धनवान बनने के लिए माँ लक्ष्मी के 18 पुत्रों के नाम का जाप करें-Dhanwan banne ke liye Maa Lakshmi ke 18 putro ka jaap

Share:


मातु लक्ष्मी करि कृपा, करो हृदय में वास । मनोकामना सिद्ध करि, परुवहु मेरी आस।। in hindi, धनवान बनने के लिए माँ लक्ष्मी के 18 पुत्रों के नाम का जाप करें  in hindi, To become rich, chant the name of the 18 sons of mother Lakshmi in hindi,  ऊँ देवसखाय नमः in hindi,  om devasakhay namah in hindi, 2. ऊँ चिक्लीताय नमः in hindi, om chikleetay namah in hindi, 3. ऊँ आनन्दाय नमः in hindi, om anandaya namah in hindi, 4. ऊँ कर्दमाय नमः in hindi,  om kardamay namah in hindi, 5. ऊँ श्रीप्रदाय नमः in hindi, om shreepraday namah in hindi, 6. ऊँ जातवेदाय नमः in hindi, om jataveday namah in hindi, 7. ऊँ अनुरागाय नमः in hindi,  om anuragay namah in hindi, 8. ऊँ सम्वादाय नमः in hindi, om samvaday namah in hindi, 9. ऊँ विजयाय नमः in hindi, om vijayay namah in hindi, 10. ऊँ वल्लभाय नमः i  om vallabhay namah in hindi, 11. ऊँ मदाय नमः in hindi,  om maday namah in hindi, 12. ऊँ हर्षाय नमः in hindi, om harshay namah in hindi, 13. ऊँ बलाय नमः in hindi,  om balay namah in hindi, 14. ऊँ तेजसे नमः in hindi, om tejase namah in hindi, 15. ऊँ दमकाय नमः in hindi, om damakay namah in hindi, 16. ऊँ सलिलाय नमः in hindi,  om salilay namah in hindi, 17. ऊँ गुग्गुलाय नमः in hindi, om guggulay namah in hindi, 18. ऊँ कुरूण्टकाय नमः   om kuroontakay namah in hindi, शुकवार का दिन माँ लक्ष्मी पूजा के लिए अति शुभ होता है in hindi, शुक्रवार को माँ लक्ष्मी के इन सभी रूपों की गुण-गान करने असीम कृपा की प्राप्ति होती है in hindi, माँ लक्ष्मी के आठ रूप माने गये है in hindi, Friday is very auspicious for Maa Lakshmi Pooja in hindi, By worshiping all these forms of Maa Lakshmi on Friday infinite grace is attained in hindik, Maa Lakshmi considered in eight forms, these forms have their own importance in hindi, माँ लक्ष्मी के आठ रूप  in hindi, Eight forms of Mother Lakshmi in hindi, 1. सबसे पहला लक्ष्मी अवतार है जो कि ऋषि भृगु की बेटी के रूप में है in hindi, The first Lakshmi incarnation is as the daughter of Rishi Bhrigu in hindi, 2. धन लक्ष्मी in hindi, Dhan Lakshmi in hindi,  3. धन्य लक्ष्मी in hindi,  Dhany Lakshmi in hindi, 4. गज लक्ष्मी in hindi, Gaj Lakshmi in hindi, 5. सनातना लक्ष्मी  Sanatana Lakshmi  6. वीरा लक्ष्मी  Veera Lakshmi, in hindi, 7. विजया लक्ष्मी in hindi,  Vijaya Lakshmi in hindi,  8. विद्या लक्ष्मी in hindi, Vidya Lakshmi in hindi, धनवान कैसे बने? In hindi,  धनवान बनने के उपाय in hindi, धनवान कौन बनाता है in hindi, माँ लक्ष्मी कैसे धनवान बनाती in hindi? माँ लक्ष्मी धनवान बनाती है in hindi, माँ लक्ष्मी के मंत्रों द्वारा करोड़पति बने in hindi, माँ लक्ष्मी के 18 पुत्रों के नाम धनवान बनाते है in hindi, धनवान बनने के लिए माँ लक्ष्मी के पुत्रों का जाप करें in hindi, शुक्रवार को पूजा करें in hindi, माँ लक्ष्मी चालीसा in hindi, माँ लक्ष्मी चालीसा हिन्दी में in hindi, माँ लक्ष्मी चालीसा का पाठ हिन्दी में in hindi, माँ लक्ष्मी कब बनाती है धनवान in hindi, माँ लक्ष्मी कैसे प्रसन्न होती है in hindi, माँ लक्ष्मी की कृपा कैसे प्राप्त होती है in hindi, माँ लक्ष्मी चालीसा in hindi, Maa Lakshmi Chalisa in hindi, जय जय जगत जननि जगदम्बा, सबकी तुम ही हो अवलम्बा in hindi, तुम ही हो सब घट घट वासी, विनती यही हमारी खासी in hindi, त्राहि त्राहि दुःख हरिणी, हरो वेगि सब त्रास in hindi, जयति जयति जय लक्ष्मी, करो शत्रु का नाश in hindi, धनवान-बनने-के-लिए-माँ-लक्ष्मी-के-18-पुत्रों-के-नाम-का-जाप-करें, धनवान बनने के लिए माँ लक्ष्मी के 18 पुत्रों के नाम का जाप in hindi, संक्षमबनों इन हिन्दी में, संक्षम बनों इन हिन्दी में, sakshambano in hindi, saksham bano in hindi, क्यों सक्षमबनो इन हिन्दी में, क्यों सक्षमबनो अच्छा लगता है इन हिन्दी में?, कैसे सक्षमबनो इन हिन्दी में? सक्षमबनो ब्रांड से कैसे संपर्क करें इन हिन्दी में, सक्षमबनो हिन्दी में, सक्षमबनो इन हिन्दी में, सब सक्षमबनो हिन्दी में,अपने को सक्षमबनो हिन्दीं में, सक्षमबनो कर्तव्य हिन्दी में, सक्षमबनो भारत हिन्दी में, सक्षमबनो देश के लिए हिन्दी में,खुद सक्षमबनो हिन्दी में, पहले खुद सक्षमबनो हिन्दी में, एक कदम सक्षमबनो के ओर हिन्दी में, आज से ही सक्षमबनो हिन्दीें में,सक्षमबनो के उपाय हिन्दी में, अपनों को भी सक्षमबनो का रास्ता दिखाओं हिन्दी में, सक्षमबनो का ज्ञान पाप्त करों हिन्दी में,सक्षमबनो-सक्षमबनो हिन्दीें में, kiyon saksambano in hindi, kiyon saksambano achcha lagta hai in hindi, kaise saksambano in hindi, kaise saksambano brand se sampark  in hindi, sampark karein saksambano brand se in hindi, saksambano brand in hindi, sakshambano bahut accha hai in hindi, gyan ganga sakshambnao se in hindi, apne aap ko saksambano in hindi, ek kadam saksambano ki or in hindi,saksambano phir se in hindi, ek baar phir saksambano in hindi, ek kadam saksambano ki or in hindi, self saksambano in hindi, give advice to others for saksambano, saksambano ke upaya in hindi, saksambano-saksambano india in hindi, saksambano-saksambano phir se in hindi,, To-become-rich-chant-the-name-of-the-18-sons-of-maa-Lakshmi, lakshmi ki pooja hindi, lakshmi ki pooja se lakshmi ki prapti hindi, dhan kaise milta hai hindi, dhan ke devi hindi, kaise karein lakshmi ki pooja hindi, maa lakshmi ke safal pooja hindi, maa lakshmi ko kaise prasan karte hai hindi, maa lakshmi ka jaap hindi, maa lakshmi ka jaap kaise karein hindi, devi lakshmi ki pooja hindi, lakshmi-granesh pooja hindi, ek saath lakshmi ganesh pooja hindi,

मातु लक्ष्मी करि कृपा, करो हृदय में वास ।
मनोकामना सिद्ध करि, परुवहु मेरी आस।।

धनवान बनने के लिए माँ लक्ष्मी के 18 पुत्रों के नाम का जाप करें 
To become rich, chant the name of the 18 sons of Maa Lakshmi

ऊँ बलाय नमः। om balay namah।
ऊँ तेजसे नमः। om tejase namah।
ऊँ मदाय नमः। om maday namah।
ऊँ हर्षाय नमः। om harshay namah।
ऊँ सलिलाय नमः। om salilay namah।
ऊँ विजयाय नमः। om vijayay namah।
ऊँ दमकाय नमः। om damakay namah।
ऊँ कर्दमाय नमः। om kardamay namah।
ऊँ गुग्गुलाय नमः। om guggulay namah।
ऊँ वल्लभाय नमः। om vallabhay namah।
ऊँ आनन्दाय नमः। om anandaya namah।
ऊँ श्रीप्रदाय नमः। om shreepraday namah।
ऊँ जातवेदाय नमः। om jataveday namah।
ऊँ अनुरागाय नमः। om anuragay namah।
ऊँ सम्वादाय नमः। om samvaday namah।
ऊँ देवसखाय नमः। om devasakhay namah।
ऊँ चिक्लीताय नमः। om chikleetay namah।
ऊँ कुरूण्टकाय नमः। om kuroontakay namah।

माँ लक्ष्मी के आठ रूप
(Eight forms of Maa Lakshmi)
 सबसे पहला लक्ष्मी अवतार है जो कि ऋषि भृगुु की बेटी के रूप में है।
The first Lakshmi incarnation is as the daughter of Rishi Bhrigu
धन लक्ष्मी  (Dhan Lakshmi)
धन्य लक्ष्मी  (Dhany Lakshmi)
गज  लक्ष्मी  (Gaj Lakshmi)
सनातना लक्ष्मी  (Sanatana Lakshmi )
वीरा लक्ष्मी (Veera Lakshmi)
विजया लक्ष्मी  (Vijaya Lakshmi)
विद्या लक्ष्मी (Vidya Lakshmi)


माँ लक्ष्मी चालीसा
(Maa Lakshmi Chalisa)

जय जय जगत जननि जगदम्बा, सबकी तुम ही हो अवलम्बा।
तुम ही हो सब घट घट वासी, विनती यही हमारी खासी।।
जगजननी जय सिन्धु कुमारी, दीनन की तुम हो हितकारी।
विननौ नित्य तुमहि महारानी, कृपा करो जग जननि भवानी।।
केहि विधि स्तुति करो तिहारी, सुधि अपराध बिसार।
कृपा दृष्टि चित वो मम ओरी, जगजननी विनती सुन मोरी।।
ज्ञान बुद्धि जय सुख की दाता, संकट हरौ हमारी माता।
 क्षीर सिन्धु जब विष्णु मथायो, चौदह रत्न सिन्धु में पायो।।
चौदह रत्न में तुम सुखरासी, सेवा कियो प्रभु बनि दासी।
जब-जब जन्म प्रभु जहां लीन्हा, रूप बदल वही सेवा कीन्हा।।
स्वयं विष्णु जब नर तनु धारा, लीन्हेउ अवधपुरी अवतारा।
जब तुम प्रगट जनकपुर माहीं, सेवा कियो हृदय पुलकाहिं।।
अपनाया तोहि अन्तर्यामी, विश्व विदित त्रिभुवन की स्वामी।
तुम सम प्रबल शक्ति नही आनी, कहं तक महिमा कहौं बखानी।।
मन कर्म वचन करै सेवकाई, मन इच्छित वांछित फल पाई।
तजि छल कपट और चतुराई, पूजहिं विविध विधि मन लाई।।
और हाल मैं कहौ बुझाई, जो यह पाठ करै मन लाई।
ताको कोई कष्ट न होई, मन इच्छित पावै फल सोई।।
त्राहि त्राहि जय दुःख निवारिणी त्रिविध ताप भव बंधन हारिणी।
जो यह चालीसा पढ़ै पढ़ावै, ध्यान लगाकर सुने सुनावै।।
ताकौ कोई न रोग सतावै, पुत्र आदि धन सम्पत्ति पावै।
पुत्रहीन और संपत्ति हीना, अन्ध बधिर कोढ़ी अति दीना।।
विप्र बोलाय कै पाठ करावै, शंका दिल में कभी न लावै।
पाठ करावै दिन चालीसा, ता पर कृपा करै गौरीसा।।
सुख सम्पत्ति बहुत सी पावै, कमी नहीं काहू की आवै।
बारह मास करै जो पूजा, तेहि सम धन्य और नाहिं दूजा।।
प्रतिदिन पाठ करै मन माही, उन सम कोई जग में कहुुं नाहीं।
बहुविधि क्या मैं करौं बड़ाई, लेह परीक्षा ध्यान लगाई।।
करि विश्वास करै व्रत नेमा, होय सिद्ध उपजै उर प्रेमा।
जय जय जय लक्ष्मी भवानी, सब में व्यापिक हो गुण खानी।।
तुम्हरो तेज प्रबल जग माहि, तुम सम कोउ दयालु कहुं नाहिं।
मोहि अनाथ की सुधि अब लीजै, संकट काटि भक्ति मोहि दीजै।।
भूल चूक करि क्षमा हमारी, दर्शन दजै दशा निहारी।
बिन दर्शन व्याकुल अधिकारी, तुमहि अछत दुःख सहते भारी।।
नाहिं मोहिं ज्ञान बुद्धि है तन में, सब जानत हो अपने मन में।
रूप चतुभुर्ज करके धारण, कष्ट मोर अब करहु निवारण।।
केहि प्रकार में करौं बड़ाई, ज्ञान बुद्धि मोहि नाहिं अधिकाई।।
त्राहि त्राहि दुःख हरिणी, हरो वेगि सब त्रास।
जयति जयति जय लक्ष्मी, करो शत्रु का नाश।।

शुकवार का दिन माँ लक्ष्मी पूजा के लिए अति शुभ होता है। शुक्रवार को माँ लक्ष्मी के इन सभी रूपों की गुण-गान करने असीम कृपा की प्राप्ति होती है। माँ लक्ष्मी के आठ रूप माने गये है इन रूपों का अपना अलग-अलग महत्व है। Friday is very auspicious for Maa Lakshmi Pooja. By worshiping all these forms of Maa Lakshmi on Friday infinite grace is attained. There are eight forms of Goddess Lakshmi. These forms have their own different significance.