जय माँ कमला-Jai Maa Kamla

Share:


देवी कमला का स्वरूप साक्षात माँ लक्ष्मी से मिलता हैं in hindi, जीवन में धन in hindi, ऐश्वर्य, सुख और सम्पदा की मनोकामना पूरी करने के लिए माँ कमला की साधना की जाती है in hindi, यह कमल के पुष्प के समान दिव्यता का प्रतीक हैं in hindi, देवी धन और सौभाग्य की अधिष्ठात्री देवी हैं in hindi, दस विद्याओं में माँ कमला का दसवाँ स्थान है in hindi, माँ कमला पवित्रता in hindi, सम्मान, भाग्य और परोपकार की देवी है in hindi, इममें सभी दिव्य शक्तियाँ विद्ययामान है in hindi, माँ कमला पूजा-विधि से हर प्रकार से सुख-समृद्धि में वृद्धि होती है in hindi, तीनों लोकों में देवी की आराधना सभी के द्वारा की जाती हैं in hindi, दानव, देवता और मनुष्य सभी को देवी कृपा की आवश्यकता रहती है in hindi, दस महाविद्या  in hindi, दस महाविद्या काली in hindi,, तारा in hindi,, षोडषी in hindi,, भुवनेश्वरी in hindi, भैरवीin hindi, छिन्नमस्ता in hindi, धूमावती in hindi, बगला in hindi, मातंगी और कमला in hindi, गुण और प्रकृति के कारण in hindi, इन सारी महाविद्याओं को दो कुल-कालीकुल और श्रीकुल में बांटा जाता है in hindi, साधकों का अपनी रूचि और भक्ति के अनुसार किसी एक कुल की साधना में अग्रसर हों in hindi, ब्रह्मांड की सारी शक्तियों की स्रोत यही दस महाविद्या हैं in hindi, इन्हें शक्ति भी कहा जाता है। मान्यता है in hindi, कि शक्ति के बिना देवाधिदेव शिव भी शव के समान हो जाते हैं in hindi, भगवान विष्णु की शक्ति भी इन्हीं में निहित हैं in hindi, शक्ति की पूजा शिव के बिना अधूरी मानी जाती है in hindi, इसी तरह शक्ति के विष्णु रूप में भी दस अवतार माने गए हैं in hindi, किसी भी महाविद्या के पूजन के समय उनकी दाईं ओर शिव का पूजन ज्यादा कल्याणकारी होता है in hindi, अनुष्ठान या विशेष पूजन के समय इसे अनिवार्य माना जाता है in hindi, कमला जयंती महत्व in hindi,  दिवाली के दिन माँ कमला जयंती मनाई जाती है in hindi, इस दिन 10 महाविद्या में से एक देवी कमला in hindi, धरती पर अवतरित हुई थी in hindi, महाविद्या माँ कमला श्रीहरी विष्णु की साथी है in hindi, उनकी सबसे बड़ी ताकत है in hindi, देवी कमला का रूप in hindi, देवी लक्ष्मी के समान ही है in hindi, जो प्रसिद्धी in hindi, भाग्य in hindi,, धन की देवी है in hindi, धन in hindi, समृद्धि प्राप्त करने के लिए इनकी पूजा आराधना की जाती है in hindi, इस दिन माता की सभी दस शक्तियों की पूजा की जाती है in hindi, इस दिन तांत्रिक पूजा का महत्व होता है in hindi, इस दिन कन्या भोज कराया जाता है in hindi, जिसमे छोटी बालिका जिनकी उम्र 10 वर्ष से कम ह in hindi, उन्हें भोजन करवा कर दान दिया जाता है in hindi, माँ कलमा देवी अभिषेक एवं सम्पूर्ण पूजाin hindi, जिसमें देवी का पूरा श्रृंगार किया जाता है in hindi, कुमकुम, हल्दी, अक्षत, सिन्दूर, फूल आदि चढ़ाया जाता है in hindi, गणपति, नवग्रह एवं आवाहन पूजा की जाती है in hindi, श्री कमला मूल मन्त्र, सम्पूर्ण पाठ किया जाता है in hindi, अंत में दीप दान एवं प्रसाद वितरण किया जाता है in hindi, दान का बहुत अधिक महत्व होता है in hindi, इस दिन अनाज एवं वस्त्रो का दान किया जाता है in hindi, इस दिन गरीबो एवं ब्राह्मणों को दान देने का महत्व बताया गया है in hindi,  maa kamla sadhna in hindi,  kamala mahavidya mantra in hindi, महाविद्याओं के रूप in hindi, काली-महाकाल in hindi, तारा-अक्षोभ्य in hindi,         षोडषी-कामेश्वर in hindi, भुवनेश्वरी-त्रयम्बक in hindi, त्रिपुर भैरवी-दक्षिणा मूर्ति in hindi, छिन्नमस्ता-क्रोध भैरव in hindi, धूमावती-विधवा रूपिणी हैं in hindi, बगला-मृत्युंजय in hindi, मातंगी-मातंग in hindi, कमला-विष्णु रूप in hindi, दस महाविद्या से ही विष्णु के भी दस अवतार माने गए हैं in hindi, महाविद्याओं से विष्णु के अवतार in hindi, काली-कृष्ण in hindi, तारा-मत्स्य in hindi, षोडषी-परशुराम in hindi, भुवनेश्वरी-वामन in hindi, त्रिपुर भैरवी-बलराम in hindi, छिन्नमस्ता-नृसिंह in hindi, धूमावती-वाराह in hindi, बगला-कूर्म in hindi,  मातंगी-राम in hindi,      कमला-भगवान विष्णु का कल्कि अवतार दुर्गा जी का माना गया है in hindi, दस महाविद्या शक्तियां in hindi,, Maa Kamla ki katha in hindi, Maa Kamla  ka mandir khan hai hindi, Maa Kamla ki shakti in hindi,   Maa Kamla  barein mein hindi, dasa maha vidya in hindi, dasa maha vidya ke barein mein in hidi,  dasa maha vidya ki shakti in hindi, Maa Kamla avatar in hindi, jai Maa Kamla in hindi,  Maa Kamla ki katha hindi, Maa Kamla ki utpatti hindi,

  Jai Maa Kamla  
जय माँ कमला 
  • देवी कमला का स्वरूप साक्षात माँ लक्ष्मी से मिलता हैं। जीवन में धन, ऐश्वर्य, सुख और सम्पदा की मनोकामना पूरी करने के लिए माँ कमला की साधना की जाती है। यह कमल के पुष्प के समान दिव्यता का प्रतीक हैं। देवी धन और सौभाग्य की अधिष्ठात्री देवी हैं। दस विद्याओं में माँ कमला का दसवाँ स्थान है। माँ कमला पवित्रता, सम्मान, भाग्य और परोपकार की देवी है इममें सभी दिव्य शक्तियाँ विद्ययामान है। माँ कमला पूजा-विधि से हर प्रकार से सुख-समृद्धि में वृद्धि होती है। तीनों लोकों में देवी की आराधना सभी के द्वारा की जाती हैं। दानव, देवता और मनुष्य सभी को देवी कृपा की आवश्यकता रहती है। 
दस महाविद्या  
  • दस महाविद्या काली, तारा, षोडषी, भुवनेश्वरी, भैरवी, छिन्नमस्ता, धूमावती, बगला, मातंगी और कमला। गुण और प्रकृति के कारण इन सारी महाविद्याओं को दो कुल-कालीकुल और श्रीकुल में बांटा जाता है। साधकों का अपनी रूचि और भक्ति के अनुसार किसी एक कुल की साधना में अग्रसर हों। ब्रह्मांड की सारी शक्तियों की स्रोत यही दस महाविद्या हैं। इन्हें शक्ति भी कहा जाता है। मान्यता है कि शक्ति के बिना देवाधिदेव शिव भी शव के समान हो जाते हैं। भगवान विष्णु की शक्ति भी इन्हीं में निहित हैं। शक्ति की पूजा शिव के बिना अधूरी मानी जाती है। इसी तरह शक्ति के विष्णु रूप में भी दस अवतार माने गए हैं। किसी भी महाविद्या के पूजन के समय उनकी दाईं ओर शिव का पूजन ज्यादा कल्याणकारी होता है। अनुष्ठान या विशेष पूजन के समय इसे अनिवार्य माना जाता है।
कमला जयंती महत्व 
  • दिवाली के दिन माँ कमला जयंती मनाई जाती है इस दिन 10 महाविद्या में से एक देवी कमला धरती पर अवतरित हुई थी। महाविद्या माँ कमला श्रीहरी विष्णु की साथी है उनकी सबसे बड़ी ताकत है। देवी कमला का रूप, देवी लक्ष्मी के समान ही है, जो प्रसिद्धी, भाग्य, धन की देवी है। धन, समृद्धि प्राप्त करने के लिए इनकी पूजा आराधना की जाती है। इस दिन माता की सभी दस शक्तियों की पूजा की जाती है, इस दिन तांत्रिक पूजा का महत्व होता है इस दिन कन्या भोज कराया जाता है, जिसमे छोटी बालिका जिनकी उम्र 10 वर्ष से कम ह उन्हें भोजन करवा कर दान दिया जाता है। माँ कलमा देवी अभिषेक एवं सम्पूर्ण पूजा, जिसमें देवी का पूरा श्रृंगार किया जाता है, कुमकुम, हल्दी, अक्षत, सिन्दूर, फूल आदि चढ़ाया जाता है। गणपति, नवग्रह एवं आवाहन पूजा की जाती है। श्री कमला मूल मन्त्र, सम्पूर्ण पाठ किया जाता है। अंत में दीप दान एवं प्रसाद वितरण किया जाता है। दान का बहुत अधिक महत्व होता है इस दिन अनाज एवं वस्त्रो का दान किया जाता है। इस दिन गरीबो एवं ब्राह्मणों को दान देने का महत्व बताया गया है।  
महाविद्याओं के रूप
        1)   काली-महाकाल
        2)   तारा-अक्षोभ्य
        3)   षोडषी-कामेश्वर
       4)    भुवनेश्वरी-त्रयम्बक
       5)    त्रिपुर भैरवी-दक्षिणा मूर्ति
       6)    छिन्नमस्ता-क्रोध भैरव
       7)    धूमावती-विधवा रूपिणी हैं,
       8)    बगला-मृत्युंजय
      9)     मातंगी-मातंग
    10)     कमला-विष्णु रूप
दस महाविद्या से ही विष्णु के भी दस अवतार माने गए हैं। 
महाविद्याओं से विष्णु के अवतार
    1)      काली-कृष्ण
    2)      तारा-मत्स्य
    3)      षोडषी-परशुराम
    4)      भुवनेश्वरी-वामन
    5)      त्रिपुर भैरवी-बलराम
    6)      छिन्नमस्ता-नृसिंह
    7)      धूमावती-वाराह
    8)      बगला-कूर्म
    9)      मातंगी-राम
  10)      कमला-भगवान विष्णु का कल्कि अवतार दुर्गा जी का माना गया है।
दस महाविद्या शक्तियां
Click here »  मंगलमयी जीवन के लिए कालरात्रि की पूजा- Kalratri worship for a happy life
Click here »  दुःख हरणी सुख करणी- जय माँ तारा
Click here »  माँ षोडशी
Click here »  माँ भुवनेश्वरी शक्तिपीठ-Maa Bhuvaneshwari
Click here »  माँ छिन्नमस्तिका द्वारा सिद्धि- Accomplishment by Maa Chhinnamasta
Click here »  माँ त्रिपुर भैरवी-Maa Tripura Bhairavi
Click here »  माँ धूमावती - Maa Dhumavati
Click here »  महाशक्तिशाली माँ बगलामुखी-Mahashaktishali Maa Baglamukhi
Click here »  माँ मातंगी -Maa Matangi Devi
Click here »  जय माँ कमला-Jai Maa Kamla