पंचकों की उपयोगिता- Utility of quintets

Share:


(Panchkon ki upyogita in hindi),पंचकों की उपयोगिता in hindi, panchak list 2019 in hindi, panchak kya hai in hindi, panchak ki upyogita in hindi, panchak ke nuksan in hindi, panchak mein kya kerein in hindi, panchak-kaal in hindi, panchak ke barein mein hin hindi, panchak ka mahatva in hindi, panchak ke niyam in hindi, panchak ki jaankari in hindi, panchak jankari in hindi, panchak ka matlav in hindi, panchak se sabdhani in hindi, panchak kab-kab hai in hindi, panchak kab lagyega in hindi,जब चंद्रमा गोचर में कुंभ और मीन राशि से होकर गुजरता है तो यह समय अशुभ माना जाता है in hindi, इस दौरान चंद्रमा धनिष्ठा से लेकर शतभिषा, पूर्वा भाद्रपद, उत्तरा भाद्रपद एवं रेवती से होते हुए गुजरता है in hindi,  नक्षत्रों के मेल से बनने वाले विशेष योग को पञ्चक कहा जाता है in hindi, इन नक्षत्रों की संख्या पांच होती है in hindi, इस कारण भी इन्हें पंचक कहा जाता है in hindi, जब भी कोई कार्य प्रारंभ किया जाता है तो उसमें शुभ मुहूर्त के साथ पंचक का भी ध्यान रखा जाता है in hindi, हर 27 दिन के बाद नक्षत्र की पुनरावृत्ति होती है in hindi,  इसलिए पंचक हर  27 दिन बाद आता है। in hindi,  नक्षत्र चक्र में कुल 27 नक्षत्र होते हैं  in hindi, इनमें अंतिम के पांच नक्षत्र दूषित माने गए है in hindi, पंचक के दौरान यदि कोई अशुभ कार्य हो तो in hindi, उनकी पांच बार आवृत्ति होती है in hindi, इसलिए उसका निवारण करना आवश्यक होता है in hindi, पंचक का विचार खासतौर पर किसी की मृत्यु के समय किया जाता है in hindi, माना जाता है कि यदि किसी व्यक्ति की मृत्यु पंचक के दौरान हो तो घर-परिवार में पांच लोगों पर संकट रहता है in hindi, इसलिए जिस व्यक्ति की मृत्यु पंचक में होती है in hindi, उसके दाह संस्कार के समय आटे-चावल के पांच पुतले बनाकर साथ में उनका भी दाह कर दिया जाता है in hindi, इससे परिवार पर से पंचक दोष समाप्त हो जाता है in hindi, शास्त्रों में वर्णित है कि पंचक सर्वाधिक दूषित दिन होते हैं in hindi, इसलिए पंचक के दौरान दक्षिण दिशा की ओर यात्रा नही करनी चाहिए in hindi,  घर का निर्माण हो रहा है  in hindi, तो पंचक में छत नहीं डालना चाहिए in hindi, घास, लकड़ी, कंडे या अन्य प्रकार के ईंधन का भंडारण पंचक के समय नहीं किया जाना चाहिए in hindi, शय्या निर्माण यानी पलंग बनवाना in hindi, पलंग खरीदना in hindi, बिस्तर खरीदना, बिस्तर का दान करना पंचक के दौरान वर्जित रहता है in hindi, शास्त्रों में वर्णन है कि शुभ कार्य में पंचक देखने की आवश्यकता नहीं है in hindi, पंचक का अर्थ पांच आवृत्ति। उदाहरण के लिए यदि पंचक के दौरान नया घर या वाहन खरीदा जाता है  in hindi, तो संभव है आप पांच घरों या पंाच वाहनों के मालिक बनें। in hindi, पंचकों की तिथि (2019) in hindi, दिनांक 9 से 14 जनवरी तक in hindi, फरवरी पंचक in hindi, 5 फरवरी से 10 फरवरी तक मार्च पंचक in hindi, 5 मार्च से 10 मार्च तक in hindi, अप्रैल पंचक in hindi, 1 अप्रैल से 6 अप्रैल तक in hindi, 28 अप्रैल से 3 मई तक in hindi, मई पंचक in hindi 25 मई से 30 मई तक in hindi, जून पंचक in hindi, 22 जून से 27 जून तक in hindi, जुलाई पंचक in hindi, 19 जुलाई से 24 जुलाई तक in hindi, अगस्त पंचक in hindi, 15 अगस्त से 20 अगस्त तक in hindi, सितंबर पंचक in hindi, 11 सितंबर से 16 सितंबर तक in hindi, अक्टूबर पंचक, in hindi, 9 अक्टूबर से 14 अक्टूबर तक in hindi, नवंबर पंचक in hindi, 5 नवंबर से 10 नवंबर तक in hindi, दिसंबर पंचक in hindi, 2 दिसंबर से 7 दिसंबर तक in hindi, क्यों सक्षमबनो इन हिन्दी में, क्यों सक्षमबनो अच्छा लगता है इन हिन्दी में?, कैसे सक्षमबनो इन हिन्दी में? सक्षमबनो ब्रांड से कैसे संपर्क करें इन हिन्दी में, सक्षमबनो हिन्दी में, सक्षमबनो इन हिन्दी में, सब सक्षमबनो हिन्दी में,अपने को सक्षमबनो हिन्दीं में, सक्षमबनो कर्तव्य हिन्दी में, सक्षमबनो भारत हिन्दी में, सक्षमबनो देश के लिए हिन्दी में,खुद सक्षमबनो हिन्दी में, पहले खुद सक्षमबनो हिन्दी में, एक कदम सक्षमबनो के ओर हिन्दी में, आज से ही सक्षमबनो हिन्दी हिन्दी में,सक्षमबनो के उपाय हिन्दी में, अपनों को भी सक्षमबनो का रास्ता दिखाओं हिन्दी में, सक्षमबनो का ज्ञान पाप्त करों हिन्दी में,सक्षमबनो-सक्षमबनो हिन्दी में, सक्षमबनो इन हिन्दी में, सक्षमबनो इन हिन्दी में, sakshambano in hindi, saksham bano in hindi, in hindi, kiyon saksambano in hindi, kiyon saksambano achcha lagta hai in hindi, kaise saksambano in hindi, kaise saksambano brand se sampark  in hindi, sampark karein saksambano brand se in hindi, saksambano brand in hindi, sakshambano bahut accha hai in hindi, gyan ganga sakshambnao se in hindi,apne aap ko saksambano in hindi, ek kadam saksambano ki or in hindi,saksambano phir se in hindi, ek baar phir saksambano in hindi, ek kadam saksambano ki or in hindi, self saksambano in hindi, give advice to others for saksambano, saksambano ke upaya in hindi, saksambano-saksambano india in hindi, saksambano-saksambano phir se in hindi, सक्षम बनो हिन्दी में, sab se pahle saksambano, sab se pahle saksam bano, aaj hi sab se pahle saksambano, aaj hi sab se pahle saksam bano, saksambano jaldi in hindi, saksambano purn roop se in hindi, saksambano tum bhi in hindi, saksambano mein bhi in hindi, saksambano ke labh in hindi, saksambano ke prakar in hindi, saksambano parivar in hindi, saksambano har parivar in hindi, hare k parivar saksambano in hindi, parivar se saksambano in hindi,  daivik sakti in hindi, ayurvedic gyan in hindi, ayurvedic gyan kyan hai in hindi,  aaj se ayurvedic gyan in hindi, ayurvedic gyan ke barein mein in hindi, ayurvedic gyan se labh in hindi, ayurvedic gyan se ilaz in hindi, shiv-parvati in hindi,  daivic- sangrah in hindi, swasth- swasthya in hindi, sukh-dukh-grah in hindi, uric acid in hindi, uric acid ke barein mein in hindi, uric  acid kya hai in hindi, uric acid kiyon hota hai in hindi, uric acid ke nuksaan in hindi, how to uric acid control in hindi, aaj kiyo uric etna ho gaya hai in hindi, क्यों सक्षमबनो इन हिन्दी में, क्यों सक्षमबनो अच्छा लगता है इन हिन्दी में?, कैसे सक्षमबनो इन हिन्दी में? सक्षमबनो ब्रांड से कैसे संपर्क करें इन हिन्दी में, सक्षमबनो हिन्दी में, सक्षमबनो इन हिन्दी में, सब सक्षमबनो हिन्दी में,अपने को सक्षमबनो हिन्दीं में, सक्षमबनो कर्तव्य हिन्दी में, सक्षमबनो भारत हिन्दी में, सक्षमबनो देश के लिए हिन्दी में,खुद सक्षमबनो हिन्दी में, पहले खुद सक्षमबनो हिन्दी में, एक कदम सक्षमबनो के ओर हिन्दी में, आज से ही सक्षमबनो हिन्दी हिन्दी में,सक्षमबनो के उपाय हिन्दी में, अपनों को भी सक्षमबनो का रास्ता दिखाओं हिन्दी में, सक्षमबनो का ज्ञान पाप्त करों हिन्दी में,सक्षमबनो-सक्षमबनो हिन्दी में, सक्षमबनो इन हिन्दी में, सक्षमबनो इन हिन्दी में, sakshambano in hindi, saksham bano in hindi, in hindi, kiyon saksambano in hindi, kiyon saksambano achcha lagta hai in hindi, kaise saksambano in hindi, kaise saksambano brand se sampark  in hindi, sampark karein saksambano brand se in hindi, saksambano brand in hindi, sakshambano bahut accha hai in hindi, gyan ganga sakshambnao se in hindi,apne aap ko saksambano in hindi, ek kadam saksambano ki or in hindi,saksambano phir se in hindi, ek baar phir saksambano in hindi, ek kadam saksambano ki or in hindi, self saksambano in hindi, give advice to others for saksambano, saksambano ke upaya in hindi, saksambano-saksambano india in hindi, saksambano-saksambano phir se in hindi, सक्षम बनो हिन्दी में, sab se pahle saksambano, sab se pahle saksam bano, aaj hi sab se pahle saksambano, aaj hi sab se pahle saksam bano, saksambano jaldi in hindi, saksambano purn roop se in hindi, saksambano tum bhi in hindi, saksambano mein bhi in hindi, saksambano ke labh in hindi, saksambano ke prakar in hindi, saksambano parivar in hindi, saksambano har parivar in hindi, hare k parivar saksambano in hindi, parivar se saksambano in hindi,  daivik sakti in hindi, ayurvedic gyan in hindi, ayurvedic gyan kyan hai in hindi,  aaj se ayurvedic gyan in hindi, ayurvedic gyan ke barein mein in hindi, ayurvedic gyan se labh in hindi, ayurvedic gyan se ilaz in hindi, shiv-parvati in hindi,  daivic- sangrah in hindi, swasth- swasthya in hindi, sukh-dukh-grah in hindi, uric acid in hindi, uric acid ke barein mein in hindi, uric  acid kya hai in hindi, uric acid kiyon hota hai in hindi, uric acid ke nuksaan in hindi, how to uric acid control in hindi, aaj kiyo uric etna ho gaya hai in hindi,  uric acid ke prati sakshambano, uric acid ke prati sakshambano in hindi, aaj tak uric acid ek samavaya ban gay gayi hai, uric acid ke prati jagruk, uric acid kaise banta hai, uric symptoms in hindi, what-is-uric-acid-and-how-to-control-it, causes-of-uric-acid in hindi, uric-acid-level-chart-sakshambano, uric-acid-ke-barein-mein-sakshambano,aaj se hi uric acid control-sakshambano, uric acid ke prati gyan in hindi, uric-free, bano uric free, uric-acid-abhi-se-door-karon, aaj hi sakshambano, abhi se sakshambano, aaj se hi sakshambano, sakshambano se safalta, kiya hai sakshambano, aaj ji dunia sakshambano, sakshambano mantra, sakshambano ka mantra, gyan kaise prapt hota hai, एसिडिटी आसानी से दूर होती है, acidity asani se door hoti hai hindi, Acidity goes away easily in hindi,  acidity hindi, acidity in hindi, kuch samay es dayitv ke liye video, bhagwan Vishnu ke avatar hindi, shree hari avatar hindi, shiv ki pooja hindi, shiv pooja hindi, shiv ke barein mein hindi, shiv-sakti hindi, shiv pooja kaise karni hai hindi, gayatri mantra hindi, gyatri mantra se labh, yatri mantra se labh hindi, gayatri pooja hindi, gayatri mantra se man pavitr, gayatri mantra dwara man pavitr, gayatri mantra dwara man pavitr hindi, durga-pooja hindi, durga kavach hindi, durga chalisa hindi, sakti chalisa hindi, durga chalisa mantra hindi, devic sakti hindi, lakshmi-ganesh pooja hindi, maa lakshi pooja hindi, lakshmi gyan hind, durga avatar hindi, shiv ke avatar, Vishnu ke avatar, lakshi ke avatar, shiv ke roop, sindoor ka mahatva hindi, Satyata man se abhee se satya ki or , aaj hum sab kahan hai?, Hamara se mera phir bhi ashaanti kyon? , Kartavya swayam parichay se parichit karata hai,Rudra Avatar Hanuman in hindi, Rudra Avatar Hanuman, har dukhon ka nivaran karta hai, Har sankat door karta hai sankat chauth vrat , Ek saath lakshi-Ganesh ki kirpa, Har bigade kaam mein sapalta milti hai,kaise banta hai? mangal dosh se mangalmayee jeevan, Shani-kirpa se acche din avashy aate hain, Shani-kirpa se acche din avashy aate hain in hindi, Acidity goes away easily in hindi, No time limitation of acidity, it may be any time  in hindi, acidity door hoti hai, When, how much, how should you drink water  in hindi, Right way to drink water, No carelessness in hindi, How much water should you drink daily? In hindi, How much importance of drinking water? In hindi, Insufficiency of water that gives indicate in hindi, Sanctity strength of Tulsi  in hindi, Use of Tulsi for healthy health in hindi, Instantly effective for winter cold in hindi, Quickly relief from injury in hindi, Very beneficial for breath sufferers in hindi, Mental stress goes away in hindi, Very beneficial for stone victims in hindi, Acne scars goes away in hindi, Relief with stinky-mouth in hindi, Tulsi oil for acute pain in hindi, Helps to quit smoking in hindi, Relief from Diarrhea & vomiting in hindi, For the victims of continuous headache in hindi, Tulsi leaves increases the health resistant capacity of humans in hindi, Tulsi leaves chew is harmful in hindi, Be careful with these things in hindi, Us from mine but still unhappiness? In hindi, Why so? Even after such civilization in hindi, Where are we all today? In hindi, Hamara se mera phir bhi ashaanti kyon?, Aisa kyon? Aisee sabhyata hone ke baad bhi, Aaj hum sab kahan hai?, आज हम सब कहाँ है?, हमारा से मेरा फिर भी अशांति क्यों? , सत्यता मन से- अभी से सत्य की ओर, Satyata man se abhee se satya ki or, Truthfulness with a heart- from now to the truth in hindi, कुछ समय इस दायित्व के लिए , kuch samay es dayitv ke liye, Some time for this obligation in hindi, Why the distance from this veracity? In hindi, Wishing happiness for themselves for them too in hindi, Pledge to make home of happiness & prosperity  in hindi, es sachaai se doori kyon ?, swayam ke sath-sath unke liye bhi sukh ki kamana, स्वयं के साथ-साथ उनके लिए भी सुख की कामना, इस सच्चाई से दूरी क्यों ?, Sri Ganesh adoptive son of Mata Lakshmi in hindi, Lakshmi-Ganesh's grace together in hindi, Get success in every impediment in hindi, Lakshmi-Ganesh establishment and worship should be done in this way at home in hindi, Chant this mantra in hindi, माता लक्ष्मी का दत्रक पुत्र श्री गणेश, Maa Lakshmi ka dattak putr Shree Ganesh, एक साथ लक्ष्मी-गणेश की कृपा, Ek saath lakshi-Ganesh ki kirpa, हर बिगड़े काम में सफलता मिलती है, Har bigade kaam mein safalta milti hai, Get success in every impediment in hindi, sakshambano-katha, sakshambano brand, sakshambano ki safalta, sakshambano ke kadam, sakshambano har ghar, sakshambano jeewan, sakshambano jiwan, sakshambano har pariwar, sakshambano har ek kutum, sakshambano har bache, sakshambano ka gyan, sakshambano dwara gyan, sakshambano se sudhikaran, sab ke man mein sakshambano, kal se kiyo aaj se hi sakshambano, sakshambano  hamara desh, sakshambano   hamare har ek, स्वस्थ हृदय कैसे?, स्वस्थ हृदय कैसे बनता है?, स्वस्थ हृदय जरूरी है, स्वस्थ स्वास्थ्य के लिए स्वस्थ हृदय जरूरी,  healthy-heart, how to care heart , स्वस्थ हृदय कैसे बनता है?, स्वस्थ हृदय जरूरी है, स्वस्थ स्वास्थ्य के लिए स्वस्थ हृदय जरूरी, panchak ki upyogita, panchak 2019, panchak kya hai, panchak kab hai, panchak ke barein mein, panchak mein kya karna hai in hindi, panchak hindi,

पंचकों की उपयोगिता 
(Panchkon ki upyogita in hindi)
  • जब चंद्रमा गोचर में कुंभ और मीन राशि से होकर गुजरता है तो यह समय अशुभ माना जाता है। इस दौरान चंद्रमा धनिष्ठा से लेकर शतभिषा, पूर्वा भाद्रपद, उत्तरा भाद्रपद एवं रेवती से होते हुए गुजरता है। नक्षत्रों के मेल से बनने वाले विशेष योग को पञ्चक कहा जाता है इन नक्षत्रों की संख्या पांच होती है इस कारण भी इन्हें पंचक कहा जाता है। जब भी कोई कार्य प्रारंभ किया जाता है तो उसमें शुभ मुहूर्त के साथ पंचक का भी ध्यान रखा जाता है। हर 27 दिन के बाद नक्षत्र की पुनरावृत्ति होती है इसलिए पंचक हर  27 दिन बाद आता है। नक्षत्र चक्र में कुल 27 नक्षत्र होते हैं इनमें अंतिम के पांच नक्षत्र दूषित माने गए है। पंचक के दौरान यदि कोई अशुभ कार्य हो तो उनकी पांच बार आवृत्ति होती है। इसलिए उसका निवारण करना आवश्यक होता है। पंचक का विचार खासतौर पर किसी की मृत्यु के समय किया जाता है। माना जाता है कि यदि किसी व्यक्ति की मृत्यु पंचक के दौरान हो तो घर-परिवार में पांच लोगों पर संकट रहता है। इसलिए जिस व्यक्ति की मृत्यु पंचक में होती है उसके दाह संस्कार के समय आटे-चावल के पांच पुतले बनाकर साथ में उनका भी दाह कर दिया जाता है। इससे परिवार पर से पंचक दोष समाप्त हो जाता है। शास्त्रों में वर्णित है कि पंचक सर्वाधिक दूषित दिन होते हैं इसलिए पंचक के दौरान दक्षिण दिशा की ओर यात्रा नही करनी चाहिए। घर का निर्माण हो रहा है तो पंचक में छत नहीं डालना चाहिए। घास, लकड़ी, कंडे या अन्य प्रकार के ईंधन का भंडारण पंचक के समय नहीं किया जाना चाहिए। हल जोतना, शय्या निर्माण यानी पलंग बनवाना, पलंग खरीदना, बिस्तर खरीदना, बिस्तर का दान करना पंचक के दौरान वर्जित रहता है। शास्त्रों में वर्णन है कि शुभ कार्य में पंचक देखने की आवश्यकता नहीं है। पंचक का अर्थ पांच आवृत्ति। उदाहरण के लिए यदि पंचक के दौरान नया घर या वाहन खरीदा जाता है तो संभव है आप पांच घरों या पांच वाहनों के मालिक बनें।
पंचक के प्रकार
  • रोग पंचक - यदि पंचक का आरम्भ रविवार के दिन से होता है तो इसे रोग पंचक कहते हैं। रोग पंचक के कारण आने वाले 5 दिन विशेष रुप से कष्ट और मानसिक परेशानियों के होते हैं। इस पंचक में शुभ कार्यों को सर्वथा त्यागना चाहिए क्योंकि हर तरह के शुभ कार्यों में अशुभ माने जाते हैं।
  • राज पंचक- यदि पंचक का आरम्भ सोमवार के दिन से होता है तो इसे राज पंचक कहा जाता है। आमतौर पर यह पंचक शुभ माने जाते हैं और उनके प्रभाव से आने वाले सभी 5 दिन कार्य में सफलता और सरकारी कामकाज से लाभ दिलाते हैं तथा संपत्ति से जुड़े काम करने के लिए भी राज पंचक काफी उपयुक्त होता है।
  • अग्नि पंचक- यदि पंचक का आरम्भ मंगलवार के दिन से होता है तो इसे अग्नि पंचक कहा जाता है इस दौरान कोर्ट कचहरी और विवाद आदि के फैसलों पर अपना हक प्राप्त करने के लिए अनेक कार्य कर सकते हैं। यह पंचक अशुभ माना जाता है इसी वजह से इस पंचक में किसी भी प्रकार का निर्माण कार्य तथा मशीनरी और औजार के काम की शुरुआत करना अशुभ होता है। इस पंचक पर इन कार्यों को करने से नुकसान होने की पूरी संभावना रहती है।
  • चोर पंचक- यदि पंचक का आरम्भ शुक्रवार के दिन से होता है तो इसे चोर पंचक कहा जाता है। चोर पंचक विशेष रूप से यात्रा करने के उद्देश्य से त्याज्य माने जाते हैं। इसके अलावा इस पंचक पर किसी भी प्रकार का व्यापार, लेन-देन तथा किसी भी प्रकार का सौदा नहीं करना चाहिए। विशेष रूप से धन की हानि होने की संभावना होती है।
  • मृत्यु पंचक- यदि पंचक का आरमभ शनिवार के दिन से होता है तो इसे मृत्यु पंचक कहते है। इस पंचक के दौरान मृत्यु तुल्य कष्टों की प्राप्ति हो सकती है और यह पूरी तरह से अशुभ माना जाता है। इस दौरान आपको किसी भी प्रकार के कष्टकारी कार्य और किसी भी प्रकार के जोखिम भरे कामों को करने से बचना चाहिए, क्योंकि इस पंचक के प्रभाव से आपको किसी प्रकार की चोट लग सकती है।

  • विशेष नोट : इसके अतिरिक्त जब कोई पंचक बुधवार या बृहस्पतिवार को शुरू होता है तो उनमें उपरोक्त किसी भी प्रकार की बात का पालन करना आवश्यक नहीं होता। इन 2 दिनों में शुरू होने वाले पंचक के दौरान उपरोक्त बताए गए कार्यों के अलावा किसी भी तरह के शुभ कार्य किए जा सकते हैं।

पंचकों की तिथि (2020)
  • 30 दिसंबर 2019 प्रातः 9.33 से 4 जनवरी 2020 प्रातः 10.05 बजे तक
  • 26 जनवरी सायं 5.39 से 31 जनवरी सायं 6.11 बजे तक
  • 22 फरवरी मध्यरात्रि 1.29 से 27 फरवरी मध्यरात्रि 1.07 बजे तक
  • 21 मार्च प्रातः 6.20 से 26 मार्च सायं 7.15 बजे तक
  • 17 अप्रैल दोपहर 12.16 से 22 अप्रैल दोपहर 1.18 बजे तक
  • 14 मई सायं 7.20 से 19 मई सायं 7.53 बजे तक
  • 10 जून मध्यरात्रि बाद 3.40 से 15 जून मध्यरात्रि बाद 3.18 बजे तक
  • 8 जुलाई दोपहर 12.31 से 13 जुलाई प्रातः 11.15 बजे तक
  • 4 अगस्त रात्रि 8.47 से 9 अगस्त सायं 7.05 बजे तक
  • 31 अगस्त मध्यरात्रि बाद 3.48 से 5 सितंबर मध्यरात्रि बाद 2.22 बजे तक
  • 28 सितंबर प्रातः 9.39 से 3 अक्टूबर प्रातः 6.37 बजे तक
  • 25 अक्टूबर दोपहर 3.24 से 30 अक्टूबर दोपहर 2.56 बजे तक
  • 21 नवंबर रात्रि 10.24 से 26 नवंबर रात्रि 9.20 बजे तक
  • 19 दिसंबर प्रातः 7.16 से 23 दिसंबर तड़के 4.32 बजे तक