कुछ समय इस दायित्व के लिए (kuch samay es dayitv ke liye)

Share:


कुछ समय इस दायित्व के लिए  in hindi, kuch samay es dayitv ke liye in hindi, ऐसा समय चल रहा है in hindi, अगर इस पर गंभीरता से विचार न किया गया तो यह हमारी दैविक संस्कृति और संस्कार किताबों तक ही रह जायेगे in hindi, आज के युग में बच्चों की धार्मिक शिक्षा प्रारम्भ से होना अति आवश्यक है in hindi, इसका महत्व भी शिक्षा के बराबर होना चाहिए in hindi, अगर बच्चों की धार्मिक शिक्षा के गुरु माता-पिता स्वयं बन जाए in hindi, वातावरण में कुछ परिवर्तन अवश्य होगा in hindi, मनुष्य जीवन में हर माता-पिता का यह एक परम कर्तव्य है in hindi,  बच्चों को परमपिता परमेश्वर द्वारा निर्मित कर्तव्यों पर चलने के लिए प्रेरित  करे in hindi, इस सच्चाई से दूरी क्यों ? in hindi, धार्मिक विचार वाला व्यक्ति सम्पूर्ण परिवार में खुशी के अनुभूति करता है in hindi, इसका फल तीन पीढ़ियों तक प्राप्त होता है in hindi, बाल्यकाल से ही बच्चों में ईश्वरीय शक्तियों का ज्ञान जरूरी है in hindi, कुछ पल के लिये ही सही बच्चों को अपने साथ पूजा-पाठ में सम्मिलित करें in hindi, उनमें ऐसा करने की आदत डाले in hindi, समय के साथ उनमें  धार्मिक भावना अवश्य आयेगी in hindi, यह ऐसी भावना है in hindi, समस्त बुराईयों को दूर करती है in hindi, यह पूर्ण सच्चाई है in hindi, इस भावना को अपने और अपनों के मन रूपी मन्दिर में निवास करने दे in hindi, स्वयं के साथ-साथ उनके लिए भी सुख की कामना  in hindi, ऐसे वातावरण की उन्नति हुई in hindi, जिसने अपनों से ही कुछ कहने में संकोच की भावना जागृत कर दी in hindi, कहने से पहले ही परिणाम के बारे में सोचने लगते है in hindi, इस संकोच के तहत कुछ कह न पाये in hindi, अगर किसी से कुछ कहे in hindi, उनके पास सुनने के लिए समय नही in hindi, अगर किसी ने सुन भी लिया तो उसको पूरा करने के लिए समय नही in hindi, समय होने के वावजूद भी समय नही in hindi, यही है अपनों का उत्तर in hindi, ऐसे वातावरण में सुख की कामना कैसे? In hindi, अपनी कर्तव्य निष्ठा के साथ-साथ बच्चों को कर्तव्यवान की शिक्षा भी जरूरी है in hindi, संस्कारों के प्रति हमारे कदम पीछे रह गये in hindi, संस्कारों को पुनः उज्जवलित करना है in hindi, इस वातावरण को दूर करना है in hindi, एक ऐसे वातावरण की आवश्यकता है in hindi, हम सब अपनों से निःकोच अपनी बात कह सके in hindi, घर को सुखधाम बनाने का संकल्प in hindi, इस पावन भूमि पर सत्य और धर्म की रक्षा के लिए भगवान स्वयं विभिन्न युगों में अवतरित हुये in hindi,  सभी सच्चाई को ऋषि-मुनियों अपने-अपने लेखों के द्वारा अमर किया है in hindi, पवित्र धार्मिक पुस्तकों में हर सच्चाई अंकित है in hindi, सच्चाइयों से अपना मार्ग सुनयोजित करना है in hindi, दूसरों को भी इस मार्ग पर चलते रहने के लिए प्रेरित करना है in hindi, घर सुखधाम बन सके in hindi, Some time for this obligation in hindi, This time is going on if it was not seriously considered so this is our divine culture and sacrament will remain only in books in hindi, In today's era it is necessary for children to start religious education from the beginning in hindi, Its importance should be equal to education in hindi. If the parents of children's religious education become themselves then there will be some changes in the environment. This is an absolute duty of every parent in human life to Encourage the children to walk on the God-created obligation. In hindi, Why the distance from this veracity? In hindi, A person with a religious thought feels happy in the whole family in hindi, Its aftereffect gets up to three generations in hindi. From childhood knowledge of divine powers is necessary in children in hindi, Insert the children's with you for a few moments in worship, have a habit of doing so in them. One time they will come in a religious sense. It is a feeling that removes all evils this is the whole truth. Let this feeling reside in the heart & mind yourself. In hindi, Wishing happiness for themselves for them too in hindi, Such an environment has progressed who has sensed the feeling of hesitation to say something only to himself. Before saying it starts thinking about the result, Do not say anything because of this hesitation. If you say something to someone, they do not have time to listen, If anybody listens, then there is no time to complete it, despite the time, there is no time. This is the answer to your, how to wish happiness in such an environment?. In hindi, Along with their conscientiousness the education of the dutiful children is also important for the children. Our steps are behind the sacraments. Sacraments are to be bright again, overcome this environment. An environment is needed, We all can speak freely to our own. In hindi, Pledge to make home of happiness & prosperity in hindi, To protect the truth and religion on this holy land, Lord Himself evolved in different ages. To protect the truth and religion on this holy land, Lord Himself appeared in different era. All these truths have been immortalized by the Sage on their own articles. There is every truth in the sacred religious books. These are truths to bring their lives and others have to motivate to keep on this path by which the house can become peace and happiness in hindi. es sachaai se doori kyon ? in hindi, swayam ke sath-sath unke liye bhi sukh ki kamana in hindi, ghar ko sukhdham banane ka sankalp in hindi.कुछ समय इस दायित्व के लिए  in hindi, (kuch samay es dayitv ke liye) in hindi, संक्षमबनों इन हिन्दी में, संक्षम बनों इन हिन्दी में, sakshambano in hindi, saksham bano in hindi, kuch samay es dayitv ke liye video, pooja video, sakshambano video, child bhakti video, child-durga-kavach-video, pooja-bhakti-video, कुछ-समय-इस-दायित्व-के-लिए-video, क्यों सक्षमबनो इन हिन्दी में, क्यों सक्षमबनो अच्छा लगता है इन हिन्दी में?, कैसे सक्षमबनो इन हिन्दी में? सक्षमबनो ब्रांड से कैसे संपर्क करें इन हिन्दी में, सक्षमबनो हिन्दी में, सक्षमबनो इन हिन्दी में, सब सक्षमबनो हिन्दी में,अपने को सक्षमबनो हिन्दीं में, सक्षमबनो कर्तव्य हिन्दी में, सक्षमबनो भारत हिन्दी में, सक्षमबनो देश के लिए हिन्दी में,खुद सक्षमबनो हिन्दी में, पहले खुद सक्षमबनो हिन्दी में, एक कदम सक्षमबनो के ओर हिन्दी में, आज से ही सक्षमबनो हिन्दीें में,सक्षमबनो के उपाय हिन्दी में, अपनों को भी सक्षमबनो का रास्ता दिखाओं हिन्दी में, सक्षमबनो का ज्ञान पाप्त करों हिन्दी में,सक्षमबनो-सक्षमबनो हिन्दीें में, kiyon saksambano in hindi, kiyon saksambano achcha lagta hai in hindi, kaise saksambano in hindi, kaise saksambano brand se sampark  in hindi, sampark karein saksambano brand se in hindi, saksambano brand in hindi, sakshambano bahut accha hai in hindi, gyan ganga sakshambnao se in hindi, apne aap ko saksambano in hindi, ek kadam saksambano ki or in hindi,saksambano phir se in hindi, ek baar phir saksambano in hindi, ek kadam saksambano ki or in hindi, self saksambano in hindi, give advice to others for saksambano, saksambano ke upaya in hindi, saksambano-saksambano india in hindi, saksambano-saksambano phir se in hindi,kuch samay es dayitv ke liye video, कुछ समय इस दायित्व के लिए video,, kuch samay es dayitv ke liye hindi, कुछ समय इस दायित्व के लिए hindi, इस सच्चाई से दूरी क्यों ? hindi, es sachaai se doori kyon ? hindi, स्वयं के साथ-साथ उनके लिए भी सुख की कामना hindi, swayam ke sath-sath unke liye bhi sukh ki kamana hindi, घर कोे सुखधाम बनाने का संकल्प hindi, ghar ko sukhdham banane ka sankalp hindi, Some time for this obligation in hindi,Why the distance from this veracity? in hindi, Wishing happiness for themselves for them too in hindi, Pledge to make home of happiness & prosperity  in hindi,

  बच्चों के लिए धार्मिक शिक्षा भी जरूरी  

कुछ समय इस दायित्व के लिए
(Some time for this obligation) 
  • ऐसा समय चल रहा है, अगर इस पर गंभीरता से विचार न किया गया तो यह हमारी दैविक संस्कृति और संस्कार किताबों तक ही रह जायेगे। आज के युग में बच्चों की धार्मिक शिक्षा प्रारम्भ से होना अति आवश्यक है, इसका महत्व भी शिक्षा के बराबर होना चाहिए। अगर बच्चों की धार्मिक शिक्षा के गुरु माता-पिता स्वयं बन जाए, तो वातावरण में कुछ परिवर्तन अवश्य होगा। मनुष्य जीवन में हर माता-पिता का यह एक परम कर्तव्य है, बच्चों को परमपिता परमेश्वर द्वारा निर्मित कर्तव्यों पर चलने के लिए प्रेरित  करे। (kuch samay es dayitva ke liye) Such a time going on if did not take seriously consider so this is our divine culture and sacrament will remain only in books. In today's era it is necessary for children to start religious education from the beginning its importance should be equal to education. If the teacher of religious education of children becomes the parents themselves then there will be some changes in the atmosphere. This is an absolute duty of every parent in human life to Encourage the children to walk on the God-created obligation.
इस सच्चाई से दूरी क्यों ?
(Why the distance from this veracity?)
  • धार्मिक विचार वाला व्यक्ति सम्पूर्ण परिवार में खुशी के अनुभूति करता है, इसका पुण्य तीन पीढ़ियों तक प्राप्त होता है। बाल्यकाल से ही बच्चों में ईश्वरीय शक्तियों का ज्ञान जरूरी है। कुछ पल के लिये ही सही बच्चों को अपने साथ पूजा-पाठ में सम्मिलित करें, उनमें ऐसा करने की आदत डाले। समय के साथ उनमें  धार्मिक भावना अवश्य आयेगी। यह ऐसी भावना है, जो समस्त बुराईयों को दूर करती है, यह पूर्ण सच्चाई है। इस भावना को अपने और अपनों के मन रूपी मन्दिर में निवास करने दे। (Es sachaai se doori kyon? in hindi)  (A Religious person gives happiness whole family & saintly is attained for three generations. The knowledge of divine powers is necessary in children from childhood. Include the children's with you for a few moments in worship have to do this. With time they will come in a religious thought. It is a feeling that removes all evils this is the whole truth. Let this feeling reside in the heart & mind yourself).
स्वयं के साथ-साथ उनके लिए भी सुख की कामना
(Wishing happiness for themselves for them too)
  • ऐसे वातावरण की उन्नति हुई, जिसने अपनों से ही कुछ कहने में संकोच की भावना जागृत कर दी। कहने से पहले ही परिणाम के बारे में सोचने लगते है, इस संकोच के तहत कुछ कह न पाये। अगर किसी से कुछ कहे, उनके पास सुनने के लिए समय नही, अगर किसी ने सुन भी लिया तो उसको पूरा करने के लिए समय नही, समय होने के वावजूद भी समय नही। यही है अपनों का उत्तर, ऐसे वातावरण में सुख की कामना कैसे? अपनी कर्तव्य निष्ठा के साथ-साथ बच्चों को कर्तव्यवान की शिक्षा भी जरूरी है। संस्कारों के प्रति हमारे कदम पीछे रह गये। संस्कारों को पुनः उज्जवलित करना है, इस वातावरण को दूर करना है। एक ऐसे वातावरण की आवश्यकता है, हम सब अपनों से निःकोच अपनी बात कह सके। (Swayam ke sath-sath unke liye bhi sukh ki kamana in hindi) (Such atmosphere has progressed which start made awakened hesitation to say with own child's. Before saying it starts thinking about the result, Do not say anything because of this hesitation. If you say something to someone they do not have time to listen if anybody listens then there is no time to complete it despite the time there is no time. This is the answer to your, how to wish happiness in such an environment?. Conscientiousness education is also important for the children. We are not going with toward rites, sacraments to be bright again such a atmosphere is needed, We could talk freely with childrens).
घर कोे सुखधाम बनाने का संकल्प
(Pledge to make home of happiness & prosperity)

  • इस पावन भूमि पर सत्य और धर्म की रक्षा के लिए भगवान स्वयं विभिन्न युगों में अवतरित हुये। इन सभी सच्चाई को ऋषि-मुनियों अपने-अपने लेखों के द्वारा अमर किया है। पवित्र धार्मिक पुस्तकों में हर सच्चाई अंकित है। इन्हीं सच्चाइयों से अपना मार्ग सुनयोजित करना है, और दूसरों को भी इस मार्ग पर चलते रहने के लिए प्रेरित करना है, जिससे घर सुखधाम बन सके। (Ghar ko sukhdham banane ka sankalp in hindi) (To protect the truth and religion on this holy land Lord Himself come in different era. All these truths have been immortalized by the Sage on their own articles. There is every truth in the sacred religious books. These truthness give us Inspiration and to motivate others go on this path by which peace and happiness come in house).


KUCH SAMAY ES DAYITV KE LIYE