माता लक्ष्मी की देन-रक्षाबन्धन - Raksha Bandhan

Share:

रक्षाबन्धन माता लक्ष्मी की देन हिन्दी में, रक्षाबन्धन कब से है हिन्दी में,रक्षाबन्धन क्यों मानते है हिन्दी में, रक्षाबन्धन की परम्परा हिन्दी में,रक्षाबन्धन की मान्यता हिन्दी में, माता लक्ष्मी से रक्षाबन्धन हिन्दी में, माता लक्ष्मी ने की रक्षाबन्धन की शुरूआत हिन्दी में, भाई-वहन के लिए रक्षाबन्धन हिन्दी में,सदियों से आज तक रक्षाबन्धन हिन्दी में सदियों से आज तक रक्षाबन्धन की परम्परा हिन्दी में,राजा बलि के यहाँ से रक्षाबन्धन हिन्दी में, राजा बलि से रक्षाबन्धन हिन्दी में, राजा बलि ने माता लक्ष्मी को अपनी बहन बनाया हिन्दी में,बलि-माता लक्ष्मी का भाई-बहन का रिस्ता हिन्दी में, raksha bandhan hindi, rakshabandhan in hindi, raksha bandhan kya hai  in hindi, raksha bandhan kab se hai in hindi, raksha bandhan ka mahatva in hindi, raksha bandhan ki prampra in hindi, माता लक्ष्मी की देन-रक्षाबन्धन हिन्दी में, बलि के अंहकार को मिटाने के लिए भगवान विष्णु ने अपने वामन अवतार में अवतरित हुए हिन्दी में, बलि का उद्धार किया हिन्दी में, राजा बलि को पाताल लोक का राजा बनाया हिन्दी में, राज बलि ने भी भगवान विष्णु से ही अपने द्वारपाल बनने का वरदान प्राप्त किया हिन्दी में,सृष्टि के पालन कर्ता द्वारपाल बन जाते तो सृष्टि कैसे चलती हिन्दी में, इसका मतलब सृष्टि के कार्य में रूकावट इसलिए मां लक्ष्मी ने इसका समाधान किया हिन्दी में, राजा बलि को राखी के बंधन से बांध दिया हिन्दी में, भाई-बहन का रिस्ता बनाया हिन्दी में, तब से अभी तक तक बहनें अपने भाई राखी बांधती हैं हिन्दी में, भाई से रक्षा का बचन लेती है हिन्दी में, इसलिए रक्षासूत्र बांधते वक्त जो मंत्र पढ़ा जाता है हिन्दी में, उसमें राजा बलि को रक्षा की याद दिलाई जाती है हिन्दी में, मंत्र: येन बद्धो बली राजा दानवेन्द्रो महाबलः तेन त्वामनुबध्नामि रक्षे मा चल मा चल  हिन्दी में, इसके साथ-साथ भाई ने भगवान विष्णु को मां लक्ष्मी को दे दिया हिन्दी में, बंधन से मुक्त कर दिया हिन्दी में, तब से ही रक्षा बंधन का त्यौहार मनाया जाता है हिन्दी में, राजा बलि ने भगवान विष्णु से अनुरोध किया - प्रभु हो सके तो साल में एक वार मुझे अवश्य दर्शन देवें हिन्दी में, भगवान विष्णु ने इस अनुरोध को स्वीकार किया हिन्दी में, इसलिए भगवान विष्णु एकादशी के दिन पाताल लोक में राजा बलि के यहां चार महिने तक पहरा देने जाते हैं हिन्दी में, और इन चार महिने तक सृष्टि का संचालन भगवान शिव करते है हिन्दी में, माँ संतोषी और रक्षाबंधन हिन्दी में, रक्षाबंधन का संबंध माँ संतोषी के जन्म से जोड़ा जाता है हिन्दी में, कहते है इस शुभ दिन पर भगवान गणेश की बहन मनसा उनको राखी बांधने के लिए आई थी हिन्दी में, तब यह देखकर गणेश पुत्र शुभ और लाभ हठ पर बैठ गये हिन्दी में, वह भगवान गणेश से एक बहन की माँग करने लगे हिन्दी में, वह भी चाहते थे कि उनकी कलाई में राखी बाँधने वाली उनकी भी बहन हो हिन्दी में, नारद जी ने गणेशजी को बेटी की आवश्यकता समझाई हिन्दी में, ऋद्धि और सिद्धि हिन्दी में, दैवीय लपटों से बेटी संतोषी माता का जन्म हुआ हिन्दी में, शुभ-लाभ को कलाई पर राखी बांधने वाली अपनी बहन मिल जाती है हिन्दी में, भगवान यम और यमी हिन्दी में, धार्मिक पुराणों के अनुसार यमी यानी यमुना मृत्यु के भगवान यम को अपना भाई मानती थी हिन्दी में, उन्होंने यम की कलाई पर एक रक्षा सूत्र बांधा था हिन्दी में, भाई के रुप में अपने लिए इतना असीम स्नेह देखकर भगवान यम बहुत भावुक हो गए हिन्दी में, उन्होंने यमी को हमेशा सुरक्षा का वादा किया हिन्दी में, और कहा जाता है कि उन्होंने यमी को अमरता का वरदान देते हुए कहा था हिन्दी में, कि जो भी भाई अपनी बहन की मदद करेगा उसे वह लंबी आयु का वरदान देंगे हिन्दी में, संक्षमबनों इन हिन्दी में, संक्षम बनों इन हिन्दी में, sakshambano in hindi, saksham bano in hindi, mata lakshmi ki den-rakshabandhan in hindi, maa santoshi aur rakshabandhan in hindi,  bhagwan yam aur yamee in hindi, mata lakshmi ki den-rakshabandhan in hindi, raksha bandhan ki kahani in hindi, maa santoshi aur rakshabandhan in hindi, raksha bandhan ka upyog in hindi, bhagwan yum & yummy in hindi, raksha bandhan tyohar in hindi, maa lakshmi ki den-rakshabandhan in hindi, raksha bandhan kab se hai in hindi, raksha bandhan tyohar ka matlav in hindi, raksha bandhan tyohar ka mahatva in hindi, क्यों सक्षमबनो इन हिन्दी में, क्यों सक्षमबनो अच्छा लगता है इन हिन्दी में?, कैसे सक्षमबनो इन हिन्दी में? सक्षमबनो ब्रांड से कैसे संपर्क करें इन हिन्दी में, सक्षमबनो हिन्दी में, सक्षमबनो इन हिन्दी में, सब सक्षमबनो हिन्दी में,अपने को सक्षमबनो हिन्दीं में, सक्षमबनो कर्तव्य हिन्दी में, सक्षमबनो भारत हिन्दी में, सक्षमबनो देश के लिए हिन्दी में,खुद सक्षमबनो हिन्दी में, पहले खुद सक्षमबनो हिन्दी में, एक कदम सक्षमबनो के ओर हिन्दी में, आज से ही सक्षमबनो हिन्दीें में,सक्षमबनो के उपाय हिन्दी में, अपनों को भी सक्षमबनो का रास्ता दिखाओं हिन्दी में, सक्षमबनो का ज्ञान पाप्त करों हिन्दी में,सक्षमबनो-सक्षमबनो हिन्दीें में, kiyon saksambano in hindi, kiyon saksambano achcha lagta hai in hindi, kaise saksambano in hindi, kaise saksambano brand se sampark  in hindi, sampark karein saksambano brand se in hindi, saksambano brand in hindi, sakshambano bahut accha hai in hindi, gyan ganga sakshambnao se in hindi, apne aap ko saksambano in hindi, ek kadam saksambano ki or in hindi,saksambano phir se in hindi, ek baar phir saksambano in hindi, ek kadam saksambano ki or in hindi, self saksambano in hindi, give advice to others for saksambano, saksambano ke upaya in hindi, saksambano-saksambano india in hindi, saksambano-saksambano phir se in hindi,, Raksha-Bandhan-Katha, Raksha bandhan ke barein mein hindi, Raksha bandhan ki jankari hindi, Raksha bandhan kya hai hindi,

 Raksha-Bandhan-Katha  
माता लक्ष्मी की देन-रक्षाबन्धन
  • बलि के अंहकार को मिटाने के लिए भगवान विष्णु ने अपने वामन अवतार में अवतरित हुए और बलि का उद्धार किया। इसके साथ-साथ राजा बलि को पाताल लोक का राजा बनाया। राज बलि ने भी भगवान विष्णु से ही अपने द्वारपाल बनने का वरदान प्राप्त किया। सृष्टि के पालन कर्ता द्वारपाल बन जाते तो सृष्टि कैसे चलती। इसका मतलब सृष्टि के कार्य में रूकावट इसलिए मां लक्ष्मी नेे इसका समाधान किया और उन्होंने राजा बलि को राखी के बंधन से बांध दिया और साथ ही भाई-बहन का रिस्ता बनाया उस दिन श्रावण मास की पूर्णिमा थी। तब से अभी तक तक बहनें अपने भाई राखी बांधती हैं और इसके बदले भाई से रक्षा का बचन लेती है। इसलिए रक्षासूत्र बांधते वक्त जो मंत्र पढ़ा जाता है उसमें राजा बलि को रक्षा की याद दिलाई जाती है। मंत्र: येन बद्धो बली राजा दानवेन्द्रो महाबलः तेन त्वामनुबध्नामि रक्षे मा चल मा चल इसके साथ-साथ भाई ने भगवान विष्णु को मां लक्ष्मी को दे दिया और उन्हें इस बंधन से मुक्त कर दिया। तब से ही रक्षा बंधन का त्यौहार मनाया जाता है। राजा बलि ने भगवान विष्णु से अनुरोध किया - प्रभु हो सके तो साल में एक वार मुझे अवश्य दर्शन देवें भगवान विष्णु ने इस अनुरोध को स्वीकार किया। इसलिए भगवान विष्णु एकादशी के दिन पाताल लोक में राजा बलि के यहां चार महिने तक पहरा देने जाते हैं। और इन चार महिने तक सृष्टि का संचालन भगवान शिव करते है।
  • माँ संतोषी और रक्षाबंधन- रक्षाबंधन का संबंध माँ संतोषी के जन्म से जोड़ा जाता है। कहते है इस शुभ दिन पर भगवान गणेश की बहन मनसा उनको राखी बांधने के लिए आई थी तब यह देखकर गणेश पुत्र शुभ और लाभ हठ पर बैठ गये। वह भगवान गणेश से एक बहन की माँग करने लगे। वह भी चाहते थे कि उनकी कलाई में राखी बाँधने वाली उनकी भी बहन हो। नारद जी ने गणेशजी को बेटी की आवश्यकता समझाई वो सहमत हुए और पत्नी ऋद्धि और सिद्धि से उठने वाली दैवीय लपटों से बेटी संतोषी माता का जन्म हुआ और शुभ-लाभ को कलाई पर राखी बांधने वाली अपनी बहन मिल जाती है।
  • भगवान यम और यमी- धार्मिक पुराणों के अनुसार यमी यानी यमुना मृत्यु के भगवान यम को अपना भाई मानती थी। उन्होंने यम की कलाई पर एक रक्षा सूत्र बांधा था। भाई के रुप में अपने लिए इतना असीम स्नेह देखकर भगवान यम बहुत भावुक हो गए। उन्होंने यमी को हमेशा सुरक्षा का वादा किया और कहा जाता है कि उन्होंने यमी को अमरता का वरदान देते हुए कहा था कि जो भी भाई अपनी बहन की मदद करेगा उसे वह लंबी आयु का वरदान देंगे।