श्रीमद्भागवत गीता में है हर समस्याओं का समाधान- Shrimad Bhagwat Geeta have a solution to every problem

Share:



srimad bhagwat geeta mein hai har samsyahon ka samadhan in hindi, srimad bhagavatam ke barein mein in hindi, srimad bhagavatam katha in hindi, srimad bhagavatam photo, srimad bhagavatam image, srimad bhagavatam jpeg, srimad bhagavatam jpg, मृत्यु का भय दूर हो जाता है in hindi, sakshambano in hindi, sakshambano in eglish, sakshambano meaning in hindi, sakshambano in hindi, sakshambano ka matlab in hindi, sakshambano photo, sakshambano photo in hindi, sakshambano image in hindi, sakshambano image, sakshambano jpeg, sakshambano site in hindi, sakshambano wibsite in hindi, sakshambano website, sakshambano india in hindi, sakshambano desh in hindi, sakshambano ka mission hin hindi, sakshambano ka lakshya kya hai,  sakshambano ki pahchan in hindi,  sakshambano brand in hindi,  sakshambano company in hindi,  sakshambano author in hindi,  sakshambano kiska hai hindi, क्यों सक्षमबनो इन हिन्दी में in hindi, क्यों सक्षमबनो अच्छा लगता है इन हिन्दी में?, कैसे सक्षमबनो इन हिन्दी में? सक्षमबनो ब्रांड से कैसे संपर्क करें इन हिन्दी में, सक्षमबनो हिन्दी में, सक्षमबनो इन हिन्दी में, सब सक्षमबनो हिन्दी में,अपने को सक्षमबनो हिन्दीं में, सक्षमबनो कर्तव्य हिन्दी में, सक्षमबनो भारत हिन्दी में, सक्षमबनो देश के लिए हिन्दी में, खुद सक्षमबनो हिन्दी में, पहले खुद सक्षमबनो हिन्दी में, एक कदम सक्षमबनो के ओर हिन्दी में, आज से ही सक्षमबनो हिन्दी हिन्दी में,सक्षमबनो के उपाय हिन्दी में, अपनों को भी सक्षमबनो का रास्ता दिखाओं हिन्दी में, सक्षमबनो का ज्ञान पाप्त करों हिन्दी में,सक्षमबनो-सक्षमबनो हिन्दी में, सक्षमबनो इन हिन्दी में, सक्षमबनो इन हिन्दी में, sakshambano in hindi, saksham bano in hindi, in hindi, kiyon saksambano in hindi, kiyon saksambano achcha lagta hai in hindi, kaise saksambano in hindi, kaise saksambano brand se sampark  in hindi, sampark karein saksambano brand se in hindi, saksambano brand in hindi, sakshambano bahut accha hai in hindi, gyan ganga sakshambnao se in hindi,apne aap ko saksambano in hindi, ek kadam saksambano ki or in hindi,saksambano phir se in hindi, ek baar phir saksambano in hindi, ek kadam saksambano ki or in hindi, self saksambano in hindi, give advice to others for saksambano, saksambano ke upaya in hindi, saksambano-saksambano india in hindi, saksambano-saksambano phir se in hindi, सक्षम बनो हिन्दी में, sab se pahle saksambano, sab se pahle saksam bano, aaj hi sab se pahle saksambano, aaj hi sab se pahle saksam bano, saksambano jaldi in hindi, saksambano purn roop se in hindi, saksambano tum bhi in hindi, saksambano mein bhi in hindi, saksambano ke labh in hindi, saksambano ke prakar in hindi, saksambano parivar in hindi, saksambano har parivar in hindi, hare k parivar saksambano in hindi, parivar se saksambano in hindi,  daivik sakti in hindi, ayurvedic gyan in hindi, ayurvedic gyan kyan hai in hindi,  aaj se ayurvedic gyan in hindi, ayurvedic gyan ke barein mein in hindi, ayurvedic gyan se labh in hindi, ayurvedic gyan se ilaz in hindi, shiv-parvati in hindi,  daivic- sangrah in hindi, swasth- swasthya in hindi, sukh-dukh-grah in hindi, uric acid in hindi, uric acid ke barein mein in hindi, uric  acid kya hai in hindi, uric acid kiyon hota hai in hindi, uric acid ke nuksaan in hindi, how to uric acid control in hindi, aaj kiyo uric etna ho gaya hai in hindi,  uric acid ke prati sakshambano, uric acid ke prati sakshambano in hindi, aaj tak uric acid ek samavaya ban gay gayi hai, uric acid ke prati jagruk, uric acid kaise banta hai, uric symptoms in hindi, what-is-uric-acid-and-how-to-control-it, causes-of-uric-acid in hindi, uric-acid-level-chart-sakshambano, uric-acid-ke-barein-mein-sakshambano,aaj se hi uric acid control-sakshambano, uric acid ke prati gyan in hindi, uric-free, bano uric free, uric-acid-abhi-se-door-karon, aaj hi sakshambano, abhi se sakshambano, aaj se hi sakshambano, sakshambano se safalta, kiya hai sakshambano, aaj ji dunia sakshambano, sakshambano mantra, sakshambano ka mantra, gyan kaise prapt hota hai in hindi,   श्रीमद्भागवत गीता में है हर समस्याओं का समाधान in hindi, There is a solution to every problem in the Shrimad Bhagwat Geeta in hindi, भगवान श्रीकृष्ण ने श्रीमद्भागवत गीता के द्वारा अर्जुन की सभी समस्याओं का समाधान के साथ-साथ जीवन में जीने के उददेश्य बताए in hindi, श्रीमद्भागवत गीता के 18 अध्यायों में सभी समस्याओं का समाधान और कामनाओं की पूर्ति करने का रास्ता बताया गया है in hindi, यदि किसी को बहुत ज्यादा चिंतित हैं in hindi, या फिर कहें आपको किसी कारणवश अपनी मृत्यु को लेकर डर बना रहता है in hindi, तो श्रीमद्भागवत गीता के आठवें अध्याय का पाठ पूरी श्रद्धा और विश्वास के साथ करना चाहिएin hindi, यदि किसी को अपने कठिन समय को लेकर किसी भी प्रकार से पीड़ित है in hindi, तो श्रीमद्भागवत गीता के छठे अध्याय का पाठ करना चाहिए in hindi, यदि किसी को अपने नौकरी, व्यपार की चिंता बनी है in hindi, या फिर काफी समय से बेरोजगार चल रहे हैं in hindi, यदि लगता है कि अपनी क्षमता के अनुसार अपने कार्य को अंजाम नहीं दे पा रहे हैं in hindi, तो गीता के नौवें अध्याय का पाठ करना चाहिए in hindi, यदि लगता है कि तमाम प्रयासों के बावजूद कार्य के अनुरूप लाभ नहीं मिल रहा है in hindi, तो गीता के चैदहवें अध्याय का पाठ करना चाहिए in hindi, इस उपाय से सारे कार्य के अनुरूप ही नहीं बल्कि उससे कहीं ज्यादा लाभ मिलने की संभावनाएं बनने लगती है in hindi, मृत्यु का भय दूर हो जाता है in hindi, अर्जुन ने कहा in hindi,, हे पुरुषोतम! वह ब्रह्म क्या है?in hindi, अध्यात्म किसको कहते है? in hindi, कर्म क्या है? in hindi, अधिभूत क्या और अधिदैव क्या कहाता है? in hindi, हे मधुसूदन! अधियज्ञ कैसा है in hindi, और इस देह में अधिदेह कौन सा है? in hindi, मरने के समय में स्थिर चित वाले लोग तुमको कैसे जान जाते है in hindi, भगवान श्रीकृष्ण बोले जो अक्षर और परम है वही ब्रह्म है प्रत्येक वस्तु का स्वभाव अध्यात्म कहता है in hindi, और समस्त चराचर की उत्पति करने वाला जो विसर्ग है वह कर्म है in hindi, जो देह आदि नाशवान वस्तु है in hindi, वह अभिभूत कहता है विश्व रूप जो विराट पुरुष है वह अधिदेव है in hindi, इस देह में मैं ही अधियज्ञ हूँ in hindi, जो अंतकाल में मेरा ध्यान करता हुआ in hindi, और शरीर त्याग करता है वह निःसंदेह मेरे स्वरूप को पाता है in hindi, हे कुंती पुत्र! अंत समय मनुष्य जिस वस्तु का स्मरण करता हुआ शरीर त्यगता है in hindi, वह उसी को पाता है, इस कारण सदैव मुझ ही में मन और बुद्धि को लगाकर मेरा ही स्मरण करते हुए संग्राम करो in hindi, तुम निःसंदेह मुझको आ मिलोगे। हे पार्थ! अभ्यास रूप योग से युक्त हो दूसरी ओर न जाने वाले मन से सदा चिन्तन करता हुआ पुरुष परम् और दिव्य पुरुष को ही प्राप्त होता है in hindi, अतएव जो अंत समय में मन को एकाग्र कर भक्ति पूर्वक योगाभ्यास के बल से दोनों के मध्य भाग में प्राण को चढ़ाकर in hindi,, सर्वज्ञ अन्नादि सम्पूर्ण जगत के नियंता in hindi,, सूक्ष्म से भी सूक्ष्म तर in hindi,, सबके पोषक सबके पोषक अचिन्त्य स्वरूप in hindi,, सूर्य के सामान प्रकाशमान तमोगुण से रहित परम् पुरुष का ध्यान करता है वह उसको मिलता है वेद के जानने वाले जिसको अक्षर कहते है in hindi, सन्यासी जिसमे प्रवेश करते है तथा जिसको चाहने वाले ब्रह्मचर्य का आचरण करते है in hindi, उस परम् पद को तुमसे संक्षेप में कहता हूँ in hindi, सब इन्द्रियों को रोककर मनको हृदय में धारणकर प्राण को मस्तक में ल ेजाकर समाधि योग में स्थित इस अक्षर का उच्चारण करता हुआ देह को त्यागता है in hindi, उसे मोक्ष रूप उत्तम गति प्राप्त होती है in hindi, हे पार्थ! जो मुझ में मन लगाकर नित्य-प्रति मेरा स्मरण करते है in hindi, सदैव स्मरण करने वाले योगी को मैं बहुत सरलता से प्राप्त होता हूँ in hindi, मुझको प्राप्त होने पर परम् सिद्धि को प्राप्त करने वाले महात्मागण फिर यह जन्म धारण नहीं करते। जो नाशवान और दुःख का घर है, हे अर्जुन! ब्रह्मलोक जितने लोक है वहां से लौटना पड़ता है परन्तु मुझमें मिलने से फिर जन्म नहीं लेता, हजार महयोगियों की एक रात्रि ब्रह्म की होती है in hindi, जो इन बातों को जानते है वह सब ज्ञाता है in hindi, ब्रह्म का दिन होने पर अव्यक्त से सब व्यक्तियों का उदय होता है और रात को उसी में लय हो जाता हैin hindi, हे पार्थ! समस्त चराचर वस्तुओं का यह समुदाय दिन में बार-बार उत्पन्न होकर रात्रि के आगमन में लीन हो जाता हैin hindi, अव्यक्त से परे दूसरा सनातन अव्यक्त हैin hindi, जो इन सब के नष्ट होने पर भी कभी नष्ट है होता उस अव्यक्त को ही अक्षर कहते है। वही वह परम् गति है जिसको प्राप्त करके फिर संसार में नहीं जन्मते वही मेरा परम् धाम है। हे पार्थ! जिसके अंतर्गत सब प्राणी है और जसने इस समस्त जगत का विस्तार कर रखा है in hindi, वह श्रेष्ठ पुरुष अनन्य भक्ति में ही मिलता है। हे भरतषर्भ! जिस काल में लौट आते है in hindi, अब वह काल बतलाता हूँ in hindi, जिस काल में अग्नि, प्रकाश और दिन शुक्ल पक्ष हो ऐसे उत्तरायण के ६ महीने में मृत्यु को प्राप्त हुए ब्रह्मादिक ब्रह्म को प्राप्त होते है in hindi, रात कृषणपक्ष, दक्षिणयन के ६ महीने इनके मध्य गमन करने वाले चन्द्रमा की ज्योति को पहुंचते है in hindi, और लौट आते है। संसार की नित्य चलने वाली शुक्ल और कृष्ण नाम की दो गतियां है in hindi, एक से आने पर लौटने पड़ता है और दूसरी पर फिर लौटने नहीं होता हैin hindi, हे पार्थ! योगी इन दोनों गतियों का तत्व जानता है in hindi, इसी से मोह में नहीं पड़ता अतएव हे अर्जुन! तुम सदा योगयुक्त हो in hindi, वेद, यज्ञ, तप और दान में जो पुण्य फल बतलाय गए है, योगी उन सबसे अधिक ऐश्वर्य प्राप्त है और सर्वोत्तम आदि स्थान पाता है in hindi, श्री नारायणजी बोले-हे लक्ष्मी! दक्षिण देश नर्वदा नदी के तट पर एक नगर है in hindi, उनमें सुशर्मा नामक एक बड़ा धनवान विप्र रहता था in hindi, एक दिन उसने एक संत से पूछा ऋषि जी मेरे संतान नहीं है in hindi, तब ऋषिश्वर ने कहा तू अश्वमेघ यज्ञ कर, बकरा देवी को चढ़ा, देवी तुझको पुत्र देगी, तब उस ब्राह्मण ने यज्ञ करने को एक बकरा मोल लिया उसको स्नान कर मेवा खिलाया in hindi, जब उसको मारने लगा तब बकरा कह -कह शब्द करके हंसा, तब ब्राह्मण ने पूछा हे बकरे! in hindi, तू क्योँ  हँसा है तब बकरे ने कहा पिछले जन्म में मेरे भी संतान नहीं थी in hindi, एक ब्राह्मण में मुझे भी अश्वमेघ का यज्ञ करने को कहा था, सारी नगरी में बकरी का बच्चा दूध चूसता था उस बच्चे समेत बकरी को मोल ले लिया in hindi, जब उसको बकरी के स्तन से छुडाकर यज्ञ करने लगा तब बकरी बोली अरे ब्रह्मण तू ब्राह्मण नहीं जो मेरे पुत्र को होम में देने लगा है in hindi, तू महापापी है। यह कभी सुना है in hindi, कि पराये पुत्र को मारने से किसी को पुत्र पाया है, तू अपनी संतान के लिए मेरे पुत्र को मारता है तू निर्दयी है in hindi, तेरे पुत्र नहीं होगा। वह बकरी कहती रही पर मैंने होम कर दिया, बकरी ने श्राप दिया कि तेरा गाला भी इसी तरह कटेगा in hindi, इतना कह बकरी तड़फ कर मर गई in hindi, कई दिन बीते मेरा भी काल हुआ यमदूत मारते-मारते धर्मराज के पास ले गये तब धर्मराज ने कहा इसको नर्क में दे दो। यह बड़ा पापी है फिर नरक भोगकर बानर की योनि दी in hindi, एक बाजीगर ने मोल ले लिया, यह मेरे गले में रज्जु दाल कर द्वार- द्वार सारा दिन मांगता फिरे in hindi, खाने को थोड़ा दिया करे जब बानर की देह निकली तो कुत्ते की देह मिली, एक दिन मैंने किसी की रोटी चुरा कर खाई in hindi, उसने ऐसी लाठी मारी की पीठ टूट गई in hindi, उस दुःख से मेरे मृत्यु हो गई, फिर घोड़े की देह पाई उस घोड़े को एक भटियारे ने मोल लिया वह सारा दिन चलाया करे, खाने- पिने को खबर ने ले वे साँझ समय छोटी से रस्सी के साथ बांध छोड़े in hindi, ऐसा बांधे कि मैं मक्खी भी न उड़ा सकू, एक दिन दो बालक एक कन्या मेरे ऊपर चढ़कर चलाने लगे वहाँ कीचड़ अधिक था फँस गयाin hindi, ऊपर से वह मुझे मारने लगे मेरी मृत्यु हो गई in hindi, इस भांति अनेक जन्म भोगे, अब बकरे का जन्म पाया मैनें जाना था in hindi,जो इसने मुझे मोल लिया है मैं सुख पाउँगा तू छुरी ले कर मारने लगा है in hindi, तब ब्रह्मण ने कहा, हे बकरे! तुझे भी जान प्यारी है अब मैं अपने नेत्रों से देखी हुई कहता हूँ तो सुन कुरुक्षेत्र में चंद्र सुशर्मा राजा स्नान कर ने आया, उसने ब्रह्मण से पूछा ग्रहण में कौन सा दान करूँ in hindi, उसने कहा राजन काले पुरुष का दान कर तब राजा ने काले लोहे का पुरुष बनवाया नेत्रों को लाल जड़वा सोने के भूषण पहना का तैयार किया। वह पुरुष कह-कह कर हंसा, राजा डर गया और कहा की कोई बड़ा अवगुण है जो लोहे का पुरुष हंसा तब राजा ने बहुत दान किया फिर हंसा, ब्रह्मण को कहा हे ब्राह्मण तू मुझे लेगा in hindi, तब ब्राह्मण ने कहा मैंने तेरे सरीखे कई पचाये है in hindi, तब काले पुरुष ने कहा तू मुझको वह कारण बता जिस कारण से तू ने अनेक दान पाचय है, तब विप्र ने कहा जो गुण मेरे में है सो मैं ही जानता हूँ। तब वह काला पुरुष कह-कह कर फट गया उसमें से एक और कलिका की मूर्ति निकल आई in hindi, तब विप्र ने श्री गीताजी के आठवां अध्याय का पाठ किया in hindi, उस कलिका की मूर्ति ने सुन कर देह पलटी जल की अंजलि भर के उस पर छिडकी जल के छिड़कने से तत्काल उस की देह ने देवदेहि पाई in hindi, विमान पर बैठ कर बैकुंठ को गई in hindi, तब उस राजा ने कहा तुम्हारे में भी कोई ऐसा है in hindi, जिसके शब्द से मैं भी अधर्म देह से मुक्ति पाऊं तब उस विप्र ने कहा मैं वेदपाठी हूँ in hindi, उस नगर में एक साधु भी गीता जी का पाठ किया करता था in hindi, अजा ने उससे आठवां अध्याय का पाठ श्रवण किया और देह को मुक्ति प्राप्त हुई और कहता गया की हे ब्राह्मण तू भी गीता जी का पाठ किया कर तुम्हरा भी कल्याण होगा, तब वह ब्राह्मण श्री गीता जी का पाठ करने लगा in hindi, चिचिण्डा, Chichinda Snake Gourd in hindi, केसर का उपयोग और फायदे, Uses and benefits of Saffron in hindi, मसूड़ों में दर्द और खून की परेशानी दूर, Gums pain and blood problems go away in hindi, करौंदा, Karonda in hindi, क्रैनबेरी Cranberry, एसिडिटी है क्या? अब नहीं, Acidity not now in hindi, एक सेब हर सुबह और फिर देखें फायदे, An apple every morning and then see the benefits in hindi, अदरक के औषधीय गुणों से कई फायदे, Medicinal properties of ginger have many benefits in hindi, हल्दी, अदरक और दालचीनी युक्त चाय से फायदे, Benefits of tea containing turmeric ginger and cinnamon, भृंगराज में अति-उपयोगी औषधीय गुण, Very useful medicinal properties in Bhringraj in hindi, मूली के फायदे और नुकसान, Advantages and disadvantages of Radish in hindi, लहसुन का उपयोग और इसके फायदे और नुकसान, Use of garlic and its advantages and disadvantages in hindi, बेलपत्र का धार्मिक और औषधीय महत्व, Religious and medicinal importance of Belpatra in hindi, शहद इस्तेमाल कहाँ और कैसे?, Where and how to use honey? in hindi, बस हर रोज खाली पेट खा लें, Just eat everyday an empty stomach in hindi, औषधि गुणों का भंडार सौंफ, Fennel has sufficient medicinal properties in hindi, स्वास्थ्य के लिए इतना जरूरी किशमिश और मुनक्का, Raisins and grapes are so important for health in hindi, पत्थरचट्टा पथरी निकालने में मददगार, Helpful in removing stones in hindi, दही के साथ भुने जीरे के अनेक फायदे, Many benefits of roasted cumin with curd in hindi,प्याज करें सर्दी-जुकाम दूर, Onion removes cough and cold in hindi, अमरूद करे कई बीमारियों का काम तमाम, Guava eradicate many diseases in hindi, आम खाने से लाजवाब फायदे, Great benefits from eating mango in hindi, खजूर से बीमारियाँ भागे दूर, Diseases ran away from dates in hindi, एक साथ ये चीजें नहीं खानी चाहिए, Do not eat these things together in hindi, प्याज दिलाये कई बीमारियों से छुटकारा, Onion will get rid of many diseases in hindi, नारियल पानी काम अमृत जैसा,Coconut water, work like nectar in hindi, नारियल तेल पिए एक चम्मच खाली पेट, Drink one spoonful coconut oil on empty stomach in hindi, कटहल के सेवन से फायदा कम नुकसान ज्यादा न हो जाए, Jackfruit advantages and disadvantages in hindi, नाशपाती खाने से कई फायदे, Many benefits from pears in hindi, लाभदायक गुणों से भरपूर निर्गुंडी, Nirgundi is satiate of beneficial qualities in hindi, पारिजात का पौराणिक महत्व, Mythological significance of Parijat in hindi,  स्वस्थ-स्वास्थ्य के लिए कचनार की उपयोगिता, Utility of Kachnar for Healthy Health in hindi, तेज पत्ता डालचीनी हर तरह से फायदेमंद, Bay leaf Dalchini beneficial in every way in hindi, हल्दी के अनेकों लाभ, Many benefits of Turmeric in hindi, मजबूत रोग प्रतिरोधक क्षमता जरूरी, Make Strong Immunity in hindi, जीवन में पीपल की उपयोगिता, Peepal utility in life in hindi, पवित्रता की शक्ति तुलसी, Pavitrata Ki Shakti Tulsi in hindi, मसूड़ों में दर्द और खून की परेशानी दूर, Gums pain and blood problems go away in hindi, ठीक नहीं बार-बार मुँह सूखना, Not good frequent mouth dryness in hindi, सिर दर्द की वजह क्या है? इसके लिए घरेलू उपचार,What Causes Headache? Home remedies for it in hindi, सुबह खाली पेट नींबू के साथ गुड़ के फायदे, Jaggery and lemon benefits for weight loss in hindi, हार्ट ब्लॉकेज कभी नही हो सकता, Heart blockage can never happen in hindi, नसों में कमजोरी क्यों आती है?, Why weakness comes in veins? in hindi, क्यों होते हैं पेट में कीड़े?, Why are there bugs in the stomach? in hindi, कान दर्द कभी नहीं, Never earache in hindi, फंगल इंफेक्शन की परेशानी, अब नहीं रहेगी, Fungal infection problem will not be longer in hindi, खुजली को कैसे दूर रखें, How to get rid of itching in hindi, सरलता से बुखार का उपचार, Fever home remedies in hindi, फेफड़ों के कैंसर से बचने के उपाय, How to save of lung cancer in hindi, मस्सा छुवा छूत से होने वाला वायरस है, Wart is contagiousness virus in hindi, मांसपेशियों में दर्द, Ache in Muscles in hindi, अनावश्यक मिलने की जिद् स्वयं के लिए घातक हो सकती है, थायराइड की पहचान और उपाय,Thyroid detection & solutions in hindi, कोलेस्ट्रॉल कैसे प्रभावित होता है?, How is cholesterol affected? in hindi, कैसे रखें स्वस्थ हृदय, How to keep Healthy Heart in hindi, एसिडिटी आसानी से दूर होती है, Acidity goes away easily in hindi, आम समस्या बन गई-यूरिक एसिड, Uric acid became a common problem in hindi, क्यों नहीं? लंबाई तो बढ़ेगी,Why not? Length will increase in hindi, तंत्रिका तंत्र Nervous Systems in hindi, शरीर के लिए मिनरल्स जरूरी, Minerals are necessary for body in hindi, विटामिन B9 in hindi, फोलेट Folate, विटामिन B7 in hindi, बायोटिन Biotin, विटामिन बी6, Vitamin B6 in hindi, विटामिन बी5, Vitamin B5 in hindi, विटामिन बी3 बनाये बुढ़ापे तक जवान, Vitamin B3 keep young till old age in hindi, विटामिन बी2 मतलब फुर्ती,Vitamin B2 Means Energy in hindi, विटामिन K के लिए घरेलू उपाय, Home remedies for Vitamin K in hindi, विटामिन ई के अनेक फायदे,Vitamin E has many benefits in hindi, विटामिन ए की उपयोगिता, Utility of Vitamin A in hindi, विटामिन सी की आवश्यकता और कमी, Vitamin C need & deficiency in hindi, विटामिन बी Vitamin-B; Vitamin B Complex in hindi, विटामिन डी की आवश्यकता, Need of Vitamin D in hindi, पीने के पानी की शुद्धता का चयन, Selection of purity of drinking water in hindi, स्वस्थ स्वास्थ्य के लिए जरूरी,Vitamin B12 Essential For Healthy Health in hindi, कब, कितना, कैसे पानी पीना चाहिए, When, how much, how you should drink water in hindi, मंगल दोष मिट जाता है, भौम प्रदोष व्रत, bhaum pradosh vrat katha in hindi, परिवर्तिनी एकादशी, Parivartini Ekadashi in hindi, हरतालिका तीज-Hartalika Teej in hindi, समस्याओं से मुक्ति पाने के लिए कैसे करें पूजा, How to worship to get rid of problems in hindi, इस व्रत से भगवान विष्णु हर मनोकामना पूर्ण करते है, Bhagwan Vishnu fulfills every wish with this fast in hindi, शुक्र से सुख-समृद्धि की प्राप्ति, Attain prosperity from Venus in hindi, आरोग्य के लिए आदित्य हृदय स्तोत्र पाठ, Arogya ke liye Aditya Hridaya Stotra Paath in hindi, कैसे बनता है? मंगल दोष से मंगलमयी जीवन, How is made? Happy life with Mangal Dosh in hindi, पंचकों की उपयोगिता, Utility of quintets in hindi, पूर्णिमा के दिन पूजा से समस्त दुःख दूर होते हैं, Pooja on Purnima Day it removes all sorrows in hindi, माँ संतोषी सुख समृद्धि की देवी, Maa Santoshi Goddess of Happiness & Prosperity in hindi, बैकुण्ठ चतुर्दशी से बैकुण्ठ धाम की प्राप्ति, Baikunth Chaturdashi in hindi, हर प्रकार के दुखों से मुक्ति देती है अनन्त चतुर्दशी, Anant Chaturdashi in hindi, शनि-कृपा से अच्छे दिन अवश्य आते हैं, Shani kirpa se acche din avashya aate hain in hindi, धनतेरस के दिन ऐसा कीजिये, Do it on the day of Dhanteras in hindi, अमावस्या के दिन पूजा से हर मनोकामना पूर्ण होती है, Worship on the Amavasya every wish is fulfilled in hindi, क्यों रूद्राक्ष को फलदायी माना जाता है?, Kyon Rudraksha ko phaldayee mana jata hai? in hindi, नाग पंचमी के दिन शिव पूजा से हर मनोकामना पूरी होती है, Nag Panchami ke din Shiv-Pooja se har manokamna poori hoti hai in hindi, हर प्रकार की सफलता के लिए श्रीफल, Har Prakar Ki Saphalta Ke Liye Shreephal in hindi, पाप कर्मों से मुक्त करती है जया एकादशी, Paap Karmon Se Mukt Karti Hai - Jaya Ekadashi in hindi, सुख-समृद्धि की देवी सरस्वती, Sukh Samridhi Ki Devi Saraswati in hindi, प्रसन्नता का प्रतीक बसंत पंचमी, Prasanata Ka Prateek-Basant Panchmi in hindi, हर संकट दूर करता है संकट चौथ व्रत, Har Sankat Door Karta Hai Sankat Chauth Vrat in hindi, शंख से शुभ लाभ, Shankh Se Shubh Labh in hindi, गायत्री चालीसा, Gayatri Chalisa in hindi, कुछ भी मांगने की आवश्यकता ही नही पड़ती, Kuch bhi mangne ki avashyakata hi nahi padti in hindi, लोक प्रलोक में श्राद्ध का पुण्य प्राप्त होता है, Lok-Pralok Mein Sharad ka Punya milta hai in hindi, गायत्री जी की आरती,  Gayatri Arti in hindi, कालसर्प का प्रकोप कैसे ?  शिव की पूजा से काल का भय कैसे ? (Kaalsarp ka prakop kaise? Shiv ki pooja se kaal ka bhay kaise?) in hindi,  हर प्रकार से राजयोग का संयोग बनाता है बुध ग्रह, Har Prakar Se Rajayog ka Sanyog Banata Hai Budh Grah in hindi, हर दुखों का निवारण करता है, पवित्र श्रावण मास, Har Dukhon Ka Nivaran Karta Hai Pavitr Sharavan Maas in hindi, गायत्री मंत्र द्वारा मन पवित्र, Gayatri Mantra Dwara Man Pavitr in hindi, भगवान श्री गणेश ने महाभारत कथा को लिखित रूप दिया, Lord Shri Ganesh wrote the Mahabharata Katha in hindi,  मृत्यु के देव की भी मृत्यु, Death of death god in hindi, माण्डव्य ऋषि द्वारा यमराज को श्राप, Yamraj cursed by Mandavya Rishi in hindi, केवल युधिष्ठिर जानते थे स्वर्गलोक पहुँचने का रास्ता,  Only Yudhishthira knew the way to reach heaven in hindi, इस खजाने के पहरेदार है नाग देवता, Naag Devta is janitor of this treasure in hindi, इस गाँव को मिला सुख-समृद्धि का वरदान,This village got a boon of happiness and prosperity in hindi, सिंदूर से क्यों प्रसन्न होते है बजरंगबली, Why does glad Bajrangbali for vermilion in hindi, हर वर्ष मानवता बनी रहे, यही मेरी कामना, Every year humanity persist, that's my wish in hindi, समस्त विश्व के लिए शांति की कामना, Samast vishv ke liye shanti ki kamna in hindi, कुछ समय इस दायित्व के लिए, kuch samay es dayitv ke liye in hindi, कर्तव्य स्वयं परिचय सेे परिचत कराता है, Kartavya swayam parichay se parichit karata hai in hindi,  आज हम सब कहाँ है?, Aaj hum sab kahan hai? in hindi, हमारा से मेरा फिर भी अशांति क्यों ?, Hamara Se Mera Phir Bhi Ashaanti Kyon? in hindi,

श्रीमद्भागवत गीता में है हर समस्याओं का समाधान
(There is a solution to every problem in the Shrimad Bhagwat Geeta in hindi)
  • भगवान श्रीकृष्ण ने श्रीमद्भागवत गीता के द्वारा अर्जुन की सभी समस्याओं का समाधान के साथ-साथ जीवन में जीने के उददेश्य बताए। श्रीमद्भागवत गीता के 18 अध्यायों में सभी समस्याओं का समाधान और कामनाओं की पूर्ति करने का रास्ता बताया गया है। यदि किसी को बहुत ज्यादा चिंतित हैं या फिर कहें आपको किसी कारणवश अपनी मृत्यु को लेकर डर बना रहता है तो श्रीमद्भागवत गीता के आठवें अध्याय का पाठ पूरी श्रद्धा और विश्वास के साथ करना चाहिए। यदि किसी को अपने कठिन समय को लेकर किसी भी प्रकार से पीड़ित है तो श्रीमद्भागवत गीता के छठे अध्याय का पाठ करना चाहिए। यदि किसी को अपने नौकरी, व्यपार की चिंता बनी है या फिर काफी समय से बेरोजगार चल रहे हैं। यदि लगता है कि अपनी क्षमता के अनुसार अपने कार्य को अंजाम नहीं दे पा रहे हैं तो गीता के नौवें अध्याय का पाठ करना चाहिए। यदि लगता है कि तमाम प्रयासों के बावजूद कार्य के अनुरूप लाभ नहीं मिल रहा है तो गीता के चैदहवें अध्याय का पाठ करना चाहिए। इस उपाय से सारे कार्य के अनुरूप ही नहीं बल्कि उससे कहीं ज्यादा लाभ मिलने की संभावनाएं बनने लगती है। 
मृत्यु का भय दूर हो जाता है
  • अर्जुन ने कहा, हे पुरुषोतम! वह ब्रह्म क्या है? अध्यात्म किसको कहते है? कर्म क्या है? अधिभूत क्या और अधिदैव क्या कहाता है? हे मधुसूदन! अधियज्ञ कैसा है और इस देह में अधिदेह कौन सा है? मरने के समय में स्थिर चित वाले लोग तुमको कैसे जान जाते है, भगवान श्रीकृष्ण बोले जो अक्षर और परम है वही ब्रह्म है प्रत्येक वस्तु का स्वभाव अध्यात्म कहता है और समस्त चराचर की उत्पति करने वाला जो विसर्ग है वह कर्म है, जो देह आदि नाशवान वस्तु है वह अभिभूत कहता है विश्व रूप जो विराट पुरुष है वह अधिदेव है इस देह में मैं ही अधियज्ञ हूँ, जो अंतकाल में मेरा ध्यान करता हुआ और शरीर त्याग करता है वह निःसंदेह मेरे स्वरूप को पाता है, हे कुंती पुत्र! अंत समय मनुष्य जिस वस्तु का स्मरण करता हुआ शरीर त्यगता है वह उसी को पाता है, इस कारण सदैव मुझ ही में मन और बुद्धि को लगाकर मेरा ही स्मरण करते हुए संग्राम करो, तुम निःसंदेह मुझको आ मिलोगे। हे पार्थ! अभ्यास रूप योग से युक्त हो दूसरी ओर न जाने वाले मन से सदा चिन्तन करता हुआ पुरुष परम् और दिव्य पुरुष को ही प्राप्त होता है, अतएव जो अंत समय में मन को एकाग्र कर भक्ति पूर्वक योगाभ्यास के बल से दोनों के मध्य भाग में प्राण को चढ़ाकर, सर्वज्ञ अन्नादि सम्पूर्ण जगत के नियंता, सूक्ष्म से भी सूक्ष्म तर, सबके पोषक सबके पोषक अचिन्त्य स्वरूप, सूर्य के सामान प्रकाशमान तमोगुण से रहित परम् पुरुष का ध्यान करता है वह उसको मिलता है वेद के जानने वाले जिसको अक्षर कहते है, सन्यासी जिसमे प्रवेश करते है तथा जिसको चाहने वाले ब्रह्मचर्य का आचरण करते है, उस परम् पद को तुमसे संक्षेप में कहता हूँ, सब इन्द्रियों को रोककर मनको हृदय में धारणकर प्राण को मस्तक में ल ेजाकर समाधि योग में स्थित इस अक्षर का उच्चारण करता हुआ देह को त्यागता है, उसे मोक्ष रूप उत्तम गति प्राप्त होती है। हे पार्थ! जो मुझ में मन लगाकर नित्य-प्रति मेरा स्मरण करते है, सदैव स्मरण करने वाले योगी को मैं बहुत सरलता से प्राप्त होता हूँ। मुझको प्राप्त होने पर परम् सिद्धि को प्राप्त करने वाले महात्मागण फिर यह जन्म धारण नहीं करते। जो नाशवान और दुःख का घर है, हे अर्जुन! ब्रह्मलोक जितने लोक है वहां से लौटना पड़ता है परन्तु मुझमें मिलने से फिर जन्म नहीं लेता, हजार महयोगियों की एक रात्रि ब्रह्म की होती है जो इन बातों को जानते है वह सब ज्ञाता है, ब्रह्म का दिन होने पर अव्यक्त से सब व्यक्तियों का उदय होता है और रात को उसी में लय हो जाता है। हे पार्थ! समस्त चराचर वस्तुओं का यह समुदाय दिन में बार-बार उत्पन्न होकर रात्रि के आगमन में लीन हो जाता है। अव्यक्त से परे दूसरा सनातन अव्यक्त है, जो इन सब के नष्ट होने पर भी कभी नष्ट है होता उस अव्यक्त को ही अक्षर कहते है। वही वह परम् गति है जिसको प्राप्त करके फिर संसार में नहीं जन्मते वही मेरा परम् धाम है। हे पार्थ! जिसके अंतर्गत सब प्राणी है और जसने इस समस्त जगत का विस्तार कर रखा है वह श्रेष्ठ पुरुष अनन्य भक्ति में ही मिलता है। हे भरतषर्भ! जिस काल में लौट आते है अब वह काल बतलाता हूँ। जिस काल में अग्नि, प्रकाश और दिन शुक्ल पक्ष हो ऐसे उत्तरायण के ६ महीने में मृत्यु को प्राप्त हुए ब्रह्मादिक ब्रह्म को प्राप्त होते है। रात कृषणपक्ष, दक्षिणयन के ६ महीने इनके मध्य गमन करने वाले चन्द्रमा की ज्योति को पहुंचते है और लौट आते है। संसार की नित्य चलने वाली शुक्ल और कृष्ण नाम की दो गतियां है एक से आने पर लौटने पड़ता है और दूसरी पर फिर लौटने नहीं होता है। हे पार्थ! योगी इन दोनों गतियों का तत्व जानता है इसी से मोह में नहीं पड़ता अतएव हे अर्जुन! तुम सदा योगयुक्त हो, वेद, यज्ञ, तप और दान में जो पुण्य फल बतलाय गए है, योगी उन सबसे अधिक ऐश्वर्य प्राप्त है और सर्वोत्तम आदि स्थान पाता है। 
  • श्री नारायणजी बोले-हे लक्ष्मी! दक्षिण देश नर्वदा नदी के तट पर एक नगर है उनमें सुशर्मा नामक एक बड़ा धनवान विप्र रहता था। एक दिन उसने एक संत से पूछा ऋषि जी मेरे संतान नहीं है, तब ऋषिश्वर ने कहा तू अश्वमेघ यज्ञ कर, बकरा देवी को चढ़ा, देवी तुझको पुत्र देगी, तब उस ब्राह्मण ने यज्ञ करने को एक बकरा मोल लिया उसको स्नान कर मेवा खिलाया जब उसको मारने लगा तब बकरा कह -कह शब्द करके हंसा, तब ब्राह्मण ने पूछा हे बकरे! तू क्योँ  हँसा है तब बकरे ने कहा पिछले जन्म में मेरे भी संतान नहीं थी, एक ब्राह्मण में मुझे भी अश्वमेघ का यज्ञ करने को कहा था, सारी नगरी में बकरी का बच्चा दूध चूसता था उस बच्चे समेत बकरी को मोल ले लिया। जब उसको बकरी के स्तन से छुडाकर यज्ञ करने लगा तब बकरी बोली अरे ब्रह्मण तू ब्राह्मण नहीं जो मेरे पुत्र को होम में देने लगा है तू महापापी है। यह कभी सुना है कि पराये पुत्र को मारने से किसी को पुत्र पाया है, तू अपनी संतान के लिए मेरे पुत्र को मारता है तू निर्दयी है, तेरे पुत्र नहीं होगा। वह बकरी कहती रही पर मैंने होम कर दिया, बकरी ने श्राप दिया कि तेरा गाला भी इसी तरह कटेगा, इतना कह बकरी तड़फ कर मर गई। कई दिन बीते मेरा भी काल हुआ यमदूत मारते-मारते धर्मराज के पास ले गये तब धर्मराज ने कहा इसको नर्क में दे दो। यह बड़ा पापी है फिर नरक भोगकर बानर की योनि दी, एक बाजीगर ने मोल ले लिया, यह मेरे गले में रज्जु दाल कर द्वार- द्वार सारा दिन मांगता फिरे, खाने को थोड़ा दिया करे जब बानर की देह निकली तो कुत्ते की देह मिली, एक दिन मैंने किसी की रोटी चुरा कर खाई, उसने ऐसी लाठी मारी की पीठ टूट गई, उस दुःख से मेरे मृत्यु हो गई, फिर घोड़े की देह पाई उस घोड़े को एक भटियारे ने मोल लिया वह सारा दिन चलाया करे, खाने- पिने को खबर ने ले वे साँझ समय छोटी से रस्सी के साथ बांध छोड़े, ऐसा बांधे कि मैं मक्खी भी न उड़ा सकू, एक दिन दो बालक एक कन्या मेरे ऊपर चढ़कर चलाने लगे वहाँ कीचड़ अधिक था फँस गया, ऊपर से वह मुझे मारने लगे मेरी मृत्यु हो गई। इस भांति अनेक जन्म भोगे, अब बकरे का जन्म पाया मैनें जाना था जो इसने मुझे मोल लिया है मैं सुख पाउँगा तू छुरी ले कर मारने लगा है। तब ब्रह्मण ने कहा, हे बकरे! तुझे भी जान प्यारी है अब मैं अपने नेत्रों से देखी हुई कहता हूँ तो सुन कुरुक्षेत्र में चंद्र सुशर्मा राजा स्नान कर ने आया, उसने ब्रह्मण से पूछा ग्रहण में कौन सा दान करूँ, उसने कहा राजन काले पुरुष का दान कर तब राजा ने काले लोहे का पुरुष बनवाया नेत्रों को लाल जड़वा सोने के भूषण पहना का तैयार किया। वह पुरुष कह-कह कर हंसा, राजा डर गया और कहा की कोई बड़ा अवगुण है जो लोहे का पुरुष हंसा तब राजा ने बहुत दान किया फिर हंसा, ब्रह्मण को कहा हे ब्राह्मण तू मुझे लेगा, तब ब्राह्मण ने कहा मैंने तेरे सरीखे कई पचाये है। तब काले पुरुष ने कहा तू मुझको वह कारण बता जिस कारण से तू ने अनेक दान पाचय है, तब विप्र ने कहा जो गुण मेरे में है सो मैं ही जानता हूँ। तब वह काला पुरुष कह-कह कर फट गया उसमें से एक और कलिका की मूर्ति निकल आई तब विप्र ने श्री गीताजी के आठवां अध्याय का पाठ किया। उस कलिका की मूर्ति ने सुन कर देह पलटी जल की अंजलि भर के उस पर छिडकी जल के छिड़कने से तत्काल उस की देह ने देवदेहि पाई, विमान पर बैठ कर बैकुंठ को गई। तब उस राजा ने कहा तुम्हारे में भी कोई ऐसा है जिसके शब्द से मैं भी अधर्म देह से मुक्ति पाऊं तब उस विप्र ने कहा मैं वेदपाठी हूँ। उस नगर में एक साधु भी गीता जी का पाठ किया करता था। अजा ने उससे आठवां अध्याय का पाठ श्रवण किया और देह को मुक्ति प्राप्त हुई और कहता गया की हे ब्राह्मण तू भी गीता जी का पाठ किया कर तुम्हरा भी कल्याण होगा, तब वह ब्राह्मण श्री गीता जी का पाठ करने लगा।