सिंदूर से क्यों प्रसन्न होते है बजरंगबली - Why does glad Bajrangbali for vermilion

Share:


sindoor se hanuman ji sambandh in hindi, sindoor ka mahatva in hindi, sindoor ki pratha in hindi, sindoor, Why does Bajrangbali glad to Vermilion  in hindi, hanuman ji sindoor se prasan hoti hai in hindi, importance of  Vermilion in hindi, सिंदूर से क्यों प्रसन्न होते है बजरंगबली in hindi, sindoor se kyon prasan hote hai bajarangbali in hindi, भगवान शिव ने 12 रूद्र अवतार लिए हैं in hidi, इनमें से हनुमान अवतार को श्रेष्ठ माना गया है in hindi,  हनुमान भगवान शिव के अवतार है in hindi,  और वह अपनी माता के श्राप को दूर करने के लिए अवतरित हुये in hindi,  पौराणिक कथाओं के अनुसार रावण का अंत करने के लिए भगवान विष्णु ने राम का अवतार लिया था in hindi,  उस समय सभी देवताओं ने अलग-अलग रूप में भगवान राम की सेवा करने के लिए अवतरित हुये in hindi,  उसी समय भगवान शंकर ने भी अपना रूद्र अवतार लिया in hindi, हनुमान उनके ग्यारहवें रुद्र अवतार हैं in hindi, सिंदूर का महत्व  in hindi, sindoor ka mahatva in hindi, एक बार हनुमान जी ने माता सीता को मांग मैं सिंदूर लगाते हुए देखा in hindi, इसका कारण पूछा in hindi, तब माता सीता ने उन्हें बताया in hindi, इससे भगवान राम की आयु बढ़ेगी in hindi, जब हनुमान ने यह सुना in hindi, तो उन्होंने सोचा कि जब मांग में सिंदूर भरने से भगवान राम की आयु बढ़ती है in hindi, तो क्यों न पूरे शरीर में ही सिंदूर लगा लिया जाए in hindi,  हनुमान जी अपने पूरे शरीर पर सिंदूर लगाकर केसरिया रूप धारण कर लिया in hindi, तब से यह प्रथा सदियों से चली आ रही है in hindi, और आज भी हनुमान जी को प्रसन्न करने के लिए मूर्ति पर सिंदूर का लेप लगाया जाता है in hindi, भगवान श्रीराम को क्यों अपने सबसे बड़े भक्त हनुमान पर ब्रहमास्त्र का प्रयोग करना पड़ा in hindi, bhagwan shri ram ko kyon apane sabase bade bhakt hanuman par brahamastr ka prayog karna pada in hindi, ब्रह्मास्त्र का कुछ असर नही हुआ in hindi, भगवान श्री राम को अपने गुरु विश्वामित्र की आज्ञा का पालन करना ही था  in hindi, इसलिए श्रीराम ने हनुमान पर फिर ब्रहमास्त्र चलाया in hindi, हनुमान जी लगातार राम नाम का जप कर रहे  in hindi, ब्रह्मास्त्र का उन पर फिर कोई असर नही हुआ in hindi,  यह सब देखकर नारद मुनि विश्वामित्र के पास गए in hindi,  हनुमान जी की राम भक्ति से प्रसन्न हुये in hindi, hanuman ji ki ram bhakti se prasan huye in hindi, भगवान राम के गुरु विश्वामित्र के निर्देशानुसार भगवान राम को राजा ययाति को मारना था in hindi,  राजा ययाति ने हनुमान से शरण मांगी। हनुमान ने राजा ययाति को वचन दे दिया in hindi,  हनुमान ने किसी तरह के अस्त्र-शस्त्र से लड़ने के बजाए भगवान राम का नाम जपना शुरू कर दिया in hindi, राम ने जितने भी बाण चलाए सब बेअसर रहे। विश्वामित्र हनुमान की श्रद्धाभक्ति देखकर हैरान रह गए  in hindi, सिंदूर का लेप करते समय इस मंत्र उच्चारण करें in hindi,  सिन्दूरं रक्तवर्णं च सिन्दूरतिलकप्रिये in hindi, भक्तयां दत्तं मया देव सिन्दूरं प्रतिगृह्यताम in hindi,  संक्षमबनों इन हिन्दी में, संक्षम बनों इन हिन्दी में, sakshambano in hindi, saksham bano in hindi, sindoor se kyon prasan hote hai bajrangbali in hindi, sindoor ka mahatva in hindi, bhagwan shree-ram ko kyon apne sabse bade bhakt hanuman par brahmastra ka prayog karna pada in hindi, hanuman ji ki ram-bhakti se prasan huye in indi, sindoor ka  mahatva in hindi, sindoor ka kya mahatva hai in hindi, sindoor in hindi, क्यों सक्षमबनो इन हिन्दी में, क्यों सक्षमबनो अच्छा लगता है इन हिन्दी में?, कैसे सक्षमबनो इन हिन्दी में? सक्षमबनो ब्रांड से कैसे संपर्क करें इन हिन्दी में, सक्षमबनो हिन्दी में, सक्षमबनो इन हिन्दी में, सब सक्षमबनो हिन्दी में,अपने को सक्षमबनो हिन्दीं में, सक्षमबनो कर्तव्य हिन्दी में, सक्षमबनो भारत हिन्दी में, सक्षमबनो देश के लिए हिन्दी में,खुद सक्षमबनो हिन्दी में, पहले खुद सक्षमबनो हिन्दी में, एक कदम सक्षमबनो के ओर हिन्दी में, आज से ही सक्षमबनो हिन्दीें में,सक्षमबनो के उपाय हिन्दी में, अपनों को भी सक्षमबनो का रास्ता दिखाओं हिन्दी में, सक्षमबनो का ज्ञान पाप्त करों हिन्दी में,सक्षमबनो-सक्षमबनो हिन्दीें में, kiyon saksambano in hindi, kiyon saksambano achcha lagta hai in hindi, kaise saksambano in hindi, kaise saksambano brand se sampark  in hindi, sampark karein saksambano brand se in hindi, saksambano brand in hindi, sakshambano bahut accha hai in hindi, gyan ganga sakshambnao se in hindi, apne aap ko saksambano in hindi, ek kadam saksambano ki or in hindi,saksambano phir se in hindi, ek baar phir saksambano in hindi, ek kadam saksambano ki or in hindi, self saksambano in hindi, give advice to others for saksambano, saksambano ke upaya in hindi, saksambano-saksambano india in hindi, saksambano-saksambano phir se in hindi, sindoor ka mahatva in hindi, सिंदूर से क्यों प्रसन्न होते है बजरंगबली hindi,  Why does glad Bajrangbali for vermilion in hindi, सौभाग्य का प्रतीक सिन्दूर hindi, सिंदूर का महत्व hindi,  Importance of vermilion in hindi,  भगवान श्रीराम को क्यों अपने सबसे बड़े भक्त हनुमान पर ब्रहमास्त्र का प्रयोग करना पड़ा hindi, Why did God Shriram have to use Brahmastra on his biggest devotee Hanuman?in hindi,  हनुमान जी की राम भक्ति से प्रसन्न हुये hindi, Pleased with Hanumanji Devotion of  Rama's in hindi, sindoor kya hai hindi, sindoor ka Bajrangbali se rista in hindi, sindoor se khush hoti hai hanuman in hindi, Bajrangbali se prasan hote hai hanuman in hindi, mangalvar ko sindoor ka lap karna chahiye in hindi, sindoor ke shakti in hindi, sindoor se pooja in hindi, sindoor ke barein mein in hindi,  sindoor ki story in hindi, sindoor ka gyan in hindi, aaj hi jane sindoor ke barein mein hindi, sindoor ke barein mein abhi se jankari in hindi, phir se sindoor ke barein mein hindi, sindoor se mangal dosh dor hota hai hindi, mangal dosh ke liye sindoor in hindi, sindoor ka mahatva in hindi, सिंदूर से क्यों प्रसन्न होते है बजरंगबली hindi,  Why does glad Bajrangbali for vermilion in hindi, सौभाग्य का प्रतीक सिन्दूर hindi, सिंदूर का महत्व hindi,  Importance of vermilion in hindi,  भगवान श्रीराम को क्यों अपने सबसे बड़े भक्त हनुमान पर ब्रहमास्त्र का प्रयोग करना पड़ा hindi, Why did God Shriram have to use Brahmastra on his biggest devotee Hanuman?in hindi,  हनुमान जी की राम भक्ति से प्रसन्न हुये hindi, Pleased with Hanumanji Devotion of  Rama's in hindi, sindoor kya hai hindi, sindoor ka Bajrangbali se rista in hindi, sindoor se khush hoti hai hanuman in hindi, Bajrangbali se prasan hote hai hanuman in hindi, mangalvar ko sindoor ka lap karna chahiye in hindi, sindoor ke shakti in hindi, sindoor se pooja in hindi, sindoor ke barein mein in hindi,  sindoor ki story in hindi, sindoor ka gyan in hindi, aaj hi jane sindoor ke barein mein hindi, sindoor ke barein mein abhi se jankari in hindi, phir se sindoor ke barein mein hindi, sindoor se mangal dosh dor hota hai hindi, mangal dosh ke liye sindoor in hindi,

  सौभाग्य का प्रतीक सिन्दूर 
सिंदूर से क्यों प्रसन्न होते है बजरंगबली
(Why does glad Bajrangbali for vermilion)
  • भगवान शिव ने 12 रूद्र अवतार लिए हैं इनमें से हनुमान अवतार को श्रेष्ठ माना गया है। हनुमान भगवान शिव के अवतार है और वह अपनी माता के श्राप को दूर करने के लिए अवतरित हुये। पौराणिक कथाओं के अनुसार रावण का अंत करने के लिए भगवान विष्णु ने राम का अवतार लिया था। उस समय सभी देवताओं ने अलग-अलग रूप में भगवान राम की सेवा करने के लिए अवतरित हुये। उसी समय भगवान शंकर ने भी अपना रूद्र अवतार लिया और इसके पीछे वजह थी कि उनको भगवान विष्णु से दास्य का वरदान प्राप्त हुआ था। हनुमान उनके ग्यारहवें रुद्र अवतार हैं। इस रूप में भगवान शंकर ने राम की सेवा के साथ-साथ रावण वध में अपना योगदान दिया।
सिंदूर का महत्व (Importance of vermilion)
  • एक बार हनुमान जी ने माता सीता को मांग मैं सिंदूर लगाते हुए देखा तो हनुमान जी ने इसका कारण पूछा। तब माता सीता ने उन्हें बताया कि इससे भगवान राम की आयु बढ़ेगी। जब हनुमान ने यह सुना तो उन्होंने सोचा कि जब मांग में सिंदूर भरने से भगवान राम की आयु बढ़ती है तो क्यों न पूरे शरीर में ही सिंदूर लगा लिया जाए। हनुमान जी अपने पूरे शरीर पर सिंदूर लगाकर केसरिया रूप धारण कर लिया। तब से यह प्रथा सदियों से चली आ रही है और आज भी हनुमान जी को प्रसन्न करने के लिए मूर्ति पर सिंदूर का लेप लगाया जाता है। 
भगवान श्रीराम को क्यों अपने सबसे बड़े भक्त हनुमान पर ब्रहमास्त्र का प्रयोग करना पड़ा
(Why did God Shriram have to use Brahmastra on his biggest devotee Hanuman?)
  • भगवान श्री राम जब अयोध्या के राजा बने तो नारद मुनि ने हनुमान जी से ऋषि विश्वामित्र के सिवाय सभी साधुओं और ऋषियों से मिलने को कहा क्योंकि विश्वामित्र कभी महान राजा हुआ करते थे। हनुमान ने इसका पालन किया लेकिन इससे विश्वामित्र को कोई फर्क नहीं पड़ा। तब कपट से नारद मुनि विश्वामित्र के पास गए और उन्हें हनुमान के खिलाफ बातें की जिसके कारण विश्वामित्र हनुमान पर बेहद गुस्सा हो गए। उन्होंने भगवान श्रीराम से हनुमान जी को मौत की सजा देने के लिए कहा। राम अपने गुरु विश्वामित्र की बात टाल नहीं सकते थे इसी कारण उन्होंने हनुमान जी को मृत्युदंड देने के लिए ब्रह्मास्त्र का प्रयोग किया। हनुमान राम का नाम जपते रहे और उन पर ब्रह्मास्त्र का कुछ असर नही हुआ। भगवान श्री राम को अपने गुरु विश्वामित्र की आज्ञा का पालन करना ही था इसलिए श्रीराम ने हनुमान पर फिर ब्रहमास्त्र चलाया। हनुमान जी लगातार राम नाम का जप कर रहे और ब्रह्मास्त्र का उन पर फिर कोई असर नही हुआ। यह सब देखकर नारद मुनि विश्वामित्र के पास गए और उन्हें अपनी भूल स्वीकार करने को कहा।
हनुमान जी की राम भक्ति से प्रसन्न हुये
(Pleased with Hanumanji Devotion of  Rama's)
  • भगवान राम के गुरु विश्वामित्र के निर्देशानुसार भगवान राम को राजा ययाति को मारना था। राजा ययाति ने हनुमान से शरण मांगी। हनुमान ने राजा ययाति को वचन दे दिया। हनुमान ने किसी तरह के अस्त्र-शस्त्र से लड़ने के बजाए भगवान राम का नाम जपना शुरू कर दिया। राम ने जितने भी बाण चलाए सब बेअसर रहे। विश्वामित्र हनुमान की श्रद्धाभक्ति देखकर हैरान रह गए और भगवान राम को इस धर्मसंकट से मुक्ति दिलाई।

सिंदूर का लेप करते समय इस मंत्र उच्चारण करें
सिन्दूरं रक्तवर्णं च सिन्दूरतिलकप्रिये।
भक्तयां दत्तं मया देव सिन्दूरं प्रतिगृह्यताम।।