ऐसा करने से दांतों की चमक बनी रहती है- By doing this the shine of the teeth remains

Share:

 

सक्षमबनो in hindi, सक्षमबनो image, सक्षमबनो jpeg, सक्षमबनो pdf in hindi, सक्षमबनो ke barein mein in hindi, By doing this, the shine of the teeth remains in hindi, Simple remedy and remove yellowing of teeth in hindi, safed dant kaise karen in hindi, safed dant banane ka tarika in hindi, danto ko majboot karne ke liye kya khayen in hindi, safed dant banane ke gharelu nuskhe in hindi, safed dant banane ka mera upay in hindi, danto ki chamak ke liye in hindi, danton ka pilapan kaise dur karen in hindi, danto ko majboot karne ke liye kya karen in hindi, danto ki chamak banane ke liye in hindi, danton ke liye calcium aur vitamin d in hindi, danto ko majboot kaise rakhe in hindi, danto ko majboot karne ke liye kya khana chahie in hindi, teeth yellow reason in hindi, teeth yellow layer remove, danto ko majboot karne ke upay in hindi, danto ki chamak ka tarika, in hindi, how to whiten teeth naturally in hindi, how to whiten teeth with lemon in hindi, how to whiten teeth with lemon and salt in hindi, ginger salt and lemon for teeth whitening reviews in hindi,

 ऐसा करने से दांतों की चमक बनी रहती है

(By doing this, the shine of the teeth remains)

ओरल सफाई पर ध्यान दें- दिन में कम से कम दो बार दांतों की सफाई और दिन में एक बार मुंह में फ्लास करना। यह सब चीजें मुंह में टार्टर और दाग से छुटकारा पाने के लिए मदद कर सकता है। हर भोजन के बाद कुल्ला करें- कुछ खाद्य और पेय पदार्थ दांतों को  नुकसान पहुंचा सकते हैं इसलिए कुछ भी खाने के बाद कुल्ला करना बहुत जरूरी होता है, ताकि आपके दांतों में कुछ भी फंसा हुआ न रह जाये। रात को सोते समय ब्रश करना जरूरी होता है, क्योंकि दांतों में फंसे बैक्टीरिया दो गुना तेजी से पनपते हैं और दांतों में धब्बे पैदा कर देते हैं। इसलिए दांतों की सफेदी और दांतों के बीच फंसे आहार को दूर करने के लिए नियमित रूप से रात को दांतों में फ्लास के साथ ब्रश करना अत्यंत महत्वपूर्ण होता है।

पानी दांतों को हाइड्रेट रखने में मदद करता है। समय-समय पर पानी से कुल्ला करने व उसका सेवन करने से दांतों पर अम्लता का असर कम हो जाता है। पानी आपके दांतों पर जमी अल्कोहल और पिगमेंट खाद्य पदार्थ के कारण गन्दी परत को हटा कर उन्हें काफी सुन्दर और आकर्षक रूप देने का काम भी करता है। और इसका सेवन करने से आपके दांतों का पीलापन दूर करने में भी मदद मिलती है।

सरल उपाय और दांतों पीलापन दूर

(Simple remedy and remove yellowing of teeth)

कई बार टेट्रासाइक्लिन नामक दवा के कारण भी दांतों पर पीले धब्बे पड़ जाते हैं। दांतों को साफ करने के लिए लोग कई तरह के केमिकल्स का इस्तेमाल करते हैं। इसका भी दांतों पर बुरा प्रभाव पड़ता है। उम्र के साथ कई बार दांतों पर इनामेल की परत जमती चली जाती है, जिस कारण दांत पीले हो जाते हैं। दांतों का पीलापन गलत खान-पान और जीवनशैली के कारण ही होता है। खाने की गलत आदतें भी दांतों को पीला बना देती हैं, जैसे- चाय, कॉफी, सॉफ्ट ड्रिंक्स के ज्यादा सेवन से भी दांत पीले पड़ जाते हैं। इसके अलावा तंबाकू, शराब, गुटखा आदि के सेवन से या सफाई के अभाव में दांत पीले पड़ जाते हैं।

तुलसी के पत्तों का इस्तेमाल (Use of basil leaves) : तुलसी के पत्तों का इस्तेमाल करने से भी इस समस्या का समाधान मिल जाता है, क्योंकि इसमें बहुत से एंटी बैक्टेरियल गुण होते हैं जो दांतों को चमकदार बनाने में मदद मिलती है। तुलसी के पत्तों को सुखाकर अच्छे से पीस कर उसे सरसों के तेल में मिलाकर अपने दांतों पर लगाएं, इसके अलावा केवल पाउडर का इस्तेमाल भी अपने दांतों के लिए कर सकते हैं। इसके अलावा आप संतरे के छिलके को छील कर उसे तुलसी के पाउडर में मिलाकर दांतो पर ब्रश करने से भी दांतो को पीलापन दूर करने में मदद मिलती है।

दांतों के लिए संतरे के छिलके पाउडर (orange peel powder for teeth) : संतरे के छिलके को सुखा लें और उसका पाउडर बना लें। अब इस पाउडर को रोज सुबह और रात को सोने से पहले दांतों पर कुछ देर रगड़ें फिर कुल्ला कर लें। आप चाहें तो संतरे के छिलके को सीधा भी दांतों पर रगड़ सकते हैं। संतरे के छिलके में कैल्शियम और विटामिन सी होता है। कैल्शियम दांतों को मजबूत बनाने में मदद करता है और विटामिन सी इस मौजूद बैक्टीरिया से लड़ता है। कुछ दिनों तक लगातार ये प्रक्रिया दोहराएं, आपको अपने दांतों के रंग में फर्क नजर आएगा।

नींबू दांतों के लिए फायदेमंद (lemon benefits for teeth) : संतरे की तरह नींबू भी एक ब्लीचिंग एजेंट का काम करता है। इसमें मौजूद विटामिन सी दांतों से पीली परत को हटाता है। नींबू के छिलके को दांतों पर रगड़ने से दांतों में चमक आती है। नींबू का 1 चम्मच रस लें इसमें 2 चुटकी नमक मिलाएं और इस पेस्ट को दांतों पर रगड़ें। इसे कुछ मिनट के लिए छोड़ दें और फिर कुल्ला कर लें। नींबू दांतों को चमकदार तो बनाता ही है, ये सांसों की बदबू को भी दूर करता है।

नीम दांतों  की सड़न को रोकता है (Neem prevents tooth decay) : नीम एक एंटीसेप्टिक की तरह काम करता है जो दांतों की सड़न को रोकता है। नीम का रोज इस्तेमाल करने से मुंह की बदबू से छुटकारा मिलता है और दांतों में कैविटी भी नहीं होती। अगर नीम की दतून का इस्तेमाल नहीं कर सकते तो अपने टूथपेस्ट में नीम का तेल मिलाकर ब्रश करें। इससे भी फायदा होगा।

नारियल तेल दांतों  के लिए उपयोगी (Coconut oil useful for teeth) : एक चम्मच नारियल तेल को अपने मुंह में 15 से 20 मिनट तक रखे, इसके बाद ब्रश कर लें। कुछ ही दिनों में दांत मोतियों से चमकने लगेंगे।

सरसों के तेल और नमक का मिश्रण (Mustard oil and salt mixture) : सरसों के तेल में नमक मिलाकर उससे ब्रश करते हैं तो भी इस परेशानी से निजात मिलता है। इसके अलावा तेज पत्ते को अच्छे से पीस कर हर दूसरे से तीसरे दिन यदि इसका मंजन करते हैं तो भीे इस परेशानी से निजात मिल सकता है।

बेकिंग सोडा (Baking soda) : बेकिंग सोडा भी दांतों का पीलापन दूर कर सकता है। आप बेकिंग सोडा को दांतों पर रगड़ने सकते हैं या फिर इसे टूथपेस्ट में मिलाकर ब्रश कर सकते हैं। आप चाहें तो इसमें नमक भी ले सकते हैं।

पीले दांतो को सफेद करने के लिए हींग (Asafoetida to whiten yellow teeth) : हींग को पेट की कई समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। साथ ही आप पीले दांतो को सफेद करने के लिए भी इसका उपयोग कर सकते हैं। दो चुटकी हींग को आधा कप पानी में उबाल लें। इस पानी को ठंडा करके दिन में दो बार कुल्ला करें। ऐसा करने से कुछ ही दिनों में दांतों का पीलापन दूर हो जाएगा।

सरसों का तेल और हल्दी का मिश्रण (Mustard oil and turmeric mixture): हल्दी: आधा चम्मच हल्दी पाउडर में 1 चम्मच सरसों का तेल मिलाएं और इस पेस्ट को दांतों पर उंगलियों की मदद से धीरे-धीरे रगड़ें। इस मिश्रण का नियमित रूप से इस्तेमाल करें। कुछ ही दिनों में आपको फर्क दिखने लगेगा।

सेब का सिरका (Apple vinegar) : सेब के सिरके में मौजूद निकोटीन, कैफीन के प्रभाव को खत्म करके दांतों को सफेद और चमकदार बनाने में मदद करता है।  चाहे तो ब्रश के बाद सेब के सिरके से कुल्ला भी कर सकते है।

आप भी अपने दाँतों को मजबूत बनाये

(Make your teeth strong)

विटामिन्स (Vitamins): विटामिन A,D,K2 और E की मात्रा खाने में जरूरी है ताकी हमारे दांत स्वस्थ रह सकें। बता दें कि विटामिन A  मुहं के अंदर लार (सलाइवा) बनाने में मदद करता है जो हानिकारक कीटाणुओं को खत्म करता है। विटामिन D हड्डियों की मजबूती के लिए सबसे जरूरी होता है खासकर की दांतों के लिए। वहीं विटामिन K2 कैलशियम को मुंह के अंदर सही जगह पहुंचाने में मदद करता है। साथ ही विटामिन E एक एंटीऑक्सीडेंट है जो मुंह के अंदर के बैक्टीरिया की मात्रा को नियंत्रित रखने के काम आता है। इसलि इन चाजों में मिलते हैं ये विटामिन-विटामिन। दूध से बनी चीजें, अंडे, गाजर और पीले और गहरे रंग की सब्जियों में पाया जाता है। वहीं विटामिन K2 को लिए आप बटर, अंडा, पनीर या चीज खा सकते हैं। इसके अलावा विटामिन E के लिए ब्रॉकली, पालक और मूंगफली खाएं। वहीं मशरूम, मच्छली और कुछ डेयरी प्रोडक्ट्स से विटामिन D प्राप्त होता है।

कैल्शियम और विटामिन-डी (Calcium and Vitamin D): दूध एक डेयरी उत्पाद है जो शरीर को कैल्शियम, फॉस्फोरस के साथ विटामिन डी प्रदान करता है जो शरीर को कैल्शियम का इस्तेमाल करने में मदद करते हैं। रोजाना दूध पीने से दांतों के इनैमल को मजबूती मिलती है। अगर आपको दूध में एलर्जी है तो आप सोया दूध का सेवन करना चाहिए। कैल्शियम की कमी को दूर करने के साथ ही दांतों के लिए फायदेमंद है केला। केला एक ऐसा फल है, जो हर मौसम में आता है।

सेब दांतों के लिए महत्वपूर्ण (Apple is important for teeth): सेब एक प्रकृति स्क्रब का काम करती है, प्रतिदिन दो सेब को खूब अच्छे से चबा-चबा कर उसका सेवन करने से आपके दांतों की साफ-सफाई में मदद मिलती है, साथ ही दांतों का कालापन और पीलापन दूर करने में मदद मिलती है। इसी तरह यदि आप गाजर और खीरे का भी यू हीं सेवन खूब चबा-चबा कर करते हैं जिससे दांतो के पीलेपन की समस्या दूर हो सकती है।

फाइबर युक्त आहार (Fiber rich diet): किशमिश, अंजीर, केला, सेब, संतरा, सेम, मूंगफली, बादाम, चोकर और मटर आदि में प्रचूर मात्रा में फाइबर होते हैं। इनके सेवन से मुंह में स्लाइवा पूरी मात्रा में बनता है। स्लाइवा दांतों को कैविटी से बचाने और स्वस्थ रखने में मदद करता है।

विटामिन-सी युक्त आहार (Vitamin C rich diet): विटामिन-सी, फल व सब्जियों में एंटी-ऑक्सीडेंट विटामिन मौजूद होते हैं। इसमें मौजूद पोषक तत्व बैक्टीरिया से दांतो को बचाते हैं।

प्याज और मशरूम (Onions and Mushrooms) : दांतें को मजबूत और कैविटी मुक्त रखने के लिए यह बेहतर आहार है। प्याज मुंह में उत्पन्न बैक्टीरिया को खत्म करता है, जबकि मशरूम बैक्टीरिया को बनने से रोकता है।

साबुत अनाज (Whole grains): साबुत अनाज में विटामिन-बी और लौह तत्व काफी मात्रा में होता है। यह मसूड़ों को स्वस्थ रखने और दांतों को कैविटी से बचाने में मदद करता है।

इन चीजों से परहेज

(Avoid these things)

कोल्ड ड्रिंक्स (Cold drinks): कोल्ड ड्रिंक्स से परहेज करें। इसका अधिक मात्रा में सेवन करने से आपके दांत खराब हो सकते हैं। दरअसल कोल्ड ड्रिंक में बहुत ज्यादा शुगर घुला होता है। इन्हें कार्बोनेटेड पानी से बनाया जाता है। ऐसे में यह एसिडिक होते हैं। एसिडिक और शुगर घुला होने की वजह से ये दांतों को नुकसान पहुंचाता है।

कैंडी, चॉकलेट व टॉफी से दूर रहें (Stay away from candy, chocolate and toffee) : बच्चों को कैंडी बहुत पसंद आती है। ऐसे में वह अधिक मात्रा में कैंडी खाते हैं, लेकिन ये दांतों को नुकसान पहुंचाती है। दरअसल कुछ कैंडी दांतों के कोनों, गड्ढों व ऊपरी परत पर चिपक जाती है। इससे दांत कमजोर हो जाते हैं और पीले होकर धीरे-धीरे सड़ने लगते हैं।

चिप्स से दूरी (distance from chips): पैकेटबंद चिप्स में काफी मात्रा में स्टार्च होता है। चिप्स के कण दांतों के बीच फंस जाते हैं। वही स्टार्च की वजह से ये कण बैक्टीरिया को आमंत्रित करता हैं। बैक्टीरिया दांतों को कमजोर बनाता है और दांत सड़ने लगते हैं। ऐसे में कोशिश करें कि बच्चों को चिप्स न दें। अगर बहुत जरूरी हो, तो चिप्स खाने के बाद बच्चे को कुल्ला करने के लिए जरूर कहें।

व्हाइट ब्रेड (White bread): सादा व्हाइट ब्रेड खाना भी आपके बच्चे के दांतो को नुकसान पहुंचाता है। ब्रेड रिफाइंड मैदे से बनाया जाता है, यही वजह है कि कई बार ब्रेड के छोटे-छोटे टुकड़े दांतों के कोनों में फंस जाते हैं। ये नुकसानदायक होता है। ब्रेड एक तरह से कार्बोहाइड्रेट होता है और खाते ही लार के साथ मिलने पर शुगर के रूप में बदलने लगता है। इससे भी दांतों को नुकसान पहुंचता है।

कॉफी (Coffee): कई पैरेंट्स बच्चों को कम उम्र से ही चाय व कॉफी की आदत लगा देते हैं। ये गलत है। बच्चों को कॉफी देने से बचे, इससे उनके दांत खराब होते हैं। दरअसल कॉफी में एसिडिक गुण होते हैं, इसके सेवन से मुंह का पीएच काफी कम हो जाता है। इससे दांत कमजोर होकर खोखले होने लगते हैं। इसके अलावा कॉफी डार्क ड्रिंक होता है, इसके सेवन से दांत पर एक पीली परत बन जाती है।

पान मसाला न चबाएं (Don't chew pan masala): किसी भी तरह का पान मसाला चबाने से आपके दांत गंदे दिखने लगते हैं और साथ-साथ आपके दांत भी कमजोर होते हैं इसलिए हमेशा से ध्यान रखे कि किसी तरह का पान मसाला, गुटखा और खैनी न चबाएं।  


अपनाएं आयुर्वेद लाइफस्टाइल (Adopt ayurveda lifestyle in hindi)

 

No comments