माँ संतोषी सुख-समृद्धि की देवी- Maa Santoshi Goddess of Happiness & Prosperity

Share:


संक्षमबनों इन हिन्दी में, संक्षम बनों इन हिन्दी में, sakshambano in hindi, saksham bano in hindi, maa santoshi sukh samridhi ki devi in hindi, Shukravar Vrat pooj-vidhi in hindi maa santoshi vrat ke din vishesh savdhani rakhni chahiye in hindi, maa santoshi ki kirpa ki prapti in hindi, Shukravar vrat-katha in hindi, Sachchai ke liye tatpar in hindi, dukhi man se door in hindi, ek doosre ki avashyakta se sahmat in hindi, karobar mein unnati par pati ki dayaniya sthiti mein  in hindi, maa santoshi tak pahuchane ka rasta milne laga in hindi, avashy milti hai maa santoshi ki krpa, apno ki kami man se in hindi, maa santoshi ko apne bhakton ki chinta in hindi, khushiyon ki aahat in hindi, apno ne shatru jaisa prahar kiya in hindi, dhyan rahe aisa nahin hona chahiye in hindi, maa ki mamta in hindi, maa santoshi ki katha in hindi, maa santoshi vrat in hindi, maa santoshi ki kahani in hindi, maa santoshi ka mahatva in hindi, maa santoshi ke barein mein hin hindi, maa santoshi ki kirpa milti hai in hindi, maa santoshi phal deti hai in hindi, putr ki prapti ke liye in hindi, maa santoshi pooja in hindi,माँ संतोषी सुख-समृद्धि की देवी  in hindi, Maa Santoshi Sukh Samridhi ki Devi in hindi, शुक्रवार के दिन माँ संतोषी का व्रत व पूजा की मान्यता है in hindi,  शुक्रवार का व्रत धन, विवाह, बच्चे और सुख-समृद्धि प्राप्ति के लिए माँ संतोषी की व्रत व पूजा अर्चना की जाती है in hindi,  सुख-संतोष की देवी माँ के पिता श्री गणेश और माता रिद्धि-सिद्धि है in hindi,  रिद्धि-सिद्धि धन, धान्य, सोना, चांदी, मूंगा, रत्नों से भरा परिवार होने के कारण इन्हें प्रसन्न्ता, सुख-शान्ति और मनोकामनाओं की पूर्ति करने की देवी भी माना गया है in hindi,  इसे वैभवलक्ष्मी व्रत भी कहा जाता है in hindi,  यह व्रत किसी भी महीने के शुक्ल पक्ष के पहले शुक्रवार को शुरू किया जा सकता है in hindi,  शुक्र ग्रह से पीड़ित व्यक्तियों को इससे छुटकारा पाने के लिए शुक्रवार का व्रत करना चाहिए in hindi,  यह किसी भी मास के शुक्लपक्ष के प्रथम शुक्रवार से आरंभ कर 16, 21 या 31 व्रत करने चाहिए in hindi,  यह एक बहुत ही लोकप्रिय व्रत है  in hindi, और आम तौर पर महिलाओं द्वारा किया जाता है in hindi,  माँ संतोषी, माँ पार्वती या माँ दुर्गा का एक अन्य रूप है in hindi, लोग इस दिन सफेद कपड़े पहनते है और रात में खीर खाते है in hindi,  खट्टे चीजों का इस दिन विशेष रूप से  परहेज किया जाता है in hindi, शुक्रवार व्रत पूजा-विधि in hindi, Shukravar Vrat Pooj-Vidhi in hindi, उत्तर व पूर्व दिशा में माँ संतोषी की तस्वीर लगनी चाहिए in hindi, एक बड़े बर्तन में पूजा की सभी सामग्री और पानी रखें in hindi, इस पानी के बर्तन के ऊपर गुड़ और चने युक्त एक और बर्तन रखे in hindi, और शांत मन से माँ संतोषी की पूजा करें in hindi, इस व्रत को करने वाला कथा कहते व सुनते समय हाथ में गुड़ व भुने चने रखें in hindi, कथा समाप्त होते ही हाथ का गुड़ चना गाय को खिलाए in hindi, कथा और आरती समाप्त होने के बाद कलश के जल को घर में सब जगह छिडकें in hindi, और बचा हुआ जल तुलसी में डाले in hindi,  नियमित रूप से 16 शुक्रवार के व्रत करने चाहिए in hindi, कलश में रखा गुड़ चना सबको प्रसाद रूप में बाँट दें in hindi, व्रत के उद्यापन में अढ़ाई सेर खाजा, मोमनदार पुड़ी, खीर,चने का शाक, नैवेद्य रखें in hindi, घी का दीपक जला माँ संतोषी की जय जयकारा बोल नारियल फोड़े in hindi, अंतिम शुक्रवार के दिन माँ संतोषी की पूजा के लिए पूरी और केले के प्रसाद का दान दें in hindi, इस दिन 8 लड़कों को भोजन कराये, पहले घर के लड़कों को दें in hindi, यथाशक्ति दक्षिणा भी दें in hindi, माँ संतोषी व्रत के दिन विशेष सावधानी रखनी चाहिए in hindi, Maa Santoshi Vrat ke din vishesh savdhani rakhni chahiye in hindi, देवी संतोषी व्रत करने वाले पुरुषों और महिलाओं को खट्टा सामान छूना या खाना नही चाहिए in hindi, गुड़ और चने का प्रसाद खाया जाना चाहिए in hindi,  भोजन में कोई खट्टी चीज, खट्टे खाने योग्य फल, अचार या खट्टे फल नही खाएं जाना चाहिए in hindi,  इसके अलावा व्रत रखने वाले व्यक्ति के परिवार के सदस्यों के द्वारा भी किसी भी तरह का खट्टा आइटम नही खाना चाहिए in hindi, माँ संतोषी की कृपा की प्राप्ति in hindi, Maa Santoshi ki kirpa ki prapti in hindi, देवी संतोषी के आशीर्वाद से पुरुषों और महिलाओं की सभी इच्छाओं को पूरा करने में ये व्रत मदद करता है in hindi,  जो इस व्रत का पालन करता है in hindi, उसको कई प्रकार से लाभ होते है। व्यवसाय में उन्नति, धन में वृद्धि, हर परीक्षा में सफलता, हर संकटों से मुक्ति, हर प्रकार की खुखी का आगमान, अविवाहित लड़कियों को जल्द ही विवाह संयोग बनता है in hindi, शुक्रवार-व्रत-कथा in hindi, Shukravar Vrat-Katha in hindi, सच्चाई के लिए तत्पर in hindi, Sachchai ke liye tatpar in hindi, दुःखी मन से दूर in hindi, Dukhi man se door in hindi, एक-दूसरे की आवश्यकता से सहमत in hindi, Ek doosre ki avashyakta se sahmat in hindi, करोबार में उन्नति पर  पत्नी  दयनीय की स्थिति in hindi, Karobar mein unnati par pati ki dayaniya sthiti mein in hindi,  माँ संतोषी तक पहुँचने का रास्ता मिलने लगा in hindi, Maa Santoshi tak pahuchane ka rasta milne laga in hindi, अवश्य मिलती है माँ संतोषी की कृपा in hindi, Avashy milti hai Maa santoshi ki kirpa in hindi, अपनों की कमी मन से in hindi, Apno ki kami man se in hindi, माँ संतोषी को अपने भक्तों की चिन्ता in hindi, Maa Santoshi ko apne bhakton ki chinta in hindi, खुशियों की आहट in hindi, Khushiyon ki aahat in hindi, अपनों ने शत्रु जैसा प्रहार किया in hindi, Apno ne shatru jaisa prahar kiya in hindi, ध्यान रहे ऐसा नहीं होना चाहिए in hindi, Dhyan rahe aisa nahin hona chahiye in hindi, माँ की ममता  in hindi, Maa ki mamta in hindi, क्यों सक्षमबनो इन हिन्दी में, क्यों सक्षमबनो अच्छा लगता है इन हिन्दी में?, कैसे सक्षमबनो इन हिन्दी में? सक्षमबनो ब्रांड से कैसे संपर्क करें इन हिन्दी में, सक्षमबनो हिन्दी में, सक्षमबनो इन हिन्दी में, सब सक्षमबनो हिन्दी में,अपने को सक्षमबनो हिन्दीं में, सक्षमबनो कर्तव्य हिन्दी में, सक्षमबनो भारत हिन्दी में, सक्षमबनो देश के लिए हिन्दी में,खुद सक्षमबनो हिन्दी में, पहले खुद सक्षमबनो हिन्दी में, एक कदम सक्षमबनो के ओर हिन्दी में, आज से ही सक्षमबनो हिन्दीें में,सक्षमबनो के उपाय हिन्दी में, अपनों को भी सक्षमबनो का रास्ता दिखाओं हिन्दी में, सक्षमबनो का ज्ञान पाप्त करों हिन्दी में,सक्षमबनो-सक्षमबनो हिन्दीें में, kiyon saksambano in hindi, kiyon saksambano achcha lagta hai in hindi, kaise saksambano in hindi, kaise saksambano brand se sampark  in hindi, sampark karein saksambano brand se in hindi, saksambano brand in hindi, sakshambano bahut accha hai in hindi, gyan ganga sakshambnao se in hindi, apne aap ko saksambano in hindi, ek kadam saksambano ki or in hindi,saksambano phir se in hindi, ek baar phir saksambano in hindi, ek kadam saksambano ki or in hindi, self saksambano in hindi, give advice to others for saksambano, saksambano ke upaya in hindi, saksambano-saksambano india in hindi, saksambano-saksambano phir se in hindi, Santoshi maa in hidi, Santoshi hindi, maa Santoshi in hindi, maa Santoshi hindi, Santoshi image, Santoshi photo, Santoshi JPEG, Santoshi JPG,

माँ संतोषी सुख-समृद्धि की देवी 
(Maa Santoshi Sukh Samridhi ki Devi)
  • शुक्रवार के दिन माँ संतोषी का व्रत व पूजा की मान्यता है। शुक्रवार का व्रत धन, विवाह, बच्चे और सुख-समृद्धि प्राप्ति के लिए माँ संतोषी की व्रत व पूजा अर्चना की जाती है। सुख-संतोष की देवी माँ के पिता श्री गणेश और माता रिद्धि-सिद्धि है। रिद्धि-सिद्धि धन, धान्य, सोना, चांदी, मूंगा, रत्नों से भरा परिवार होने के कारण इन्हें प्रसन्न्ता, सुख-शान्ति और मनोकामनाओं की पूर्ति करने की देवी भी माना गया है। इसे वैभवलक्ष्मी व्रत भी कहा जाता है। यह व्रत किसी भी महीने के शुक्ल पक्ष के पहले शुक्रवार को शुरू किया जा सकता है। शुक्र ग्रह से पीड़ित व्यक्तियों को इससे छुटकारा पाने के लिए शुक्रवार का व्रत करना चाहिए। यह किसी भी मास के शुक्लपक्ष के प्रथम शुक्रवार से आरंभ कर 16, 21 या 31 व्रत करने चाहिए। यह एक बहुत ही लोकप्रिय व्रत है और आम तौर पर महिलाओं द्वारा किया जाता है। माँ संतोषी, माँ पार्वती या माँ दुर्गा का एक अन्य रूप है। लोग इस दिन सफेद कपड़े पहनते है और रात में खीर खाते है। खट्टे चीजों का इस दिन विशेष रूप से  परहेज किया जाता है।
शुक्रवार व्रत पूजा-विधि (Shukravar Vrat Pooj-Vidhi)
  • उत्तर व पूर्व दिशा में माँ संतोषी की तस्वीर लगनी चाहिए। एक बड़े बर्तन में पूजा की सभी सामग्री और पानी रखें। इस पानी के बर्तन के ऊपर गुड़ और चने युक्त एक और बर्तन रखे। और शांत मन से माँ संतोषी की पूजा करें। 
  • इस व्रत को करने वाला कथा कहते व सुनते समय हाथ में गुड़ व भुने चने रखें। 
  • कथा समाप्त होते ही हाथ का गुड़ चना गाय को खिलाए।
  • कथा और आरती समाप्त होने के बाद कलश के जल को घर में सब जगह छिडकें और बचा हुआ जल तुलसी में डाले। नियमित रूप से 16 शुक्रवार के व्रत करने चाहिए।
  • कलश में रखा गुड़ चना सबको प्रसाद रूप में बाँट दें।
  • व्रत के उद्यापन में अढ़ाई सेर खाजा, मोमनदार पुड़ी, खीर,चने का शाक, नैवेद्य रखें।
  • घी का दीपक जला माँ संतोषी की जय जयकारा बोल नारियल फोड़े।
  • अंतिम शुक्रवार के दिन माँ संतोषी की पूजा के लिए पूरी और केले के प्रसाद का दान दें।
  • इस दिन 8 लड़कों को भोजन कराये, पहले घर के लड़कों को दें।
  • यथाशक्ति दक्षिणा भी दें।
माँ संतोषी व्रत के दिन विशेष सावधानी रखनी चाहिए
(Maa Santoshi Vrat ke din vishesh savdhani rakhni chahiye)
  • देवी संतोषी व्रत करने वाले पुरुषों और महिलाओं को खट्टा सामान छूना या खाना नही चाहिए। गुड़ और चने का प्रसाद खाया जाना चाहिए। भोजन में कोई खट्टी चीज, खट्टे खाने योग्य फल, अचार या खट्टे फल नही खाएं जाना चाहिए। इसके अलावा व्रत रखने वाले व्यक्ति के परिवार के सदस्यों के द्वारा भी किसी भी तरह का खट्टा आइटम नही खाना चाहिए।
माँ संतोषी की कृपा की प्राप्ति
(Maa Santoshi ki kirpa ki prapti) 

  • देवी संतोषी के आशीर्वाद से पुरुषों और महिलाओं की सभी इच्छाओं को पूरा करने में ये व्रत मदद करता है। जो इस व्रत का पालन करता है उसको कई प्रकार से लाभ होते है। व्यवसाय में उन्नति, धन में वृद्धि, हर परीक्षा में सफलता, हर संकटों से मुक्ति, हर प्रकार की खुखी का आगमान, अविवाहित लड़कियों को जल्द ही विवाह संयोग बनता है।
शुक्रवार-व्रत-कथा (Shukravar Vrat-Katha)
  • एक बुढिय़ा थी उसके सात बेटे थे। 6 कमाने वाले थे जबकि एक निक्कमा था। बुढिय़ा 6 बेटों के लिए खाना बनाती भोजन कराती और उनसे जो कुछ झूठन बचता वह सातवें बेटे को देती। सातवां बेटा एक दिन अपनी पत्नी से बोला- देखो! मेरी माँ मुझसे कितना प्रेम करती है? उसकी पत्नी बोली- क्यों नहीं? इसी लिए तो तुम्हें सबका झूठा खिलाती है। वह बोला- ऐसा नही हो सकता है मैं जब तक आँखों से न देख लूँ मान नहीं सकता। बहू हंस कर बोली- देख लोगे तब तो मानोगे। सच्चाई के लिए तत्पर (Sachchai ke liye tatpar in hindi) कुछ दिन बाद त्यौहार आया घर में सात प्रकार के भोजन और चूरमें के लड्डू बनें माँ की परीक्षा लेने के लिए वह सिर दर्द का बहाना कर पतला वस्त्र सिर पर ओढ़े रसोई घर में सो गया। वह कपड़े में से सब देखता रहा थोड़ी देर बाद सभी भाई भोजन करने आए उसने देखा की माँ ने उनके लिए सुन्दर आसन बिछाकर विभिन्न प्रकार के पकवान परोसे और आग्रह करके उन्हें खूब खिलाया। सातवां बेटा देखता रहा 6 बेटों जब भोजन करके उठे। तब माँ ने उनकी झूठी थालियों में से लड्डुओं के टुकड़े उठाकर एक लड्डू बनाया। जूठन साफ कर बुढिय़ा माँ ने उसे पुकारा- बेटा, सभी भाई भोजन कर गए अब तू ही बाकी है, उठ तू कब खाएगा। दुःखी मन से दूर (Dukhi man se door in hindi) वह कहने लगा- माँ मुझे भोजन नहीं करना मैं अब परदेस जा रहा हूँ माँ ने कहा- कल जाना है तो आज ही चला जा। वह बोला- हाँ आज ही जा रहा हूँ यह कहकर वह घर से निकल गया चलते समय बहू की याद आई बहू गोशाला में उपलें थाप रही थी वहीं जाकर उससे बोला मेरे पास तो कुछ नहीं, यह अंगूठी है सो ले और अपनी कुछ निशानी मुझे दे। वह बोली मेरे पास क्या है? यह गोबर से भरा हाथ है यह कहकर उसकी पीठ में गोबर के हाथ की थाप मार दी वह चल दिया। एक-दूसरे की आवश्यकता से सहमत (Ek doosre ki avashyakta se sahmat in hindi) चलते-चलते दूर पहुँचा वहाँ पर एक साहूकार की दुकान थी। वहाँ जाकर कहने लगा- भाई मुझे नौकरी पर रख लो साहूकार को जरूरत थी, बोला- रह जा। लड़के ने पूछा- तनख्वाह क्या दोगे? साहूकार ने कहा- काम देख कर दाम मिलेंगे। साहूकार की नौकरी मिली वह सुबह 7 बजे से 10 बजे तक नौकरी करने लगा। कुछ दिनों में दुकान का सारा लेन-देंन-हिसाब-किताब, ग्राहकों को माल बेचना सारा काम करने लगा। साहूकार के 7-8 नौकर थे वे सब चक्कर खाने लगे कि यह तो बहुत होशियार बन गया है। सेठ ने भी काम देखा और 3 महीने में उसे आधे मुनाफे का साझीदार बना लिया। करोबार में उन्नति पर  पत्नी  दयनीय की स्थिति (Karobar mein unnati par pati ki dayaniya sthiti mein in hindi) वह 12 वर्ष में ही नामी सेठ बन गया और मालिक सारा कारोबार उस पर छो़ड़कर बाहर चला गया। अब बहू पर क्या बीती? सास-ससुर उसे दुःख देनें लगे सारी गृहस्थी का काम करवाकर उसे लकड़ी लेने के लिए जंगल में भेजते घर की रोटियों के आटे से जो भूसी निकलती उसकी रोटी बनाकर उसे खाने के लिए दिया जाता तथा पीने के लिए फूटे नारियल के खपर में पानी दिया जाता। माँ संतोषी तक पहुँचने का रास्ता मिलने लगा (Maa Santoshi tak pahuchane ka rasta milne laga in hindi) एक दिन सातवीं बहू लकड़ी लेने जा रही थी रास्ते में बहुत सी स्त्रियां संतोषी माता का व्रत करती दिखाई दी वह वहाँ खड़ी होकर कथा सुनने लगी और पूछा- बहिनों! तुम किस देवता का व्रत करती हो? और उसके करने से क्या फल मिलता है? यदि तुम इस व्रत का विधान मुझे समझा कर कहोगी तो मैं तुम्हारा बड़ा अहसान मानूँगी। तब उनमें से एक स्त्री बोली- सुनों? यह संतोषी माता का व्रत ह इसके करने से निर्धनता, दरिद्रता का नाश होता है और जो कुछ मन में कामना हो, सब संतोषी माता की कृपा से पूरी होती है। सातवीं बहू ने उससे व्रत की विधि पूछी वह बोली- सवा आने का गुड़ चना लेना, इच्छा हो तो सवा पांच आने का लेना या सवा रुपए का, जो भी सहूलियत हो उसे लेना। बिना किसी परेशानी के पूरी श्रद्धा व प्रेम से जितना भी बन पड़े सवाया लेना। प्रत्येक शुक्रवार को निराहार रह कर कथा सुनना, इसके बीच क्रम टूटे नहीं, लगातार नियम पालन करना, सुनने वाला कोई न मिले तो घी का दीपक जला उसके आगे या जल के पात्र को सामने रख कर कथा कहना। जब कार्य सिद्ध न हो नियम का पालन करना और कार्य सिद्ध हो जाने पर व्रत का उद्यापन करना। अवश्य मिलती है माँ संतोषी की कृपा (Avashya milti hai Maa santoshi ki kirpa in hindi) तीन मास में माता फल पूरा करती है यदि किसी के ग्रह खोटे भी हों, तो भी माता वर्ष भर में कार्य सिद्ध करती है फल सिद्ध होने पर उद्यापन करना चाहिए बीच में नहीं उद्यापन में अढ़ाई सेर आटे का खाजा तथा इसी के बराबर खीर तथा चने का साग रखना चाहिए आठ लड़कों को भोजन कराना चाहि, लड़कों में जहाँ तक संभव सके तो, लड़कों में व्रतधारी का देवर, जेठ, भाई-बंधु के हों,उन्हें ही बुलाना चाहिए। ये न मिलने पर रिश्तेदारों और पास-पड़ोसियों के लड़कों को बुलाना चाहिए। उन्हें भोजन कराकर यथा शक्ति दक्षिणा भी देना चाहिए। उस दिन घर में खटाई नहीं खाना चाहिए। यह सुन बुढ़िया के लड़के की बहू चल दी। रास्ते में लकड़ी को बेच दिया और उन पैसों से गुड़-चना ले माता संतोषी के व्रत की तैयारी कर चली और सामने मंदिर देखकर पूछने लगी- यह मंदिर किसका है? सब कहने लगे माँ संतोषी का मंदिर है। यह सुनकर बहू माता के मंदिर में जाकर माँ के चरणों में श्रृ़द्धा पूर्वक विनती करने लगी- माँ मैं अज्ञानी हूँ व्रत के कुछ भी नियम नहीं जानती, मैं दुःखी हूँ माता जगत जननी मेरा दुःख दूर कर मैं तेरी शरण में आई हूँ माँ संतोषी को दया आई। एक शुक्रवार बीता कि दूसरे को उसके पति का पत्र आया और तीसरे शुक्रवार को उसका भेजा हुआ पैसा आ पहुँचा। अपनों की कमी मन से (Apno ki kami man se in hindi) यह देख जेठ-जेठानी ताने देंने लगे अरे भाई अब तो काकी के पास पत्र आने लगे हैं। रुपया आने लगा ह. अब तो काकी की खातिर बढ़ेगी बेचारी बहू अति सरलता से कहती! भैया कागज आवे, रुपया आवे, हम सब के लिए अच्छा है ऐसा कह कर आँखों में आंसू भरकर माँ संतोषी के मंदिर में माँ के चरणों में गिरकर रोने लगी। माँ मैंने तुमसे पैसा कब माँगा है? मुझे पैसे से क्या काम है? मुझे तो अपने सुहाग से काम है। मैं तो अपने स्वामी के दर्शन माँगती हूँ तब माँ ने प्रसन्न होकर कहा! जा बेटी, तेरा स्वामी आवेगा। बहू यह सुनकर खुशी से बावली होकर घर में जा काम करने लगी। माँ संतोषी को अपने भक्तों की चिन्ता (Maa Santoshi ko apne bhakton ki chinta in hindi) माँ संतोषी विचार करने लगी कि इस भोली पुत्री को मैंने कह तो दिया कि तेरा पति आवेगा लेकिन कैसे? वह तो इसे स्वप्न में भी याद नहीं करता। उसे याद दिलाने को मुझे ही जाना पड़ेगा। इस तरह माता जी उस बुढिय़ा के बेटे के पास जा स्वप्न में प्रकट होकर कहने लगी! साहूकार के बेट सो रहे हो तब वह जागता है और कहने लगा- माता सोता भी नहीं हूँ और जागता भी नहीं हूँ कहो क्या आज्ञा है? माँ कहने लगी- तेरे घर-बार कुछ है कि नहीं वह बोला- मेरे पास सब कुछ है माँ है, बाप है, बहू है, क्या कमी है? माँ बोली! भोले पुत्र तेरी बहू घोर कष्ट उठा रही है तेरे मां-बाप उसे त्रास दे रहे हैं वह तेरे लिए तरस रही है, तू उसकी सुध ले वह बोला हाँ  माँ यह तो मालूम है परंतु जाऊं तो कैसे? परदेश की बात है, लेन-देन का कोई हिसाब नहीं, कोई जाने का रास्ता नहीं आता, कैसे चला जाऊं? माँ कहने लगी- मेरी बात मान सवेरे नहा धोकर माँ संतोषी का नाम ले, घी का दीपक जला, दण्डवत कर दुकान पर जा बैठ देखते-देखते सारा लेन-देन चुक जाएगा। जमा का माल बिक जाएगा सांझ होते-होते धन का भारी ठेर लग जाएगा। सारी बात मानकर वह नहा धोकर माँ संतोषी को दण्डवत कर घी का दीपक जलाकर दुकान पर जा बैठा। थोड़ी देर में देने वाले रुपया लाने लगे, लेने वाले हिसाब लेने लगे, कोठे में भरे सामान के खरीददार नकद दाम दे सौदा करने लगे, शाम तक धन का भारी ठेर लग गया। मन में माँ का नाम ले चमत्कार देख प्रसन्न हो घर ले जाने के वास्ते गहना, कपड़ा सामान खरीदने लगा और पूरा कार्या करने के बाद तुरंत घर को रवाना हुआ। खुशियों की आहट (Khushiyon ki aahat in hindi) उसकी पत्नी जंगल में लकड़ी लेने जाती है लौटते वक्त वह रोज की भांति माताजी के मंदिर में विश्राम करती है। कुछ देर बाद धूल उड़ती देख वह माता से पूछती है हे माता! यह धूल कैसे उड़ रही है? माता कहती है हे पुत्री तेरा पति आ रहा है अब तू ऐसा कर लकडिय़ों के तीन बोझ बना ले। एक नदी के किनारे रख और दूसरा मेरे मंदिर पर व तीसरा अपने सिर पर। तेरे पति को लकडिय़ों का गट्ठर देख मोह पैदा होगा। वह यहाँ रुकेगा, नाश्ता-पानी खाकर मां से मिलने जाएगा। तब तू लकडिय़ों का बोझ उठाकर जाना और चैक में गट्ठर डालकर जोर से आवाज लगाना। लो सासूजी, लकडिय़ों का गट्ठर लो, भूसी की रोटी दो, नारियल के खपर में पानी दो, आज मेहमान कौन आया है? माताजी से बहुत अच्छा कहकर वह प्रसन्न मन से लकडिय़ों के तीन गठ्ठर बनाई। एक नदी के किनारे पर और एक माताजी के मंदिर पर रखा। इतने में मुसाफिर आ पहुँचा सूखी लकड़ी देख उसकी इच्छा उत्पन्न हुई कि हम यही पर विश्राम करें और भोजन बनाकर खा-पीकर गांव जाएं। इसी तरह रुक कर भोजन बना, विश्राम करके गांव को गया। सबसे प्रेम से मिला उसी समय सिर पर लकड़ी का गट्ठर लिए बहू उतावली आती है। लकडिय़ों का भारी बाझ आंगन में डालकर जोर से तीन आवाज देती है लो सासूजी, लकडिय़ों का गट्ठर लो, भूसी की रोटी दो, आज मेहमान कौन आया है। यह सुनकर उसकी सास बाहर आकर अपने दिए हुए कष्टों को भुलाने हेतु कहती है। बहू ऐसा क्यों कहती है? तेरा मालिक ही तो आया है आ बैठ, मीठा भात खा, भोजन कर, कपड़े-गहने पहन, उसकी आवाज सुन उसका पति बाहर आता है अंगूठी देख व्याकुल हो जाता है माँ से पूछता है माँ यह कौन है? माँ बोली- बेटा यह तेरी बहू है जब से तू गया है तब से सारे गांव में भटकती फिरती है घर का काम-काज कुछ करती नहीं, चार पहर आकर खा जाती है। वह बोला- ठीक है माँ मैंने इसे भी देखा और तुम्हें भी, अब दूसरे घर की ताली दो, उसमें रहूँगा माँ बोली- ठीक है, जैसी तेरी इच्छा तब वह दूसरे मकान की तीसरी मंजिल का कमरा खोल सारा सामान जमाया। एक दिन में राजा के महल जैसा ठाट-बाट बन गया अब क्या था? बहू सुख भोगने लगी। अपनों ने शत्रु जैसा प्रहार किया (Apno ne shatru jaisa prahar kiya in hindi) जब शुक्रवार आया उसने पति से कहा- मुझे संतोषी माता के व्रत का उद्यापन करना है पति बोला- खुशी से कर लो वह उद्यापन की तैयारी करने लगी जेठानी के लड़कों को भोजन के लिए कहने गई उन्होंने मंजूर किया परन्तु पीछे से जेठानी ने अपने बच्चों को सिखाया, देखो भोजन के समय खटाई मांगना, जिससे उसका उद्यापन पूरा न हो। लड़के खीर खाने आए पेट भर खीर खाया, परंतु बाद में खाते ही कहने लगे- हमें खटाई दो, खीर खाना हमको नहीं भाता, खीर देखकर अरूचि होती है। वह कहने लगी- भाई खटाई किसी को नहीं दी जाएगी यह तो संतोषी माता का प्रसाद है लड़के उठ खड़े हुए, बोले- पैसा लाओ, भोली बहू कुछ जानती नहीं थी, उन्हें पैसे दे दिए लड़के उसी समय हठ करके इमली की खटाई लेकर खाने लगे। ध्यान रहे ऐसा नहीं होना चाहिए (Dhyan rahe aisa nahin hona chahiye in hindi) यह देखकर बहू पर माताजी ने कोप किया राजा के दूत उसके पति को पकड़ कर ले गए जेठ-जेठानी मन-माने वचन कहने लगे लूट-लूट कर धन इकठ्ठा कर लाया है अब सब मालूम पड़ जाएगा जब जेल की मार खाएगा। बहू से यह सहन नहीं हुआ रोती हुई माताजी के मंदिर गई कहने लगी- हे माता! तुमने यह क्या किया? हंसा कर अब भक्तों को रुलाने लगी माता बोली- बेटी तूने उद्यापन करके मेरा व्रत भंग किया है वह कहने लगी- माता मैंने जो कुछ अपराध किया है मुझे क्षमा करें. मैंने तो भूलवश लड़कों को पैसे दे दिए थे। मैं फिर तुम्हारा उद्यापन करुँगी  माँ बोली- अब भूल मत करना वह कहती है- अब भूल नहीं होगी अब बतलाओ वे कैसे आवेंगे? माँ बोली- जा पुत्री तेरा पति तुझे रास्ते में आता मिलेगा वह निकली राह में पति आता मिला वह पूछी- कहाँ गए थे? वह कहने लगा- इतना धन जो कमाया है उसका टैक्स राजा ने मांगा था, वह भरने गया था वह प्रसन्न हो बोली- भला हुआ, अब घर को चला। कुछ दिन बाद फिर शुक्रवार आया वह बोली- मुझे फिर माता का उद्यापन करना है पति ने कहा ठीक हैै बहू फिर जेठ के लड़कों को भोजन को कहने गई जेठानी ने एक दो बातें सुनाई और सब लड़कों को सिखाने लगी तुम सब लोग पहले ही खटाई माँगना लड़के भोजन से पहले कहने लगे- हमें खीर नहीं खानी, हमारा जी बिगड़ता है, कुछ खटाई खाने को दो वह बोली- खटाई किसी को नहीं मिलेगी, आना हो तो आओ नही तो वह ब्राह्मण के लड़के लाकर भोजन कराने लगी, यथा शक्ति दक्षिणा की जगह एक-एक फल उन्हें दिया संतोषी माता प्रसन्न हुई। माँ की ममता (Maa ki mamta in hindi) माँ संतोषी की कृपा होते ही 9वें मास में उसके चन्द्रमा के समान सुन्दर पुत्र प्राप्त हुआ। पुत्र को पाकर प्रतिदिन माता जी के मंदिर को जाने लगी माँ ने सोचा- यह रोज आती है, आज क्यों न इसके घर चलू यह विचार कर माता ने भयानक रूप बनाया, गुड़-चने से सना मुख, ऊपर सूंड के समान होठ, उस पर मक्खियां भिन-भिन कर रही थी। उसके देहली पर पैर रखते ही उसकी सास चिल्लाई- देखो रे, कोई चुड़ैल डाकिन चली आ रही है, लड़कों इसे भगाओ, नहीं तो किसी को खा जाएगी। लड़के भगाने लगे, चिल्लाकर खिड़की बंद करने लगे. बहू रौशनदान में से देख रही थी, प्रसन्नता से पागल होकर चिल्लाने लगी- आज मेरी माता जी मेरे घर आई हैं। वह बच्चे को दूध पीने से हटाती है इतने में सास का क्रोध फट पड़ा। वह बोली- क्या उतावली हुई है? बच्चे को पटक दिया इतने में माँ के प्रताप से लड़के ही लड़के नजर आने लगे वह बोली- माँ मैं जिसका व्रत करती हूँ यह संतोषी माता है सबने माता जी के चरण पकड़ लिए और विनती कर कहने लगे- हे माता, हम मूर्ख हैं, अज्ञानी हैं, तुम्हारे व्रत की विधि हम नहीं जानते, व्रत भंग कर हमने बड़ा अपराध किया है, हे माँ आप हमारे अपराध को क्षमा कीजये। इस प्रकार माता प्रसन्न हुई बहू को प्रसन्न होने का आशीर्वाद दिया।

समस्त समस्याओं से मुक्ति पाने के लिए
click here » हर दुखों का निवारण करता है - पवित्र श्रावण मास