हल्दी, अदरक और दालचीनी युक्त चाय से फायदे- Benefits of tea containing turmeric, ginger and cinnamon

Share:


Drink natural tea without milk and sugar in hindi, प्राकृतिक चाय   डायबिटीज,  हाई ब्लड प्रेशर, माइग्रेन, एसिड, सूजन के लिए  in hindi,Natural tea for diabetes, high blood pressure, migraine, acid, inflammation in hindi,Herbal tea reduce quick weight in hindi, तेजी से वजन घटाने के लिए हर्बल चाय in hindi, हल्दी, अदरक और दालचीनी युक्त चाय से फायदे  hindi, Benefits of tea containing turmeric, ginger and cinnamon in hindi in hindi, हल्दी अदरक दालचीनी hindi, haldi dalchini adrak ke fayde in hindi,  haldi dalchini adrak pfd in hindi,  haldi dalchini adrak ke barein mein in hindi, dalchini or adrak ke fayde in hindi, turmeric, ginger and cinnamon tea in hindi, haldi adrak aur dalchini ki chai pine ke fayde in hindi, haldi adrak dalchini ki chai for immunity in hindi, haldi adrak dalchini ki chai for winter in hindi, haldi adrak dalchini ki chai image, haldi adrak dalchini ki chai pfd in hindi, haldi adrak dalchini ki chai ki photo, haldi adrak dalchini ki chai jpeg, haldi adrak dalchini ki chai gif, haldi adrak dalchini ki chai jpg, aaj hi piye haldi adrak dalchini ki chai in hindi, pike to dekhein haldi adrak dalchini ki chai in hindi, sakshambano ka matlab in hindi सक्षम, sakshambano in hindi, sakshambano in eglish, sakshambano meaning in hindi, sakshambano in hindi, sakshambano ka matlab in hindi, sakshambano photo, sakshambano photo in hindi, sakshambano image in hindi, sakshambano image, sakshambano jpeg, sakshambano site in hindi, sakshambano wibsite in hindi, sakshambano website, sakshambano india in hindi, sakshambano desh in hindi, sakshambano ka mission hin hindi, sakshambano ka lakshya kya hai,  sakshambano ki pahchan in hindi,  sakshambano brand in hindi,  sakshambano company in hindi,  sakshambano author in hindi,  sakshambano kiska hai hindi,

तेजी से वजन घटाने के लिए हर्बल चाय
(Herbal tea reduce quick weight)

अदरक, दालचीनी और हल्दी मिलाकर बनी चाय पीने से इम्यून सिस्टम मजबूत बनता है और साथ-साथ अनेक बीमारियों को दूर करती है। 400 पानी, 2 चम्मच हल्दी, एक छोटा सा दालचीनी का टुकड़ा और 2 चम्मच पिसे हुए अदरक का रस। यह चाय सुबह के समय में खाली पेट लेनी है। एसे ही रात को सोने से पहले इस प्राकृतिक चाय का सेवन कर सकते हैं। यदि वजन जरूरत से अधिक हो गया हो तो आप इस प्राकृतिक चाय को सेवन सुबह उठने के बाद सेवन करें। करें। ऐसा करने से शरीर की चर्बी घटेगी और बिना मेहनत आदि के आप अपना वजन आसानी से घटा सकते हैं। 

प्राकृतिक चाय  
डायबिटीज,  हाई ब्लड प्रेशर, माइग्रेन, एसिड, सूजन के लिए 
(Natural tea for diabetes, high blood pressure, migraine, acid, inflammation)

डायबिटीज के रोगियों के लिए प्राकृतिक चाय का सेवन जरूर करना चाहिए। यह चाय शुगर के स्तर को नियंत्रित करती है। जिन लोगों को माइग्रेन की समस्या हो वह इस हर्बल चाय को जरूर पीएं। क्योंकि यह चाय सबसे पहले माइग्रेन से होने वाले सिर के दर्द को ठीक करती है। पेट में अपच व गैस की समस्या हो तो आप इस हर्बल चाय का सेवन जरूर करें। 

यह पेट के एसिड को कम करती है। जिसकी वजह से आप अपच से होने वाले रोगों से बचते हो। हर्बल चाय शरीर को अंदर से साफ करती है। यानि शरीर को डिटॉक्स करती है। जिससे शरीर स्वस्थ रहता है। इन सभी बीमारियों के अलावा भी यह हर्बल चाय शरीर की सूजन, हाई ब्लड प्रेशर की समस्या, पीसीओडी और गैस एसिडिटी आदि कई जानलेवा बीमारियों को खत्म कर देती है।

अपनाएं आयुर्वेद लाइफस्टाइल (Adopt ayurveda lifestyle in hindi)

बिना दूध-चीनी की प्राकृतिक चाय पीजिए
(Drink natural tea without milk and sugar) 

हल्दी : हल्दी एक वनस्पति है इसका वैज्ञानिक नाम करकुमा लोंगा है। प्राकृतिक रूप से इसका रंग पीला होता है। कच्ची हल्दी बिलकुल अदरक की तरह ही दिखती है। हल्दी के पाउडर को भोजन में एक मसाले की तरह इस्तेमाल किया जाता है। हल्दी के औषधीय गुण अनेक हैं, जिनमें एंटीइन्फ्लेमेटरी, एंटीऑक्सीडेंट, एंटीट्यूमर, एंटीसेप्टिक, एंटीवायरल, कार्डियोप्रोटेक्टिव (हृदय को स्वस्थ रखने वाला गुण), हेपटोप्रोटेक्टिव (लिवर स्वस्थ रखने वाला गुण) और नेफ्रोप्रोटेक्टिव (किडनी स्वस्थ रखने वाला गुण) गुण मुख्य हैं। हल्दी में मौजूद करक्यूमिन एंटी-इन्फ्लेमेट्री गुणों से भरपूर है। 

एक स्वस्थ व्यक्ति को दिनभर में 500 से 1000 मिलीग्राम करक्यूमिन की जरूरत होती है। एक चम्मच हल्दी में लगभग 200 मिलीग्राम करक्यूमिन होता है और इसलिए दिनभर में चार या पांच चम्मच हल्दी ले सकते हैं। इसका सीधा सेवन करने की बजाए हल्दी से बने अन्य प्रोडक्ट्स का सेवन करने से भी करक्यूमिन की कमी पूरी होती है। इसलिए यह स्वास्थ्य के लिए अति लाभदायक होती है।

अदरक : अदरक एक जड़ी-बूटी भी है, और पाचन-तंत्र, सूजन, शरीर के दर्द, सर्दी-खांसी जैसी बीमारियों में अदरक के इस्तेमाल से फायदे मिलते हैं। यह हृदय रोग, रक्त विकार, बवासीर आदि रोगों में भी अदरक के औषधीय गुण से लाभ मिलता है। भूख की कमी, बदहजमी, वात-पित्त दोष आदि में अदरक के औषधीय गुण के फायदे होते हैं। घाव, पथरी, बुखार, एनीमिया और मूत्र रोग में भी अदरक से लाभ होत हैं। अदरक को सूखी अवस्था में सोंठ कहते हैं। प्राचीन ग्रन्थों में अदरक का उल्लेख पाया जाता है। अदरक का पौधा कई वर्षों तक जीवित रहता है।

दालचीनी : तेज पत्ता एक आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है। इसकी पत्तियों और तेल का उपयोग दवा बनाने के लिए किया जाता है। कैंसर और गैस के इलाज के लिए तेज पत्ते का उपयोग किया जाता है। यह पित्त प्रवाह को उत्तेजित करता है जो पसीने का कारण बनता है। तेजपात मसाले के रुप में अति प्रचलित है। दालचीनी के रुप में इसकी छाल तथा सूखी पत्तियां गरम मसाले में प्रयोग होती है। यह एक तरह का गर्म मसाला है, जिसका उपयोग खाने में खुशबू तथा स्वाद बढ़ाने के लिए किया जाता है। 

तेज पत्ते में काफी मात्रा में कॉपर, पौटेशियम, कैल्शियम, मैग्नीशियम, सेलेनियम और आयरन पाया जाता है जो हमारे शरीर के लिए बहुत ही फायदेमंद होते हैं। अपच, गले के रोग तथा कफ निस्सारक औषधियों का यह मुख्य अवयव है। तेज पत्ता एक ऐसी आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है और इसमें शरीर के कई रोगों का उपचार है। सदियों से तेज पत्ता को राजा-महाराजाओं के मुकुट के अंदर लगाया जाता था ताकि वे तनाव से दूर रहें और तेज पत्ता में मौजूद एंटी इंफ्लेमेटरी गुण के कारण उनके सिर में होने वाली समस्या भी दूर होती थी। इसकी पत्तियों और तेल का उपयोग गैस कम करने और जोड़ों का दर्द कम करने के लिए किया जाता है। 

तेज पत्ता में कई तरह के प्रमुख लवण जैसे कॉपर, पोटैशियम, कैल्शियम, सेलेनियम और आयरन पाए जाते हैं, जो शरीर के लिए बहुत ही फायदेमंद होते हैं। खाने में इसका इस्तेमाल इसलिए भी किया जाता है क्योंकि इससे पाचन संबंधी बीमारियां दूर होती हैं। जो लोग चाय में तेज पत्ता डालते हैं, उन्हें कब्ज, एसिडिटी और मरोड़ जैसी समस्याएं नहीं होती। तेज पत्ता खाने से शरीर में रक्त का संतुलन बना रहता है, जिससे मधुमेह की समस्या नहीं होती। तेज पत्ते में एंटीऑक्सिडेंट गुण होते हैं, जो शरीर के इंसुलिन को स्वस्थ बनाते हैं।

इस प्रकार मधुमेह और इंसुलिन प्रतिरोध वाले लोगों के लिए तेज पत्ता अति लाभदायक होता है। डायबिटीज के रोगी भी तेज पत्ता इस्तेमाल कर सकते हैं क्योंकि यह रक्त ग्लूकोज, कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड के स्तर को कम करने में मदद करते हैं। पाउडर बनाकर भी तेज पत्ते का सेवन किया जा सकता है। 

No comments