शनिदेव द्वारा बताया गया कलियुग का भविष्य- The future of Kaliyuga told by Shani Dev

Share:

 

sakshambano image, sakshambano ka ddeshya in hindi, sakshambano ke barein mein in hindi, sakshambano ki pahchan in hindi, apne aap sakshambano in hindi, sakshambano blogger in hindi,  sakshambano  png, sakshambano pdf in hindi, sakshambano photo, Ayurveda Lifestyle keep away from diseases in hindi, sakshambano in hindi, sakshambano hum sab in hindi, sakshambano website, adopt ayurveda lifestyle in hindi, to get rid of all problems in hindi, Vitamins are essential for healthy health in hindi in hindi, शनि कृपा से अच्छे दिन अवश्य आते हैं in hindi, शनि-कृपा-से-अच्छे-दिन-अवश्य-आते-हैं in hindi, शनि महिमा की प्राप्ति कैसे होती है in hindi, शनि-कृपा से अच्छे दिन अवश्य आते हैं in hindi, आमतौर से शनि देव को अशुभ और दुःख प्रदान करने वाला माना जाता है  in hindi, लेकिन ऐसा सत्य नही है in hindi, शनिदेव का स्मरण केवल कष्टों के लिए ही नहीं अपितु सुख और समृद्धि के लिए भी किया जाता है in hindi, मनुष्य जीवन में शनि के सकारात्मक प्रभाव होते है in hindi, शनि संतुलन एवं न्याय का दाता है in hindi,  शनि देव को कर्मफलदाता माना गया है in hindi, जो मनुष्य को उसके कर्मों के अनुसार अच्छा या बुरा फल प्रदान करता है in hindi, यदि यमराज को मृत्यु का देव कहा जाता है  in hindi, तो वही शनि देव भी कर्म के दण्डाधिकारी है in hindi,  चाहे गलती जान बूझकर की गई हो या अनजाने में हर किसी को अपने कर्मों का दण्ड तो भुगतना ही पड़ता है in hindi, शनि देव को सूर्यदेव का पुत्र माना जाता है  in hindi, यह नीले रंग के ग्रह माने जाते हैं, in hindi, नीले रंग की किरणें पृथ्वी पर निरंतर पड़ती रहती है in hindi,  यह बड़ा है ग्रह है इसलिए धीमी गति से चलता है in hindi, एक राशि का भ्रमण करने में अढाई वर्ष तथा 12 राशियों का भ्रमण करने पर लगभग 30 वर्ष का समय लगाता है in hindi, सूर्य पुत्र शनि अपने पिता सूर्य से अत्यधिक दूरी के कारण प्रकाशहीन है in hindi, इसलिए इसे अंधकारमयी माना जाता है in hindi,  न्याय के देव-शनिदेव inhindi, शनिदेव सबके साथ बराबर का न्याय करते है in hindi, उन्होंने ने अपने पिता सूर्य देव और गुरु तक एक समान न्याय किया in hindi, पिता सूर्यदेव को शनि की दशा के कारण हनुमान जी का ग्रास बनना पड़ा  in hindi, और माता पार्वती का सती होना भी इसी का अंश था in hindi, राजा हरिशचन्द्र को उनके दान देने के गुण पर जब अभिमान हुआ in hindi तब उन्हें भी शनि प्रकोप की प्राप्ति हुई in hindi, शनिदेव की कृपा प्राप्ति के लिए शनि चरणों की ओर देखें in hindi, शनिदेव के पिता सूर्यदेव और माता छाया है in hindi, यम उनके भाई और यमी उनकी बहिन है in hindi, कहा जाता है बचपन पर भाई के साथ खेलते हुए in hindi, उनके पांव में चोट लग गई जिस कारण वह धीरे-धीरे चलने लगें in hindi, अपनी पत्नी के श्राप के कारण वह हमेशा नीचे देखते हैं in hindi, कहा जाता है अगर वह किसी को सीधी आंखों से देख लें तो उसका सर्वनाश निश्चित है in hindi, शनिदेव को तेल अतिप्रय क्यों है in hindi, हनुमान जी ने शनिदेव को रावण बंधन से मुक्त कराया था in hindi, कैद में रहने के कारण शनिदेव को काफी पीड़ा हो रही थी in hindi, तब हनुमान जी उनके शरीर पर तेल का लेप लगाया था in hindi, जिससे शनिदेव को राहत मिली थी। इसी कारण शनिदेव को शनिवार के दिन तेल चढ़ाया जाता है in hindi, और हनुमान जी की पूजा करने से शनिदेव के प्रकोप से मुक्ति मिलती है in hindi, ऊँ शं शनैश्चराय नमः in hindi, शनि कृपा-प्राप्ति के लिए in hindi, शनि निवारण के लिए शनिवार के दिन शनि मंदिर में काले कपड़ा, काली उड़द, काले तिल और तेल चढ़ाना चाहिए in hindi, शनिवार के दिन पीपल के पेड़ की पूजा का विशेष महत्व माना जाता है। इसलिए इस दिन पीपल में तेल का दीया अवश्य जलाना चाहिए in hindi, शनिवार के दिन तेल व काले तिल का दान करना बहुत अच्छा माना जाता है in hindi, शनिवार के दिन काला तिल और गुड़ चींटियों को खिलाना चाहिए in hindi, काला कम्बल, काला छाता, लोहे की कोई धातु, चमड़े के जूते व काली रंग की वस्तुए दान करनी चाहिए in hindi, शनिदेव का व्रत करने से भी शनि देव प्रसन्न होते है। अगर व्रत ना कर सके तो मांसाहार और मदिरापान से विशेषकर इस दिन दूर रहना चाहिए in hindi, शनि की दशा को शांत करने के लिए शुक्रवार की रात्रि में 8 सौ ग्राम काले तिल पानी में भिगो दें शनिवार को प्रातः उन्हें पीसकर एवं गुड़ में मिलाकर 8 लड्डू बनाएं और किसी काले घोड़े को खिला दें। आठ शनिवार तक यह प्रयोग करें in hindi,  शनिदोष पीड़ितों को भगवान शिव in hindi, सूर्य देव व हनुमान जी की पूजा करनी चाहिए in hindi, भगवान शिव, सूर्य देव और हनुमान जी पूजा शनिवार के दिन करने से शनि दोष से मुक्ति मिलती है in hindi, शनिवार को काले रंग की चिड़िया खरीदें और उसे दोनों हाथों से आसमान में उड़ा दें in hindi, सारे दुःख दूर हो जायेंगे in hindi, शनिवार के दिन लोहे का त्रिशूल शिव-काल भैरव-महाकाली मंदिर में अर्पित करें in hindi, विवाह संयोग के लिए शुक्ल पक्ष के प्रथम शनिवार को 250 ग्राम काली राई को नये काले कपड़े में बांधकर पीपल के पेड़ की जड़ में रख आयें और शीघ्र विवाह कामना करें in hindi, शनिवार के दिन गेंहू पिसवाएं और गेहूं में कुछ काले चने भी मिला दें ऐसा करने से आर्थिक वृद्धि होगी in hindi, शुक्ल पक्ष के पहले शनिवार को 10 बादाम लेकर हनुमान मंदिर में जायें। 5 बादाम वहां रख दें और 5 बादाम घर लाकर किसी लाल वस्त्र में बांधकर धन स्थान पर रख दें धन में उन्नति होगी in hindi, शनिवार के दिन बंदरों को काले चने, गुड़, केला खिलाएं in hindi, सरसों के तेल का छाया पत्र दान करें in hindi, बहते पानी में नारियल विसर्जित करें in hindi, काले कुत्ते को दूध पिलाएं in hindi, चीटिंयों को 7 शनिवार काले तिल, आटा, शक्कर मिलाकर खिलाएं in hindi, शनि के दिन हनुमान चालीसा का सुबह-शाम जप करना चाहिए in hindi, शनि पीड़ा से ग्रस्त व्यक्ति को रात्रि के समय दूध का सेवन नहीं करना चाहिए in hindi, शनिवार की संध्या को काले कुत्ते को चुपड़ी हुई रोटी खिलाएं। यदि काला कुत्ते रोटी खा ले तो अवश्य शनि ग्रह द्वारा मिल रही पीड़ा शांति होती है in hindi, काले कुत्ते को द्वार पर नहीं लाना चाहिए अपितु पास जाकर सड़क पर ही रोटी खिलानी चाहिए in hindi, शनि शांति के लिए महामृत्युंजय मंत्र का जप करें in hindi, सात मुखी रुद्राक्ष भी शनि शांति के लिए धारण कर सकते हैं in hindi, नीलम रत्न धारण करें अथवा नीली या लाजवर्त, पंच धातु में धारण करें in hindi, शनिवार को इन चीजों को न खरीदें in hindi, तेल शनिवार के दिन तेल न खरीदें इस दिन सरसों या किसी भी चीज का तेल खरीदने से व्यक्ति कई रोगों से ग्रस्त हो सकता है in hindi, काले तिल  in hindi, शनिवार को काले तिल न खरीदें काले तिल खरीदने से जरूरी कार्यों में मुश्किलों का सामना करना पड़ता है in hindi, काले तिल चढ़ाने से शनिदेव को प्रसन्न होते है परन्तु काले तिल शनिवार के अलावा किसी भी दिन खरीद लें in hindi, नमक :  शनिवार के दिन नमक न खरीदें इस दिन नमक खरीदने से बचें। शनिवार के दिन नमक खरीदने से कर्ज में बढ़ोतरी की संभावना होती है। काले रंग की चीजों को न खरीदें in hindi, शनिवार के दिन काले रंग की चीजों को न खरीदें ऐसा करने से काम में असफलता की संभावना बढ़ जाती है in hindi, बिजली की चीजों को न खरीदें in hindi,  शनिवार के दिन बिजली की चीजों को न खरीदें in hindi, शनिवार के दिन बिजली के सामान की खरीदारी को अशुभ माना जाता है in hindi, लोहे से बनी चीजों को न खरीदें in hindi, शनिवार के दिन लोहे से बनी चीजों को खरीदनें से रिश्तों में तनाव आता है in hindi, Shani-kirpa se acche din avashy aate hain in hindi, sabki maang phir modi sarkar in hindi, shani dev ne bataya kalyug ka future in hindi,kalyug ki bhavishyavani in hindi, shani dev god of justice in hindi, how to please shani dev in hindi, kalyug ki bhavishyavani by shanidev in hindi, do you know shani dev has taken difficult test of pandavas in mahabharat kaal in hindi,

शनिदेव द्वारा बताया गया कलियुग का भविष्य
(The future of Kaliyuga told by Shani Dev)

शनिदेव को न्याय का देवता माना गया है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार वह व्यक्तियों को उनके कर्मों के अनुसार ही दंडित करते हैं। कई बार तो किसी-किसी व्यक्ति पर उसके शुभ कर्मों के चलते शनिदेव अत्यंत प्रसन्न होते हैं और उसे धन-धान्य और हर तरह से समृद्ध कर देते हैं। शनिदेव ने देवताओं की भी कठिन परीक्षा ली है। इसी कड़ी की एक कहानी महाभारत काल में भी मिलती है। जब उन्होंने पांडवों की न केवल कठिन परीक्षा ली बल्कि जब वह सफल नहीं हुए तो उन्हें भी दंड दे डाला। महाभारत काल में पांडवों को 12 वर्ष के वनवास के साथ ही 1 वर्ष का अज्ञातवास दिया गया था। उनके अज्ञातवास में कुछ ही समय शेष था और सभी किसी जगह की तलाश में थे। जहां उन्हें कोई भी पहचान न सके। तभी शनिदेव की नजर पांडवों पर पड़ी। उनके मन में विचार आया कि क्यों न इनकी परीक्षा ली जाए? देखा जाए कि पांडवों में कौन सबसे ज्यादा समझदार है? इसी कड़ी में उन्होंने एक माया महल का निर्माण कर दिया।

click here » अच्छे दिन अवश्य आते हैं

माया रूपी महल को देखते ही भीम के मन में उस महल को देखने की इच्छा प्रकट हुई। उन्होंने बड़े भाई युधिष्ठिर से आज्ञा ली और महल के अंदर प्रवेश करने लगे। तभी दरबान बनें शनिदेव ने उन्हें रोक लिया। उन्होंने कहा कि कुछ शर्तों पर ही प्रवेश मिलेगा। भीम सहमत हुए। तब शनिदेव ने कहा कि भीतर जो भी वस्तुएं आप देखेंगे उसका अर्थ बताना होगा। अन्यथा आपको बंदी बना लेंगे। यह सुनने के बाद भीम महल के अंदर गए। वहां उन्होंने तीन कुएं देखें। इसमें एक सबसे बड़ा था और दो छोटे कुएं थे। जब बड़े कुएं का पानी उछलता था तो बराबर के दोनों कुएं भर जाते थे। लेकिन जब छोटे कुएं में पानी उछलता तो बड़े कुएं का पानी आधा ही रह जाता। यह देखकर भीम लौट आते हैं। बाहर शनदिेव उनके इन कुओं का मतलब पूछते हैं तो भीम उन्हें नहीं बता पाते। तब शनिदेव शर्त के मुताबिक उन्हें बंदी बना लेते हैं। 

बहुत देर हो गयी भीम नहीं लौटे तो अर्जुन उन्हें खोजने पहुंचे तो शनिदेव ने उन्हें पूरी बात कह सुनाई। साथ ही शर्त मानने पर ही महल में प्रवेश करने को कहा। अर्जुन बात मान जाते हैं और भीतर जाते हैं। वहां देखते हैं कि एक तरफ मक्के की तो दूसरी तरफ बाजरे की फसल उग रही है। मक्के के पौधे में बाजरा और बाजरे में मक्का का फल निकल रहा है। यह देखकर वह बाहर आते हैं। अन्य देखी हुई चीजों का अर्थ तो बता देते हैं लेकिन मक्का और बाजरा उनकी समझ से परे होता है। शनिदेव उन्हें भी बंदी बना देते हैं। इसी तरह नकुल और सहदेव को भी जवाब न दे पाने के चलते शनिदेव उन्हें भी बंदी बना लेते हैं।

भीम, अर्जुन, नकुल और सहदेव महल से बाहर नहीं आए तो युधिष्ठिर पत्नी द्रौपदी के साथ महल पहुंचे। उन्होंने दरबान से सभी के बारे में पूछा तो उन्होंने बताया कि सभी उनकी शर्तों को पूरी न कर सके इसलिए सभी बंदी हैं। तब युधिष्ठिर ने कहा कि वह उनकी शर्त पूरी करेंगे और वह सभी देखी हुई वस्तुओं का अर्थ बताएंगे। तब सबसे पहले भीम को सामने लाया गया। भीम के कुएं के दृश्य के बारे मे युधिष्ठिर ने बताया कि इसका अर्थ है कि कलयुग में एक पिता दो बेटों का पेट तो भर देगा लेकिन दो बेटे अपने एक पिता का पेट नहीं भर पाएंगे। इस जवाब पर भीम को छोड़ दिया गया। इसके बाद अर्जुन आए। उनके दृश्य का अर्थ युधिष्ठिर ने कुछ यूं बताया कि इसका आशय कुल परिवर्तन से है। यानि कि कलियुग में विवाह के लिए जात-पात का भेद नहीं किया जाएगा लोग अपने कुल की मर्यादा को त्यागकर किसी भी कुल में विवाह करने लगेंगे।

भीम और अर्जुन के बाद युधिष्ठिर ने बारी-बारी से नकुल और सहदेव के दृश्यों का भी जवाब दिया। युधिष्ठिर ने नकुल के देखे हुए दृश्य यानी कि जब गायों को भूख लगती है तो वह अपनी बछिया का दूध पीती हैं का अर्थ बताया। उन्होंने बताया कि इसका मतलब है कि कलयुग में बड़े-बुजुर्गों के प्रति बच्चों का सम्मान बिल्कुल न के बराबर होगा। कई जगहों पर मां-पिता को बेटों की उपेक्षा झेलनी पड़ सकती है। वहीं सहदेव ने एक चांदी के सिक्के पर सोने की विशाल शिला को टिके हुए देखा था। युधिष्ठिर ने बताया कि इसका आशय है कि कलयुग में पाप धर्म को दबाने की लाख कोशिशें करेगा लेकिन वह सफल नहीं होगा। यह सुनने के बाद शनिदेव ने नकुल और सहदेव को भी मुक्त कर देते हैं। इस तरह शनिदेव की परीक्षा में युधिष्ठिर सबसे अधिक बुद्धिमान साबित होते हैं।

No comments