अमावस्या के दिन पूजा से हर मनोकामना पूर्ण होती है - Worship on the Amavasya every wish is fulfilled.

Share:


अमावस्या के दिन पूजा से हर मनोकामना पूर्ण होती है इन हिन्दी में, 30 दिन के महीने को 15-15 दिनों के साथ दो पक्षों में बाँटा जाता है  इन हिन्दी में, शुक्ल पक्ष और कृष्ण पक्ष इन हिन्दी में, शुक्ल पक्ष के अंतिम दिन को पूर्णिमा कहते है इन हिन्दी में, जबकि कृष्ण पक्ष के अंतिम दिन को अमावस्या कहते है इन हिन्दी में,  शुक्ल पक्ष में दैव-आत्माएं अधिक सक्रिय रहती है इन हिन्दी में, जबकि वर्ष के दक्षिणायन में और महीने के कृष्ण पक्ष में दैत्य आत्माएं सक्रीय होती है इन हिन्दी में,  जब दैत्य-आत्माएं सक्रीय होती है तो मनुष्य में दानव प्रकृति का असर बढ़ने लगता है इन हिन्दी में,  इसीलिए इन दिनों में पूजा-पाठ के प्रति जागरूक होना अति आवश्यक होता है इन हिन्दी में, अमावस्या के प्रति जानकारी इन हिन्दी में, सोमवती-अमावस्या, इन हिन्दी में, अमावस्या पवित्र दिन है इन हिन्दी में, इस दिन पर पितृओं की पूजा की जाती है इन हिन्दी में,  ऐसा करने से पितृदोष और कालसर्प दोष से मुक्ति मिलती है इन हिन्दी में, सोमवार वाली  को पड़ने वाली अमावस्या को सोमवती अमावस्या कहते हैं इन हिन्दी में, यह वर्ष में एक या दो ही बार पड़ती है इन हिन्दी में, इस अमावस्या का हिन्दू धर्म में अपना विशेष महत्त्व होता है इन हिन्दी में, विवाहित स्त्रियों द्वारा इस दिन अपने पतियों की दीर्घायु के लिए व्रत का विधान है इन हिन्दी में,  इस दिन गंगा-स्नान विशेष महत्व है इन हिन्दी में, कहा जाता है कि महाभारत में भीष्म ने युधिष्ठिर को इस दिन का महत्व समझाते हुए कहा था इन हिन्दी में, इस दिन गंगा-स्नान करने वाला मनुष्य समृद्ध इन हिन्दी में, स्वस्थ्य इन हिन्दी में, और सभी दुखों से मुक्त होगा इन हिन्दी में, पितरों की आत्माओं को शांति मिलती है इन हिन्दी में, ऐसा करने का प्रत्यन करें इन हिन्दी में, ऐसी परम्परा है इन हिन्दी में, इस दिन पीपल की पूजा का विशेष फल प्राप्त होता है इन हिन्दी में,  पीपल की पूजा करनी चाहिए इन हिन्दी में, पीपल में भगवान विष्णु का निवास माना जाता है इन हिन्दी में, ऐसा करने से शनि-दोष  से मुक्ति मिलती है इन हिन्दी में, अमावस्या के दिन आटे की छोटी-छोटी गोलियां बनाकर तालाब में मछलियों को खिलाएं इन हिन्दी में, इससे आपको पुण्य मिलेगा इन हिन्दी में, और घर में धन का आगमन होगा इन हिन्दी में, यह काम आप घर के बच्चे से करवाएंगे तो और भी फलित सिद्ध होगा, हर परिक्रमा पर इनमें से कोई भी एक चीज चढ़ाएं इन हिन्दी में,  नौकरी में तरक्की के लिए सोमवती अमावस्या  इन हिन्दी में, दिन शाम के समय पीपल के पेड़ के नीचे आटे के सात दीपक बनाकर उनमें सरसों का तेल भरकर जलाएं इन हिन्दी में, पीपल की 21 वार परिक्रमा करके बिना पीछे देखे चुपचाप घर चले आएं इन हिन्दी में, दांपत्य जीवन में परेशानी गृह-क्लेश बना हुआ है इन हिन्दी में, तो पीपल में मीठा दूध अर्पित करें इन हिन्दी में, किसी बगीचे में खुशबूदार फूलों के पौधे लगाएं इन हिन्दी में, इससे आपसी संबंधों में प्रेम बढ़ेगा इन हिन्दी में, घर-परिवार में कोई बीमार चल रहा हो तो सोमवती अमावस्या के दिन रोगी के सिर के उपर से एक नारियल घड़ी की उल्टी दिशा में 21 बार उसारकर बहते जल में प्रवाहित करें इन हिन्दी में, भूल से भी ऐसा न करने का प्रयत्न करें इन हिन्दी में, अमावस्या के दिन किसी भी प्रकार की तामसिक वस्तुओं का सेवन नही करना चाहिए इन हिन्दी में, इस दिन शराब आदि से दूर रहना चाहिए इन हिन्दी में, झूठा भोजन न करें इन हिन्दी में, स्नान जरूर करें इन हिन्दी में, नेल-बाल न काटे इन हिन्दी में, दोपहर में न सोएं इन हिन्दी में, कालसर्प दोष में शांति मिलती है इन हिन्दी में, अमावस्या पर किसी भी इंसान को श्मशान घाट या कब्रिस्तान में या उसके आस-पास नहीं घूमना चाहिए इन हिन्दी में,  इस समय बुरी आत्माएं सक्रिय हो जाती है इन हिन्दी में, मानव इन बुरी आत्माओं या नकारात्मक शक्तियों से लड़ने में सक्षम नहीं होता है इन हिन्दी में, शनिवार के अलावा अन्य दिन पीपल का स्पर्श नहीं करना चाहिए  इन हिन्दी में, इसलिए पूजा करें लेकिन पीपल के वृक्ष का स्पर्श ना करें इससे धन की हानि होती है इन हिन्दी में, इस दिन जमीन पर सोना चाहिए और शरीर में तेल नहीं लगाना चाहिए इन हिन्दी में, अमावस्या पर घर में पितरों की कृपा पाने के लिए घर में कलह नहीं होनी चाहिए इन हिन्दी में,  वाद-विवाद से बचना चाहिए इन हिन्दी में, इस दिन कड़वे वचन तो बिल्कुल नहीं बोलने चाहिए इन हिन्दी में, सोमवती अमावस्या से सम्बंधित कथा इन हिन्दी में, पति की दीर्घायु के लिए इन हिन्दी में, somvati amavasya kya hai in hindi,somvati amavasya ko kya kare hota hai in hindi, somvati amavasya ke upay in hindi, somvati amavasya ke prati jankari hindi, somvati amavasya ke prati gyan hindi, somvati amavasya virt in hindi, somvati amavasya pooja vidhi in hindi, har samasya ka samadhan in hindi, amavasya kya hai in hindi, amavasya in indi, amavasya ke bare mein in hindi, amavasya ki shakti in hindi, amavasya ka din in hindi, amavasya ko karna chahiye in hindi, amavasya ko nahi karna chahiye in hindi, amavasya ko aisa karna chahiye in hindi, amavasya ke din pooja se har manokamna purn hoti hai in hindi, amavasya ke prati jankari in hindi, Somwati-somvati amavasya in hindi, aisa karne ka paryatan karein in hindi, amavasya ko, aisa karne ka paryatan karein in hindi, संक्षमबनों इन हिन्दी में, संक्षम बनों इन हिन्दी में, sakshambano in hindi, saksham bano in hindi, amavasya in hindi, somvati amavasya  in hindi, amavasya kya hoti hai in hindi, amavasya ke phayde  in hindi, amavasya se subh-laabh in hindi, amavasya ki kata in hindi, amavasya ke ba barein mein in hindi, amavasya ki kahani in hindi, amavasya ke upay in hindi, amavasya kya hai in hindi, amavasya ke din in hindi, amavasya ke din aisa karnta chahiye in hindi, amavasya ke din aisa karein in hindi, amavasya ki pooja in hindi , amavasya ke din pooja in hindi, amavasya ke din pooja se har manokamana poorn hoti hai in hindi,amavasya ke prati jankari  in hindi, aisa karne ka pratyan karen in hindi, bhool se bhi aisa na karne ka prayatn karen in hindi, omvati amavasya se sambandhit katha in hindi, क्यों सक्षमबनो इन हिन्दी में, क्यों सक्षमबनो अच्छा लगता है इन हिन्दी में?, कैसे सक्षमबनो इन हिन्दी में? सक्षमबनो ब्रांड से कैसे संपर्क करें इन हिन्दी में, सक्षमबनो हिन्दी में, सक्षमबनो इन हिन्दी में, सब सक्षमबनो हिन्दी में,अपने को सक्षमबनो हिन्दीं में, सक्षमबनो कर्तव्य हिन्दी में, सक्षमबनो भारत हिन्दी में, सक्षमबनो देश के लिए हिन्दी में,खुद सक्षमबनो हिन्दी में, पहले खुद सक्षमबनो हिन्दी में, एक कदम सक्षमबनो के ओर हिन्दी में, आज से ही सक्षमबनो हिन्दीें में,सक्षमबनो के उपाय हिन्दी में, अपनों को भी सक्षमबनो का रास्ता दिखाओं हिन्दी में, सक्षमबनो का ज्ञान पाप्त करों हिन्दी में,सक्षमबनो-सक्षमबनो हिन्दीें में, kiyon saksambano in hindi, kiyon saksambano achcha lagta hai in hindi, kaise saksambano in hindi, kaise saksambano brand se sampark  in hindi, sampark karein saksambano brand se in hindi, saksambano brand in hindi, sakshambano bahut accha hai in hindi, gyan ganga sakshambnao se in hindi, apne aap ko saksambano in hindi, ek kadam saksambano ki or in hindi,saksambano phir se in hindi, ek baar phir saksambano in hindi, ek kadam saksambano ki or in hindi, self saksambano in hindi, give advice to others for saksambano, saksambano ke upaya in hindi, saksambano-saksambano india in hindi, saksambano-saksambano phir se in hindi, har manokamna pourn hoti hindi, अमावस्या के प्रति जानकारी - About Amavasya, सोमवती-अमावस्या - Somvati Amavasya in hindi, ऐसा करने का प्रत्यन करें - Try to do Aisa karane ka prayatn karen in hindi, भूल से भी ऐसा न करने का प्रयत्न करें - Never to do so by mistake on the Amavasya in hindi, Bhool se bhi aisa na karane ka prayatn karen in hindi, सोमवती अमावस्या से सम्बंधित कथा in hindi, Somvati Amavasya se sambandhit katha in hindi,

  अमावस्या का रहस्य और फायदे जानिए 
अमावस्या के दिन पूजा से हर मनोकामना पूर्ण होती है
(Worship on the Amavasya every wish is fulfilled)
  • 30 दिन के महीने को 15-15 दिनों के साथ दो पक्षों में बाँटा जाता है शुक्ल पक्ष और कृष्ण पक्ष। शुक्ल पक्ष के अंतिम दिन को पूर्णिमा कहते है जबकि कृष्ण पक्ष के अंतिम दिन को अमावस्या कहते है। (Amavasya ke din pooja se har Manokamna pourn hoti hai in hindi) शुक्ल पक्ष में दैव-आत्माएं अधिक सक्रिय रहती है जबकि वर्ष के दक्षिणायन में और महीने के कृष्ण पक्ष में दैत्य आत्माएं सक्रीय होती है। जब दैत्य-आत्माएं सक्रीय होती है तो मनुष्य में दानव प्रकृति का असर बढ़ने लगता है। इसीलिए इन दिनों में पूजा-पाठ के प्रति जागरूक होना अति आवश्यक होता है।
अमावस्या के प्रति जानकारी (About Amavasya)
  • सोमवती-अमावस्या -(Somvati Amavasya) अमावस्या पवित्र दिन है इस दिन पर पितृओं की पूजा की जाती है। ऐसा करने से पितृदोष और कालसर्प दोष से मुक्ति मिलती है। सोमवार वाली  को पड़ने वाली अमावस्या को सोमवती अमावस्या कहते हैं। यह वर्ष में एक या दो ही बार पड़ती है। इस अमावस्या का हिन्दू धर्म में अपना विशेष महत्त्व होता है। विवाहित स्त्रियों द्वारा इस दिन अपने पतियों की दीर्घायु के लिए व्रत का विधान है। इस दिन विवाहित स्त्रियों द्वारा पीपल के वृक्ष की दूध, जल, पुष्प, अक्षत, चन्दन इत्यादि से पूजा और वृक्ष के चारों ओर धागा लपेट कर परिक्रमा करने का विधान होता है। इस दिन गंगा-स्नान विशेष महत्व हैै। कहा जाता है कि महाभारत में भीष्म ने युधिष्ठिर को इस दिन का महत्व समझाते हुए कहा था इस दिन गंगा-स्नान करने वाला मनुष्य समृद्ध, स्वास्थ्य और सभी दुखों से मुक्त होगा और पितरों की आत्माओं को शांति मिलती है।
ऐसा करने का प्रत्यन करें- (Try to do)
(Aisa karane ka prayatn karein in hindi)
  • ऐसी परम्परा है कि पहली सोमवती अमावस्या के दिन धान, पान, हल्दी, सिन्दूर और सुपारी दी जाती है। उसके बाद की सोमवती अमावस्या को अपने सामर्थ्य के हिसाब से फल, मिठाई, सुहाग सामग्री, खाने कि सामग्री इत्यादि दी जाती है। चढाया गया सामान किसी ब्राह्मण, ननद या भांजे को दिया जा सकता है। 
  • इस दिन पीपल की पूजा का विशेष फल प्राप्त होता है। पीपल की पूजा करनी चाहिए पीपल में भगवान विष्णु का निवास माना जाता है ऐसा करने से शनि-दोष  से मुक्ति मिलती है। 
  • अमावस्या के दिन आटे की छोटी-छोटी गोलियां बनाकर तालाब में मछलियों को खिलाएं। इससे आपको पुण्य मिलेगा और घर में धन का आगमन होगा। यह काम आप घर के बच्चे से करवाएंगे तो और भी फलित सिद्ध होगा।
  • सोमवती अमावस्या पर धान, पान, हल्दी, सिन्दूर और सुपारी से पीपल के पेड़ की पूजा और परिक्रमा की जाती है। हर परिक्रमा पर इनमें से कोई भी एक चीज चढ़ाएं। उसके बाद अपने सामर्थ्य  यानी जितना दान आप दे सकें उस हिसाब से फल, मिठाई, खाने की चीजें या सुहाग सामग्री किसी मंदिर के पुजारी या गरीब ब्रह्मण को दान दें।
  • इसके अलावा अन्य लोग सुबह जल्दी उठकर भगवान शिव को जल चढ़ाएं। गरीबों को खाने की चीजें दान दें।
  • पितृओं की पूजा करें। पितृओं के लिए ब्राह्मण या किसी मंदिर के पुजारी को भोजन करवाएं। गाय, कुत्ते और कौवों को रोटी खिलाएं।
  • नौकरी में तरक्की के लिए सोमवती अमावस्या के दिन शाम के समय पीपल के पेड़ के नीचे आटे के सात दीपक बनाकर उनमें सरसों का तेल भरकर जलाएं। पीपल की 21 वार परिक्रमा करके बिना पीछे देखे चुपचाप घर चले आएं। 
  • दांपत्य जीवन में परेशानी गृह-क्लेश बना हुआ है तो पीपल में मीठा दूध अर्पित करें। किसी बगीचे में खुशबूदार फूलों के पौधे लगाएं। इससे आपसी संबंधों में प्रेम बढ़ेगा। 
  • घर-परिवार में कोई बीमार चल रहा हो तो सोमवती अमावस्या के दिन रोगी के सिर के उपर से एक नारियल घड़ी की उल्टी दिशा में 21 बार उसारकर बहते जल में प्रवाहित करें। इससे रोगी शीघ्र ठीक होने लगेगा। 
भूल से भी ऐसा न करने का प्रयत्न करें 
(Never to do so by mistake on the Amavasya)

(Bhool se bhi aisa na karane ka prayatn karen in hindi)
  • अमावस्या के दिन किसी भी प्रकार की तामसिक वस्तुओं का सेवन नही करना चाहिए। इस दिन शराब आदि से दूर रहना चाहिए।
  • झूठा भोजन न करें।
  • स्नान जरूर करें।
  • नेल-बाल न काटे। 
  • दोपहर में न सोएं।
  • सूर्य उदय होने से पहले पीपल के पेड़ पर जल और कच्चा दूध चढ़ाने से पितृदोष की शांति होती है।
  • सूर्योदय के समय किसी भी पवित्र नदी में कच्चा दूध और पानी मिलाकर बहाएं इससे पितृदोष से मुक्ति मिलती है।
  • चाँदी के नाग-नागिन बनवा कर उनकी पूजा करें। पूजा करने के बाद शिवलिंग या किसी पवित्र नदी में बहा देने से कालसर्प दोष में शांति मिलती है।
  • सफेद कपड़े में चावल, सफेद मिठाई, चांदी का सिक्का और एक नारियल रखकर खुद पर से 7 बार घुमाकर नदी में बहा देने से कालसर्प दोष शांति होती है।
  • अमावस्या पर किसी भी इंसान को श्मशान घाट या कब्रिस्तान में या उसके आस-पास नहीं घूमना चाहिए। इस समय बुरी आत्माएं सक्रिय हो जाती है और मानव इन बुरी आत्माओं या नकारात्मक शक्तियों से लड़ने में सक्षम नहीं होता है।
  • गरुण पुराण के अनुसार, अमावस्या पर यौन संबंध बनाने से पैदा होने वाली संतान को आजीवन सुख की प्राप्ति नही होती।
  • शनिवार के अलावा अन्य दिन पीपल का स्पर्श नहीं करना चाहिए इसलिए पूजा करें लेकिन पीपल के वृक्ष का स्पर्श ना करें इससे धन की हानि होती है।
  • इस दिन जमीन पर सोना चाहिए और शरीर में तेल नहीं लगाना चाहिए। 
  • अमावस्या पर घर में पितरों की कृपा पाने के लिए घर में कलह नहीं होनी चाहिए। वाद-विवाद से बचना चाहिए इस दिन कड़वे वचन तो बिल्कुल नहीं बोलने चाहिए।
सोमवती अमावस्या से सम्बंधित कथा
(Somvati Amavasya se sambandhit katha)

  • एक गरीब ब्राह्मण परिवार था उनकी एक पुत्री थी। पुत्री धीरे धीरे बड़ी होने लगी। लड़की सुन्दर और गुणवान थी पर गरीब होने के कारण उसका विवाह नहीं हो पा रहा था। एक दिन ब्राह्मण के घर एक साधू पधारे वह उस कन्या की सेवा-भक्ति से प्रसन्न हुए और उन्होंने उस कन्या को लम्बी आयु का आशीर्वाद देते हुए साधू ने कहा की कन्या की हथेली में विवाह-संयोग रेखा नहीं है। ब्राह्मण दम्पति ने साधू से उपाय पूछा-ऐसा क्या करे जिससे उसके हाथ में विवाह-योग बन जाए। साधू ने अपनी अंतर्दृष्टि से ध्यान करके बताया कि कुछ दूरी पर एक गाँव में सोना धोबिन नाम की एक महिला अपने बेटे और बहू के साथ रहती है जो बहुत संस्कारी है। यदि यह कन्या उसकी सेवा करे और वह महिला अपने मांग का सिन्दूर लगा दे तब इस कन्या का वैधव्य योग मिट सकता है। कन्या तडके ही उठ कर सोना धोबिन के घर जाकर सफाई और अन्य सारे काम करके अपने घर वापस आ जाती। सोना धोबिन अपनी बहू से पूछती है तुम तो सुबह-सुबह उठकर सारे काम कर लेती हो और पता भी नहीं चलता। बहू ने कहा कि माँजी मैंने तो सोचा कि आप ही सुबह उठकर सारे काम ख़ुद ही कर लेती हो। मैं तो देर से उठती हूँ। इस पर दोनों सास बहू निगरानी करने करने लगी कि कौन है जो सुबह-सुबह ही घर का सारा काम करके चला जाता है। कई दिनों के बाद धोबिन ने उस कन्या को देखा कन्या जो अंधेरे में ही घर आती है और सारे काम करने के बाद चली जाती है जब वह जाने लगी तो सोना धोबिन उसके पैरों पर गिर पड़ी और पूछने लगी तुम कौन हो और इस तरह छुपकर मेरे घर की सफाई क्यों कर रही हो। तब उस कन्या ने साधू द्वारा कही गई सारी बात  बताई। सोना धोबिन पति कर्तव्य-परायण थी वह तैयार हो गई। सोना धोबिन के पति थोड़े अस्वस्थ थे इसलिए उसने अपनी बहू को घर में ही रहने को कहा। सोना धोबिन ने जैसे ही अपने मांग का सिन्दूर कन्या की मांग में लगाया उसके पति की मृत्यु हो गई उसे भी यह मालूम हो गया। वह घर से  निराजल ही चली यह सोचकर की रास्ते में कहीं पीपल का पेड़ मिलेगा तो उसे भँवरी देकर और उसकी परिक्रमा करके ही जल ग्रहण करेगी। उस दिन सोमवती अमावस्या थी। ब्राह्मण के घर जो पूए-पकवान मिले थे उनको पीपल के पेड को अर्पित करके १०८ बार पीपल के पेड़ की परिक्रमा की और उसके बाद जल ग्रहण किया। ऐसा करते ही उसके पति पुनः जीवित हो गये।
पति की दीर्घायु के लिए 
  • सोमवार अमावस्या हिंदू धर्म में विशेष धार्मिक महत्व रखती है। इस दिन सुहागन महिलाओं द्वारा अपने पति की दीर्घायु कामना के लिए व्रत रखने का विधान है। इस दिन मौन व्रत रहने से सहस्र गोदान का फल प्राप्त होता है, ऐसा पुराणों में वर्णित है। विशेष कर सोमवार को भगवान शिवजी का दिन माना जाता है। इसलिए सोमवती अमावस्या पर शिवजी की आराधना-पूजन-अर्चना की जाती है। इसीलिए सुहागन महिलाएं पति की दीर्घायु की कामना करते हुए पीपल के वृक्ष में शिवजी का वास मानकर उसकी पूजा और परिक्रमा करती हैं।

समस्त समस्याओं से मुक्ति पाने के लिए