बरसात के दिनों में टमाटर का जूस फायदेमंद- Tomato juice beneficial in rainy days

Share:
sakshambano in hindi, sakshambano website, sakshambano article in hindi, sakshambano pdf in hindi, sakshambano  jpeg, sakshambano sab in hindi, kaise sakshambano  in hindi टमाटर  सेवन से रक्त के थक्के नहीं बनते in hindi, Tomatoes do not form blood clots in hindi,शरीर को रेडिकल्स फ्री करता है in hindi, Frees the body from radicals in hindi,टमाटर का सेवन कहीं प्रकार की बीमारियों से बचाता in hindi, Consumption of tomato protects from various diseases in hindi,टमाटर शारीरिक विकास के लिए उपयोगी in hindi, Tomato useful for physical development in hindi,Tomato control on blood pressure in hindi, Tomato useful in pregnancy in hindi, Stone patients be careful in hindi, Tomatoes protect against cancer in hindi, Tomato for physical development in hindi, Tomato for weight loss in hindi, Tomato useful for eye diseases in hindi, Tomato useful for eye diseases in hindi, Tomatoes for Teeth and Bones in hindi, benefits of drinking tomato juice in hindi in hindi,Tomato Nutritional Value in Hindi, Hair Benefits of Tomato in Hindi,  Health Benefits of Tomato in Hindi, Tomato Benefits in hindi,

बरसात के दिनों में टमाटर का जूस फायदेमंद

(Tomato juice beneficial in rainy days)

टमाटर कोलेस्ट्रोल लेवल को बैलेंस कर शरीर में खून की कमी को भी दूर करता है। इसके सेवन से भूख लगने वाले हार्मोंस भी कंट्रोल में रहते हैं। टमाटर में विटामिन-सी, बायोलॉजिकल सोडियम, फॉस्फोरस, कैल्शियम, पोटेशियम और सल्फर उच्च मात्रा में होता है जो कई स्वास्थ्य संबंधित समस्याओं को कम करने में मदद करता है। टमाटर के जूस में मौजूद पोषक तत्व कैंसर के खतरे को भी कम कर सकते है। साथ ही इम्यून सिस्टम को मजबूत करता है, इस जूस को सेवन करने से किसी भी प्रकार का इंफेक्शन होने का खतरा कम हो जाता है। इसके अलावा टमाटर के जूस में मौजूद केमिकल मांसपेशियों में होने वाले खिंचाव को कम करता है।

टमाटर-जूस पीने के फायदें 

(benefits of drinking tomato juice in hindi)

दांतों और हड्डियों के लिए टमाटर (Tomatoes for Teeth and Bones): हड्डियों की मजबूती के लिए विटामिन-के जरूरी है। ऐसे में टमाटर के औषधीय गुण में पाए जाने वाली विटामिन-के की मात्रा हड्डियों के लिए फायदेमंद हो सकती है। साथ ही टमाटर में कैल्शियम भी पाया जाता है, जो हड्डियों के साथ-साथ दांतों की मजबूती के लिए भी सहायक हो सकता है। टमाटर हड्डियों के साथ-साथ दांतों की मजबूती और उनमें चमक के लिए भी लाभकारी होता है।

टमाटर आंखों की बीमारियों के लिए उपयोगी (Tomato useful for eye diseases): टमाटर के अंदर पाया जाने वाला विटामिन-सी आंखों के लिए उपयोगी हो सकता है। टमाटर खाने से आंखों की बीमारियों से बचा जा सकता है। आंखों को स्वस्थ रखने के लिए विटामिन और मिनरल से भरपूर टमाटर का सेवन करना चाहिए। इसमें पाया जाने वाला एंटीऑक्सीडेंट गुण हमारी कोशिकाओं और टिशू को स्वस्थ रखने में मदद कर सकता है।

 टमाटर शारीरिक विकास के लिए उपयोगी 

(Tomato useful for physical development)

वजन कम करने के लिए टमाटर (Tomato for weight loss): टमाटर के औषधीय गुण के रूप में पाया जाने वाला फाइबर आंतों के स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद ह। साथ ही टमाटर में मौजूद फाइबर शरीर को ऊर्जा देता है और वजन कम करने में सहायक हो सकता है। 

इम्यून सिस्टम (Immune system): टमाटर के जूस का सेवन करने से इम्यून सिस्टम को मजबूत बना सकते हैं। टमाटर में एंटीऑक्सीडेंट, लाइकोपीन और बीटा-कैरोटीन होते हैं, जो इम्यूनिटी को मजबूत बनाने में मदद करता है।

शारीरिक विकास के लिए टमाटर (Tomato for physical development): टमाटर सेहत के लिए भी काफी फायदेमंद होता है। टमाटर विटामिन-ए और विटामिन-सी फाइबर, फोलेट और कैल्शियम से भरपूर होते हैं। इसका जूस का सेवन करने से डायबिटीज, हार्ट,  कैंसर जैसी बीमारियों के लिए लाभदायक होता है। बच्चों के रोज सुबह एक टमाटर या फिर टमाटर का रस निकालकर अवश्य खिलाएं। अगर बच्चे को सूखा रोग यानि जो बच्चे खाने-पीने के बावजूद दुबले-पतले रह जाते हैं, उन बच्चों को प्रतिदिन एक गिलास टमाटर का जूस पिलाने से सूखे रोग जैसी बीमारी में आराम मिलता है। बच्चों के मानसिक और शारीरिक विकास के लिए टमाटर बहुत फायदेमंद होता है।

टमाटर का सेवन कहीं प्रकार की बीमारियों से बचाता

(Consumption of tomato protects from various diseases)

मधुमेह के लिए टमाटर जूस (Tomato juice for diabetes): टमाटर का जूस लाइकोपीन, कैरोटीन, पोटेशियम, विटामिन-सी, फ्लेवोनॉइड, फोलेट और विटामिन-ई का समृद्ध स्रोत है। यही कारण है कि टमाटर टाइप 2 मधुमेह के रोगियों के लिए फायदेमंद हो सकता है। साथ ही यह टाइप 2 मधुमेह से संबंधित  हृदय के जोखिम को कम करने में भी लाभकारी हो सकता है।

टमाटर कैंसर से बचाव करता है (Tomatoes protect against cancer): टमाटर में पाया जाने वाला लाइकोपीन एक लाल कैरोटीनॉयड है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट, एंटीइंफ्लेमेटरी और एंटीकैंसर गुण होते हैं। लाइकोपीन प्रोस्टेट कैंसर के खिलाफ एंटी-प्रोलिफेरेटिव और प्रो-एपोप्टोटिक के रूप में काम कर सकता है। एंटी-प्रोलाइफरेटिव गुण के कारण ही टमाटर ट्यूमर सेल पर प्रभावी रूप से काम कर सकता है। 

शरीर को रेडिकल्स फ्री करता है 

(Frees the body from radicals)

टमाटर का ब्लड प्रेशर पर नियंत्रण (Tomato control on blood pressure): टमाटर के अर्क में लाइकोपीन, बीटा कैरोटीन और विटामिन-ई जैसे कई कैरोटीनॉयड होते हैं। शरीर से फ्री रेडिकल्स को साफ कर सकते हैं। टमाटर में पाए जाने वाले ये सभी पोषक तत्व उच्च रक्तचाप के उपचार में मददगार साबित हो सकते हैं।

टमाटर गर्भावस्था में उपयोगी (Tomato useful in pregnancy): फोलेट को बी-समूह विटामिन माना गया है, जो टमाटर के गुण में से एक है। फोलिक एसिड गर्भ में पल रहे भ्रूण को न्यूरल ट्यूब दोष से बचाने में मदद कर सकता है। यह रीढ़ की हड्डी और मस्तिष्क का रोग होता है। 

टमाटर दर्द निवारक की दवा (Tomatoes is Pain reliever): टमाटर में एनाटाबिन पाया जाता है, जो एंटीइंफ्लेमेटरी यानी दर्द निवारक के रूप में काम कर सकता है। एनाटाबिन मांसपेशियों में होने वाले दर्द के साथ-साथ जोड़ों में होने वाले दर्द के लिए भी उपयोगी हो सकता है।

टमाटर  सेवन से रक्त के थक्के नहीं बनते 

(Tomatoes do not form blood clots)

टमाटर रक्त के थक्के नहीं बनने देता (Tomatoes do not allow blood clots to form) : टमाटर में पाया जाने वाला लाइकोपीन शरीर में सूजन और कोलेस्ट्रॉल को कम कर सकता है। साथ ही प्रतिरोधक क्षमता में भी सुधार कर सकता है। इसके अलावा, यह शरीर में रक्त के थक्के बनने से रोक सकता है। टमाटर प्लेटलेट्स को चिकना कर सकता है, इससे रक्त के थक्के बनने से होने वाली समस्या और रक्त के प्रवाह में आने वाली कठिनाई दूर हो सकती है।

पथरी के पेशेंट रहें सावधान 

(Stone patients be careful)

जिन लोगों को किडनी या पित्ते में पथरी की परेशानी है, उन्हें टमाटर का जूस नहीं पीना चाहिए। टमाटर के बीज काफी हद तक सख्त होते हैं, जो बहुत जल्द हमारी बॉडी में बिना पिसे ही पड़े रहते हैं। पथरी आमतौर पर तब होती है जब किडनी में ऑक्जलेट और कैल्शियम जैसे कई तत्व जमा होते-होते एक ठोस कंकड़ जैसे हो जाते हैं। टमाटर में भी ऑक्जालेट मौजूद होता है, लेकिन उसकी मात्रा सीमित होती है। हां अगर आप टमाटर के शौकीन हैं और बहुत ज्यादा मात्रा में इसका सेवन करते हैं, तो इसके बीजों को निकालकर इसका प्रयोग करें। आप चाहें तो बीज निकले हुए टमाटरों के जूस का भी सेवन कर सकते हैं। 

Disclaimer : यह जानकारी आयुर्वेदिक नुस्खों के आधार पर लिखी गई है। 


अपनाएं आयुर्वेद लाइफस्टाइल (Adopt ayurveda lifestyle in hindi)

No comments