अहोई अष्टमी व्रत से संतान की दीर्घायु और मंगलकारी जीवन का वरदान- Ahoi Ashtami Vrat se santan ki dirghayu aur mangalkari jeevan ka vardan

Share:

 

Ahoi Ashtami fast for the longevity of the child in hindi, Ahoi Ashtami fasting 4 days after Karva Chauth in hindi, Ashtami of Krishna Paksha of Kartik month in hindi, Good luck for health and longevity in hindi, संतान की दीर्घायु के लिए अहोई अष्टमी व्रत hindi, अहोई अष्टमी का व्रत करवा चौथ के 4 दिन बाद hindi, कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी hindi, स्वास्थ्य और दीर्घायु के लिए मंगलकारी hindi,sakshambano image, sakshambano ka udeshya in hindi, sakshambano ke barein mein in hindi, sakshambano ki pahchan in hindi, apne aap sakshambano in hindi, sakshambano blogger in hindi,  sakshambano  png, sakshambano pdf in hindi, sakshambano photo, Ayurveda Lifestyle keep away from diseases in hindi, sakshambano in hindi, sakshambano hum sab in hindi, sakshambano website, adopt ayurveda lifestyle in hindi, to get rid of all problems in hindi, Vitamins are essential for healthy health in hindi in hindi,ahoi ashtami vrat katha in hindi, ahoi ashtami vrat katha vidhi in hindi, ahoi ashtami vrat ka mahatva in hindi, ahoi ashtami images, ahoi ashtami images pooja vidhi in hindi, ahoi ashtami puja vidhi in hindi, ahoi ashtami kaise banate hain in hindi, bachon ke liye ahoi ashtami vrat in hindi, ahoi ashtami what to eat and what to avoid in hindi,

अहोई अष्टमी व्रत से संतान की दीर्घायु और मंगलकारी जीवन का वरदान

अहोई अष्टमी का व्रत Ahoi Ashtami Vrat करवा चौथ के व्रत के ठीक 4 दिन बाद रखा जाता है। संतान की दीर्घायु long lived के लिए किया जाने वाला यह व्रत कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को रखा जाता है। महिलाएं संतान के बेहतर स्वास्थ्य better health और दीर्घायु एवं मंगलकारी जीवन happy life के लिए दिन भर निर्जला व्रत करती हैं। इस दिन अहोई माता की पूजा का विधान है। कहते हैं कि अहोई पर पूरे दिन निर्जला उपवास रखने के बाद शाम को तारे देखकर अर्घ्य देने से अहोई माता प्रसन्न होती हैं और संतान को दीर्घायु और संपन्नता का वरदान देती हैं। इस दिन अहोई माता की आरती करना भी बहुत शुभ माना जाता है। 

अहोई अष्टमी के दिन दीवार पर अहोई माता का चित्र बनाएं। आप बाजार से भी अहोई माता की चित्र लेकर आ सकते हैं। इसके बाद पूर्व दिशा में चेहरा करके अहोई माता को फूल अर्पित करें और सिंघाड़े व मिठाई का भोग लगाएं। इस दिन चांदी की अहोई बनवाकर भी पूजन करते हैं। इसी के साथ कुछ जगह चांदी की अहोई में दो मोती डालकर विशेष पूजा करने का भी विधान है। अब गाय के घी से एक दीपक प्रज्वलित करें और देवी मां की आरती उतारें। आरती के बाद माता से अपनी संतान के सुखी जीवन की कामना करें। इसके बाद घर में मौजूद किसी बुजुर्ग महिला के पैर छूकर उनका आशीर्वाद लें।

आप इस दिन व्रत के साथ-साथ मां पार्वती और शिव की पूजा भी कर सकती हैं। ऐसा करना बहुत ही शुभ माना जाता है। इस दिन व्रत खोलते समय चंद्रमा को अर्घ्य देते समय तांबे की जगह पीतल के बर्तन का प्रयोग करना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि अगर आप ऐसा करते हैं तो माता अहोई आप पर प्रसन्न होंगी और आपके बच्चों को सभी परेशानियों से बचाएंगी। अहोई अष्टमी के दिन भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा करने से हर मनोकामना पूर्ण हो जाती है। लेकिन यह व्रत तभी सफल होता है जब आप सही तरह से इसे पूरा करते हैं। व्रत खोलते समय अपनी थाली में सिंघाड़े को शामिल करें, इस खास दिन पर गन्ने का प्रसाद को भी चढ़ाया जाता है। भी चढ़ाया जाता है। 

अहोई अष्टमी व्रत के नियम

अहोई अष्टमी के दिन व्रत करने वाली महिलाओं के किसी से ऊंची आवाज में बात नहीं करनी चाहिए।

संतान को इस दिन भला बुरा नहीं कहना चाहिए।

इस दिन अहोई माता की कथा सुनते वक्त हाथ में कम से कम 7 अनाज जरूर लेने चाहिए।

अहोई अष्टमी की पूजा में सभी माताओं को अपने बच्चों को भी साथ में बैठाना चाहिए। अर्घ्य देने के बाद बच्चों का हल्दी से तिलक करके उन्हें प्रसाद जरूर खिलाना चाहिए।


अहोई माता की आरती

जय अहोई माता, जय अहोई माता ।

तुमको निसदिन ध्यावत, हर विष्णु विधाता।। 

जय अहोई माता जय अहोई माता

ब्रह्माणी, रुद्राणी, कमला, तू ही है जगमाता ।

सूर्य-चन्द्रमा ध्यावत, नारद ऋषि गाता।। 

जय अहोई माता जय अहोई माता

माता रूप निरंजन, सुख-सम्पत्ति दाता।

जो कोई तुमको ध्यावत, नित मंगल पाता।। 

जय अहोई माता जय अहोई माता

तू ही पाताल बसंती, तू ही है शुभदाता।

कर्म-प्रभाव प्रकाशक, जगनिधि से त्राता।। 

जय अहोई माता जय अहोई माता

जिस घर थारो वासा, वाहि में गुण आता।

कर न सके सोई कर ले, मन नहीं घबराता।। 

जय अहोई माता जय अहोई माता

तुम बिन सुख न होवे, न कोई पुत्र पाता।

खान-पान का वैभव, तुम बिन नहीं आता।। 

जय अहोई माता जय अहोई माता

शुभ गुण सुंदर युक्ता, क्षीर निधि जाता।

रतन चतुर्दश तोकू, कोई नहीं पाता।। 

जय अहोई माता जय अहोई माता

श्री अहोई माँ की आरती, जो कोई गाता।

उर उमंग अति उपजे, पाप उतर जाता।। 

जय अहोई माता जय अहोई माता


No comments