पाप कर्मों से मुक्त करती है - जया एकादशी - Paap Karmon Se Mukt Karti Hai - Jaya Ekadashi

Share:


एकादशी व्रत का अपना विशेष महत्व in hindi, एकादशी व्रत का महत्व in hindi, इस दिन व्रत करने से अत्यधिक लाभ की प्राप्ति होती है in hindi, सभी पापकर्म मिट जाते है in hindi, मोक्ष की प्राप्ति होती है in hindi, जया एकादशी  in hindi,  इस दिन भगवान विष्णु के उपेंद्र रूप की पूजा की जाती है in hindi,  इस एकादशी को भी अन्य एकादशी की तरह मोक्ष प्रदान करने वाली कहा गया है in hindi, एकादशी का व्रत करने से व्यक्ति नीच योनि, प्रेत आदि जन्मों से मुक्ति मिलती है  in hindi,  भूल वश हुए अपराध क्षमा हो जाते है in hindi,  पुराणों के अनुसार भगवान श्रीकृष्ण ने इस एकदशी से जुड़ी एक कथा युधिष्ठर को सुनाई in hindi, इस एकादशी का नाम जया एकादशी है in hindi, इसका व्रत करने से मनुष्य ब्रहम हत्यादि पापों से मुक्त होकर मोक्ष की प्राप्ति करता है in hindi,  श्री कृष्ण जी कहते है मैं तुम्हें पदमपुराण में वर्णित इसकी कथा सुनाता हूँ in hindi,  देवराज इंद्र स्वर्ग में राज करते थे in hindi, जया एकादशी के दिन भगवान विष्णु के अवतार श्रीकृष्ण जी की पूजा का विधान है  in hindi, जो व्यक्ति जया एकादशी व्रत का संकल्प लेना चाहता है in hindi, व्रत के एक दिन पहले यानि दशमी के दिन एक बार भोजन करना होता है in hindi,  इसके बाद एकादशी के दिन व्रत संकल्प लेकर धूप, फल, दीप, पंचामृत आदि से भगवान विष्णु की पूजा करनी चाहिए in hindi, जया एकादशी की रात को सोना नही चाहिए in hindi, बल्कि भगवान का भजन-कीर्तन करना चाहिए in hindi, सहस्त्रनाम का पाठ करना चाहिए in hindi, अगले दिन स्नान के बाद पुनः भगवान का पूजन करने का विधान है in hindi, पूजन के बाद भगवान को भोग लगाकर प्रसाद वितरण करना चाहिए in hindi,  इसके बाद ब्राहमण को भोजन कराने और दान के बाद अपना उपवास खोलना चाहिए in hindi, ekadashi vrat ka apana vishesh mahatv in hindi, ekadashi vrat ka mahatv in hindi, is din vrat karane se atyadhik labh ki prapti hoti hai in hindi, sabhee paapakarm mit jate hai in hindi, moksh ki praapti hoti hai in hindi, jaya ekadashi in hindi, is din bhagwan vishnu ki upendr roop ki pooja ki jatee hai in hindi, is ekadashi ko bhee any ekadashi ki tarah moksh pradaan karane valee kaha gaya hai in hindi, ekadashi ka vrat karane se vyakti neech yoni, pret aadi janmon se mukti milatee hai in hindi, bhool vash hue aparadh kshama ho jate hai in hindi, puranon ke anusaar bhagwan shrikrishan ne is ekadashi se judee ek katha yudhishthar ko sunaee in hindi, is ekaadashee ka naam jaya ekaadashee hai in hindi, isaka vrat karane se manushy braham hatyaadi paapon se mukt hokar moksh kee praapti karata hai in hindi, shree krshn jee kahate hai main tumhen padamapuraan mein varnit isakee katha sunaata hoon in hindi, devaraaj indr svarg mein raaj karate the in hindi, jaya ekaadashee ke din bhagwan vishnu ke avataar shrikrishan jee ki pooja ka vidhan hai in hindi, jo vyakti jaya ekadashi vrat ka sankalp lena chahata hai in hindi, vrat ke ek din pahale yaani dashmi ke din ek baar bhojan karana hota hai in hindi, isake baad ekadashi ke din vrat sankalp lekar dhoop, phal, deep, panchaamrt aadi se bhagwan vishnu ki pooja karanee chaahie in hindi, jaya ekadashi ki raat ko sona nahee chaahie in hindi, balki bhagwan ka bhajan-keertan karana chaahie in hindi, sahastranaam ka paath karana chaahie in hindi, agale din snaan ke baad punah bhagwan ka poojan karane ka vidhaan hai in hindi, poojan ke baad bhagwan ko bhog lagaakar prasaad vitaran karana chaahie in hindi, isake baad braahaman ko bhojan karaane aur daan ke baad apana upavaas kholana chaahie in hindi, लोक-प्रलोक में उच्च स्थान प्राप्त होता है in hindi, मोक्ष प्राप्त होता है in hindi, मोक्ष की प्राप्ति होती है in hindi, नीच योनियों से मुक्ति मिलती है in hindi, निर्जला एकादशी का व्रत in hindi, कुल का उद्वार होता है in hindi, स्वर्ग के द्वार खुलते है in hindi, मनुष्य जीवन में एकादशी का व्रत in hindi, अवश्य करे एकादशी का व्रत in hindi, एकादशी व्रत से पुण्य मिलता है in hindi, क्या है एकादशी व्रत in hindi, क्यों खास है एकादशी व्रत in hindi, क्यों विशेष महत्व है एकादशी व्रत का in hindi, Free from sin deeds-Jaya Ekadashi, Free from sin deeds-Jaya Ekadashi in hindi, Free from sin deeds-Jaya Ekadashi  in hindi, पाप-कर्मों-से-मुक्त-करती-है-जया-एकादशी, Paap-karmon-se-mukt-karti-hai-jaya-ekadashi-in-hindi, संक्षमबनों इन हिन्दी में, संक्षम बनों इन हिन्दी में, sakshambano in hindi, saksham bano in hindi, क्यों सक्षमबनो इन हिन्दी में, क्यों सक्षमबनो अच्छा लगता है इन हिन्दी में?, कैसे सक्षमबनो इन हिन्दी में? सक्षमबनो ब्रांड से कैसे संपर्क करें इन हिन्दी में, सक्षमबनो हिन्दी में, सक्षमबनो इन हिन्दी में, सब सक्षमबनो हिन्दी में,अपने को सक्षमबनो हिन्दीं में, सक्षमबनो कर्तव्य हिन्दी में, सक्षमबनो भारत हिन्दी में, सक्षमबनो देश के लिए हिन्दी में,खुद सक्षमबनो हिन्दी में, पहले खुद सक्षमबनो हिन्दी में, एक कदम सक्षमबनो के ओर हिन्दी में, आज से ही सक्षमबनो हिन्दीें में,सक्षमबनो के उपाय हिन्दी में, अपनों को भी सक्षमबनो का रास्ता दिखाओं हिन्दी में, सक्षमबनो का ज्ञान पाप्त करों हिन्दी में,सक्षमबनो-सक्षमबनो हिन्दीें में, kiyon saksambano in hindi, kiyon saksambano achcha lagta hai in hindi, kaise saksambano in hindi, kaise saksambano brand se sampark  in hindi, sampark karein saksambano brand se in hindi, saksambano brand in hindi, sakshambano bahut accha hai in hindi, gyan ganga sakshambnao se in hindi, apne aap ko saksambano in hindi, ek kadam saksambano ki or in hindi,saksambano phir se in hindi, ek baar phir saksambano in hindi, ek kadam saksambano ki or in hindi, self saksambano in hindi, photo frame, ekadashi image, ekadashi jpeg, give advice to others for saksambano, saksambano ke upaya in hindi, saksambano-saksambano india in hindi, saksambano-saksambano phir se in hindi,, Jaya Ekadashi ka mahatva hindi, Jaya Ekadashi ke barein mein hindi, Jaya Ekadashi kya hai hindi, Jaya Ekadashi se labh hindi, Jaya Ekadashi ki vidhi hindi, Jaya Ekadashi se kya hota hai hindi, Jaya Ekadashi ki kahani hindi, Jaya Ekadashi se mukti milti hai hindi,  Jaya Ekadashi ki kirpa hindi, Jaya Ekadashi ki katha hindi, lok-pralok mein bhi kirpa milti hai hindi,

 एकादशी व्रत से कई पुण्यों की प्राप्ति होती है 
  Paap karmon se mukt karti hai - JAYA EKADASHI in hindi  
पाप कर्मों से मुक्त करती है - जया एकादशी
(Jaya Ekadashi does free us from sin deeds) 
  • एकादशी व्रत का अपना विशेष महत्व है इस दिन व्रत करने से अत्यधिक लाभ की प्राप्ति होती है इस व्रत से व्यक्ति के सभी पापकर्म मिट जाते है और उसे मोक्ष की प्राप्ति होती है। इन्ही एकादशी मैं  एक जया एकादशी है इस दिन भगवान विष्णु के उपेंद्र रूप की पूजा की जाती है। इस एकादशी को भी अन्य एकादशी की तरह मोक्ष प्रदान करने वाली कहा गया है। इस एकादशी का व्रत करने से व्यक्ति नीच योनि, प्रेत आदि जन्मों से मुक्ति मिलती है और भूल वश हुए अपराध क्षमा हो जाते है। पुराणों के अनुसार भगवान श्रीकृष्ण ने इस एकदशी से जुड़ी एक कथा युधिष्ठर को सुनाई। युधिष्ठिर के अनुरोध पर श्रीकृष्ण जी कहने लगे कि हे राजन् इस एकादशी का नाम जया एकादशी है इसका व्रत करने से मनुष्य ब्रहम हत्यादि पापों से मुक्त होकर मोक्ष की प्राप्ति करता है। श्री कृष्ण जी कहते है मैं तुम्हें पदमपुराण में वर्णित इसकी कथा सुनाता हूँ। देवराज इंद्र स्वर्ग में राज करते थे और अन्य सब देवगण सुखपूर्वक स्वर्ग में रहते थे। एक बार इन्द्र ने अपनी इच्छाअनुसार नंदन वन में अप्सराओं के साथ विहार कर रहे थे और गंधर्व गान कर रहे थे। इन गंधवों में प्रसिद्ध पुष्पदंत तथा उसकी कन्या पुष्पवती और चित्रसेन तथा उसकी स्त्री मालिनी भी उपस्थित थी और साथ ही मालिनी का पुत्र पुष्पवान और उसका पुत्र माल्यवान भी उपस्थित थे। पुष्पवती गंधर्व कन्या माल्यवान को देखकर उस पर मोहित हो गई और माल्यवान पर काम-बाण चलाने लगी उसने अपने रूप लावण्य और हावभाव से माल्यवान को अपने वश में कर लिया। हे राजन् ! वह पुष्पवती अन्यन्त सुन्दर थी और अब वह इंद्र को प्रसन्न करने के लिए गायन करने लगी परन्तु परस्पर मोहित हो जाने के कारण उनका चित्त भ्रमित हो गया था। इसके कारण सही प्रकार से न गा पा रही थी। इन्द्र इनके प्रेम को समझ गया और इसमें अपना अपमान समझ कर उसको श्राप दे दिया। इन्द्र ने कहा हे मूर्खों! तुमने मेरी आज्ञा का उल्लंघन किया है इसलिए तुम सजा के पात्र हो इसलिए तुम दोनों स्त्री-पुरुष के रूप में मृत्यु लोक में जाकर पिशाच रूप धारण करो और अपने कर्म का फल भोगो। इन्द्र का ऐसा शाप सुनकर वे अत्यन्त दुःखी हुए और हिमालय पर्वत पर दुःखपूर्वक अपना जीवन व्यतीत करने लगे। उन्हें गंध, रस, तथा स्पर्श आदि का कुछ भी ज्ञान नही था वहाँ उनको वहां महान दुःख मिल रहे थे इन्हें एक क्षण के लिए भी निद्रा नही आती थी। इस जगह अत्यन्त सर्दी थी इससे उनके रोंगटे खड़े रहते और सर्दी के कारण दाँत बजते रहते। एक दिन पिशाच ने अपनी स्त्री से कहा कि पिछले जन्म में हमने ऐसे कौन से पाप किए थे जिससे हमको यह दुखदायी पिचाश योनि प्राप्त हुई। इस पिशाच योनि से तो नर्क के दुख सहना ही उत्तम है अतः हमें अब किसी प्रकार का पाप नहीं करना चाहिए इस प्रकार के विचार करते अपने दिन व्यतीत करते रहे। दैव्योग से तभी माघ मास में शुक्ल पक्ष की जया एकादशी आई उस दिन उन्होंने कुछ भी भोजन नही किया और न कोई पाप कर्म किया। केवल फल-फूल खाकर ही दिन व्यतीत किया। सायं काल के समय महान दुःख से पीपल के वृक्ष के नीचे बैठ गए। उस समय सूर्य भगवान अस्त हो रहे थे। उस समय रात को अत्यन्त सर्दी थी इस कारण वे दोनों अत्यन्त दुःखी होकर मृतक के समान आपस में चिपके हुए पड़े रहे उस रात्रि का उनको निद्रा भी नही आई। हे राजन्! जया एकादशी के उपवास और रात्रि के जागरण से दूसरे दिन प्रभात होेते ही उनकी पिशाच योनि छूट गई। अत्यन्त सुन्दर गंधर्व और अप्सरा की देह धारण कर सुन्दर वस्त्र आभूषणों से अलंकृत होकर उन्होंने स्वर्गलोक का प्रस्थान किया। उस समय आकाश में देवता उनकी स्तुति करते हुए पुष्पवर्षा करने लगे। स्र्वगलोक में जाकर इन दोनों ने देवराज इन्द्र को प्रणाम किया यह देखकर देवराज इन्द्र आश्चर्य चकित हुये और इसका कारण पूछने लगे। माल्यवान बोले कि हे इन्द्र! भगवान विष्णु की कृपा और जया एकादशी के व्रत के प्रभाव से हमें पिशाच योनि से छुटकारा मिला। श्रीकृष्ण जी कहने लगे युघिष्ठर इस जया एकादशी के व्रत से बुरी योनि छूट जाती है जिस मनुष्य ने इस एकादाशी का व्रत किया है उसने मानों सब यज्ञ, जप, दान आदि कर लिए इस व्रत को विधिवत् करने वाले हजारों वर्षों तक स्वर्ग में वास करते है। 
व्रत विधि
  • जया एकादशी के दिन भगवान विष्णु के अवतार श्रीकृष्ण जी की पूजा का विधान है जो व्यक्ति जया एकादशी व्रत का संकल्प लेना चाहता है, उसे व्रत के एक दिन पहले यानि दशमी के दिन एक बार भोजन करना होता है। इसके बाद एकादशी के दिन व्रत संकल्प लेकर धूप, फल, दीप, पंचामृत आदि से भगवान विष्णु की पूजा करनी चाहिए। जया एकादशी की रात को सोना नही चाहिए, बल्कि भगवान का भजन-कीर्तन करना चाहिए या सहस्त्रनाम का पाठ करना चाहिए। अगले दिन स्नान के बाद पुनः भगवान का पूजन करने का विधान है पूजन के बाद भगवान को भोग लगाकर प्रसाद वितरण करना चाहिए। इसके बाद ब्राहमण को भोजन कराने और दान के बाद अपना उपवास खोलना चाहिए।