत्र थे, अनुहल्लाद, हल्लाद, प्रहलाद, संहलाद।
  • दनु : दनु के गर्भ से द्विमुर्धा, शम्बर, अरिष्ट, विभावसु, अरुण, अनुतापन, हयग्रीव, धूम्रकेश, तारक, विरूपाक्ष, दुर्जय, शंकुशिरा, कपिल, शंकर, अयोमुख, एकचक्र, महाबाहु,  महाबल, स्वर्भानु, वृषपर्वा, महाबली पुलोम, विप्रचिति इत्यादि 61 पुत्रों की प्राप्ति हुई।
  • काष्ठा : घोड़े आदि एक खुर वाले पशु उत्पन्न हुए।
  • अनिष्ठा : गन्धर्व को संतान के रूप में उत्पन्न किया।
  • सुरसा : यातुघान राक्षस उत्पन्न हुआ।
  • इला : वृक्ष, लता इत्यादि पृथ्वी पर उत्पन्न होने वाली वनस्पतियों को उत्पन्न किया।
  • मुनि : सुन्दर अप्सरा उत्पन्न हुई।
  • करोधवशा : सर्प, विच्छु आदि विषैले जन्तु उत्पन्न हुए।
  • सुरभि : गाय, भैस और दो खुर वाले पशुओं को उत्पन्न किया।
  • सरसा : बाघ जैसे हिंसक जीव को संतान के रूप में उत्पन्न किया।
  • ताम्रा :  बाज, गिद्ध आदि शिकारी पक्षियों को उत्पन्न किया।
  • तिमि : जलचर जन्तुओं को अपनी संतान के रूप में उत्पन्न किया।
  • विनता : गरुड़ विष्णु का वाहन और वरुण सूर्य का सारथि उत्पन्न हुए।
  • कद्रु : शेष नाग, वासुकिनाग, तक्षक नाग, कर्कोटक नाग, धृतराष्ट्र नाग, कालिया नाग इत्यादि नागों को उत्पन्न किया।
  • पतंगी :  पक्षियों को अपनी संतान के रूप में उत्पन्न किया।
  • यामिनी : शलभ या पंतगों को अपनी संतान के रूप में उत्पन्न किया।