बहुत फायदेमंद लोहे की कढ़ाई में बना खाना, लेकिन गलतियाँ न हो तब- Food cooked in an iron pan is very beneficial, but if there is no mistake then

Share:

 

Iron Kadhai Side Effects in hindi, Avoid Cooking These Foods In An Iron Kadhai in hindi, Using Iron Kadai Benefits in hindi, these foods you must avoid cooking in an iron pan or kadhai in hindi, What should not be cooked in iron? in hindi,  Can we cook everything in iron Kadai? in hindi, Is there anything you can't cook in a cast iron? in hindi, Can we boil milk in iron Kadai?  in hindi, Avoid Cooking These Foods In An Iron Kadhai  in hindi, Iron Kadhai Cooking Tips in hindi, lohe ki kadai mein khana khane ke fayde in hindi, lohe ki kadai ke fayde in hindi, Lohe ke bartan me khana banane ke fayde in hindi,

बहुत फायदेमंद लोहे की कढ़ाई में बना खाना, लेकिन गलतियाँ न हो तब 
Food cooked in an iron pan is very beneficial, but if there is no mistake then

आयरन ना केवल शरीर की कोशिकाओं के लिए जरूरी है बल्किं आयरन हमारे शरीर में हीमोग्लोबिन की मात्रा को भी बढ़ाता है और लाल रक्त कोशिकाओं को विकसित करने में भी मदद करता है। खाना बनाने के लिए आयरन के बर्तनों का इस्तेमाल सदियों से किया जाता आ रहा है। स्वास्थ्य के लिए इसके कई सारे फायदे हैं। लेकिन गलतियाँ न हो तब। आयरन के बर्तनों में खाना बनाने से शरीर में आयरन का स्तर बढ़ता है। यही वजह है आयरन की कमी से जूझ रहे लोगों को आयरन के बर्तनों में खाना बनाकर खाने के लिए कहते हैं। कई शोध में भी इस बात की पुष्टि होती है कि आयरन के बर्तनों में बना खाना आयरन से भरपूर होता है। इसके अलावा, आयरन के बर्तन में एल्यूमिनियम और स्टील के बर्तन की तुलना में कम ऑयल लगता है। 

लोहे की कड़ाही में हम सभी तरह की सब्जियों को पका सकते हैं। जिसमें आप पालक, बीन्स, शिमला मिर्च, कटहल, आलू गोभी आदि सब्जियों को बना सकते है। आपको बता दें लोहे की कड़ाही में साग को पकाना सेहत के लिए बेहद फायदेमंद होता है। यह साग में मौजूद पोषक तत्व को दोगुना कर देता है।

लोहे की कड़ाही में फ्रायड चिकन बना सकते हैं। यह ना चिकन को अत्यधिक स्वादिष्ट बनाता है बल्कि कई पोषक तत्‍व इसमें और सम्मिलित हो जाते हैं जो सेहत के लिए अत्यधिक फायदेमंद होता है। साथ ही लोहे की कड़ाही में गर्मी होती है। जिससे आपको इसमें अत्यधिक तेल की आवश्यकता नहीं होती।

खट्टी या एसिड से जुड़ी चीजें भूलकर भी लोहे के बर्तन में न पकाएं। ऐसे भोजन लोहे के साथ प्रतिक्रिया कर सकते हैं, जिससे भोजन में धातु जैसा अप्रिय स्वाद पैदा हो सकता है। यही वजह है कि कढ़ी, रसम, सांभर या फिर टमाटर से बनने वाली तरी को स्टेनलेस स्टील के बर्तनों में ही पकाने की सलाह दी जाती है।

लोहे की कड़ाही में बनी हरी सब्जियों में जल्द कालापन आ जाता है। ऐसा उसमें मौजूद आयरन और लोह तत्व की वजह से होता है। जो सेहत के लिए सही नहीं है। सब्जियों के काले होने की दो वजह होती हैं या तो बर्तन अच्छे से साफ नहीं हुआ है या फिर आपने खाना पकाने के बाद उसे लोहे के बर्तन में ही छोड़ दिया है। ऐसा बिल्कुल न करें। लोहे के बर्तनों में पकाया हुआ भोजन तुरंत किसी दूसरे कांच या इनैमल के बर्तन में पलट दें।

रोजाना लोहे के बर्तनों में खाना पकाना सही नहीं है। सप्ताह में केवल दो से तीन बार ही इनमें खाना बनाएं। लोहे के बर्तनों को धोने के लिए हल्के डिटर्जेंट का इस्तेमाल करें। इन बर्तनों को धोते ही तुरंत किसी कपड़े से पोंछकर साफ कर दें। ध्यान रखें इन्हें धोने के लिए कभी भी खुरदरे स्क्रबर या लोहे के जूने का इस्तेमाल न करें।

लोहे के बर्तनों को संग्रह करके रखने से पहले इन पर सरसों का तेल की एक पतली परत लगा दें, ताकि उन पर जंग न लग सके। हमेशा बर्तन को साफ और सूखी जगह पर रखें, जहां पानी और नमी की वजह से उन पर जंग न लगे।

आयुर्वेद लाइफस्टाइल बीमारियों से रखे दूर- Ayurveda Lifestyle keep away from diseases

No comments