अशोक सुन्दरी को उत्पन्न करना माता पार्वती की आवश्यकता क्यों बन गई

Share:



ashok sundari hindi, ashok sundari ke baein mein in hindi, ashok sundari ki katha in hindi, ashok sundari in hindi, संक्षमबनों इन हिन्दी में, संक्षम बनों इन हिन्दी में, sakshambano in hindi, saksham bano in hindi, ashok sundari in hindi, ashok sundari ke barein in hindi, ashok sundari ki kahani in hindi, ashok sundari gyan in hindi, ashok sundari ki katha in hindi, ashok sundari shiv putri in hindi, shiv parvati putri ashok sundari in hindi, ashok sundari ki story in hindi, ashok sundari kaun hai in hindi, shiv purti in hindi, शिव-पार्वती पुत्री-अशोक-सुन्दरी in hindi,   एक दिन माता पार्वती ने भगवान शिव से सृष्टि के सबसे सुन्दर उद्यान में घूमने की अपनी इच्छा बताई हिन्दी में, माता पर्वती के हठ पर भगवान शिव उन्हें नंदनवन ले गए हिन्दी में, जहाँ माता पार्वती को एक कलपवृक्ष नामक पेड़ से लगाव हो गया हिन्दी में,  कल्पवृक्ष मनोकामनाए पूर्ण करने वाला वृक्ष था हिन्दी में, अतः माता पर्वती ने उसे भगवान शिव से कैलाश पर्वत में ले जाने की अपनी इच्छा बताई हिन्दी में, पार्वती के कहने पर भगवान शिव उस वृक्ष को कैलाश पर्वत ले आये हिन्दी में, एक उद्यान में स्थापित किया हिन्दी में,  अशोक सुन्दरी को उत्पन्न करना माता पार्वती की आवश्यकता क्यों बन गई  हिन्दी में, पद्मपुराण के अनुसार अशोक सुंदरी वर्णन भगवान शिव और पार्वती की बेटी के रूप में किया गया है हिन्दी में, माता पार्वती के अकेलेपन को दूर करने हेतु कल्पवृक्ष नामक पेड़ के द्वारा ही अशोक सुंदरी की रचना हुई थी हिन्दी में माता पार्वती को सुखी करने हेतु ही उनका निर्माण हुआ हिन्दी में, अत्यंत सुंदर थी इसी कारण इन्हें सुंदरी कहा गया हिन्दी में, शिव-पार्वती पुत्री-अशोक-सुन्दरी हिन्दी में, अशोक सुन्दरी को उत्पन्न करना माता पार्वती की आवश्यकता क्यों बन गई  हिन्दी में, पद्मपुराण के अनुसार अशोक सुंदरी वर्णन भगवान शिव और पार्वती की बेटी के रूप में किया गया है हिन्दी में,  माता पार्वती के अकेलेपन को दूर करने हेतु कल्पवृक्ष नामक पेड़ के द्वारा ही अशोक सुंदरी की रचना हुई थी हिन्दी में, माता पार्वती को सुखी करने हेतु ही उनका निर्माण हुआ था हिन्दी में, माता पार्वती का वरदान हिन्दी में, माता पार्वती पुत्री प्राप्ति से बहुत प्रसन्न थी हिन्दी में, इसलिय माता ने पुत्री अशोक सुंदरी को यह वरदान दिया था हिन्दी में, उसका विवाह देवराज इंद्र जैसे शक्तिशाली युवक से होगा हिन्दी में, एक बार अशोक सुंदरी अपने सहेलियों के साथ नंदनवन में खेल रही थी तभी वहाँ हुंड नामक एक भयंकर राक्षस आया हिन्दी में वह अशोक सुंदरी के रूप को देखकर आकर्षित हो गया हिन्दी में, उसने इस से पहले कभी अशोक सुंदरी के समान कोई सुन्दर कन्या नही देखी थी हिन्दी में, हुंड नामक राक्षस ने अशोक सुंदरी के सामने विवाह का प्रस्ताव रखा हिन्दी में, लेकिन अशोक सुंदरी ने उसका प्रस्ताव यह कहते हुए ठुकरा दिया हिन्दी में, की उसका विवाह राजकुमार निहुष के साथ होगा ऐसा उसे वरदान प्राप्त हुआ है हिन्दी में,  राक्षस अशोक सुंदरी से बोला की वह राजकुमार निहुष का वध कर उस से ही विवाह करेगा हिन्दी में, इस के बाद राक्षस हुंड राजकुमार निहुष को ढूढ़ने निकल पड़ा राक्षस ने निहुष का अपहरण कर लिया हिन्दी में, उस समय राजकुमार निहुष काफी छोटे थे हिन्दी में, राक्षस की एक दासी ने किसी तरह राजकुमार निहुष को बचाकर ऋषि विशिष्ठ के आश्रम में लायी हिन्दी में, इसी आश्रम में ही राजकुमार बड़े हुए हिन्दी में, एक दिन राजकुमार निहुष ने राक्षस हुड को ढूढ़कर उसका वध कर दिया हिन्दी में, इसके बाद भगवान शिव और माता पर्वती के आशीर्वाद से निहुष और अशोक सुंदरी का विवाह सम्पन्न हुआ हिन्दी में तथा अशोक सुंदरी ययाति जैसे वीर पुत्र और सौ रूपवान कन्याओ की माता बनी हिन्दी में, अशोक सुन्दरी को उत्पन्न करना माता-पार्वती-की-आवश्यकता-क्यों-बन-गई in hindi,  माता-पार्वती-का-वरदान in hindi, shiv-parvati putri ashok sundari in hindi, Mata Parvati  ka Vardan in hindi, Ashok Sundari ko utpann karna Mata Parvati ki avashyakta kyon ban gayee in hindi, क्यों सक्षमबनो इन हिन्दी में, क्यों सक्षमबनो अच्छा लगता है इन हिन्दी में?, कैसे सक्षमबनो इन हिन्दी में? सक्षमबनो ब्रांड से कैसे संपर्क करें इन हिन्दी में, सक्षमबनो हिन्दी में, सक्षमबनो इन हिन्दी में, सब सक्षमबनो हिन्दी में,अपने को सक्षमबनो हिन्दीं में, सक्षमबनो कर्तव्य हिन्दी में, सक्षमबनो भारत हिन्दी में, सक्षमबनो देश के लिए हिन्दी में,खुद सक्षमबनो हिन्दी में, पहले खुद सक्षमबनो हिन्दी में, एक कदम सक्षमबनो के ओर हिन्दी में, आज से ही सक्षमबनो हिन्दीें में,सक्षमबनो के उपाय हिन्दी में, अपनों को भी सक्षमबनो का रास्ता दिखाओं हिन्दी में, सक्षमबनो का ज्ञान पाप्त करों हिन्दी में,सक्षमबनो-सक्षमबनो हिन्दीें में, kiyon saksambano in hindi, kiyon saksambano achcha lagta hai in hindi, kaise saksambano in hindi, kaise saksambano brand se sampark  in hindi, sampark karein saksambano brand se in hindi, saksambano brand in hindi, sakshambano bahut accha hai in hindi, gyan ganga sakshambnao se in hindi, apne aap ko saksambano in hindi, ek kadam saksambano ki or in hindi,saksambano phir se in hindi, ek baar phir saksambano in hindi, ek kadam saksambano ki or in hindi, self saksambano in hindi, give advice to others for saksambano, saksambano ke upaya in hindi, saksambano-saksambano india in hindi, saksambano-saksambano phir se in hindi,

  शिव-पार्वती पुत्री-अशोक-सुन्दरी 
अशोक सुन्दरी को उत्पन्न करना
माता पार्वती की आवश्यकता क्यों बन गई  
(Ashok Sundari ko utpann karna Mata Parvati ki avashyakta kyon ban gayee in hindi)
  • पद्मपुराण के अनुसार अशोक सुंदरी वर्णन भगवान शिव और पार्वती की बेटी के रूप में किया गया है। माता पार्वती के अकेलेपन को दूर करने हेतु कल्पवृक्ष नामक पेड़ के द्वारा ही अशोक सुंदरी की रचना हुई थी। माता पार्वती को सुखी करने हेतु ही उनका निर्माण हुआ था और वह अत्यंत सुंदर थी इसी कारण इन्हें सुंदरी कहा गया। एक दिन माता पार्वती ने भगवान शिव से सृष्टि के सबसे सुन्दर उद्यान में घूमने की अपनी इच्छा बताई। माता पर्वती के हठ पर भगवान शिव उन्हें नंदनवन ले गए जहाँ माता पार्वती को एक कलपवृक्ष नामक पेड़ से लगाव हो गया। कल्पवृक्ष मनोकामनाए पूर्ण करने वाला वृक्ष था अतः माता पर्वती ने उसे भगवान शिव से कैलाश पर्वत में ले जाने की अपनी इच्छा बताई। पार्वती के कहने पर भगवान शिव उस वृक्ष को कैलाश पर्वत ले आये तथा वहा एक उद्यान में स्थापित किया। एक दिन माता अकेले उसी उद्यान में घूम रही थी जहाँ भगवान शिव ने उस कल्पवृक्ष को लाकर रखा था। पर्वती को भगवान शिव के ध्यान में लीन होने के कारण अकेलापन महसूस हो रहा था ऐसे में माता पर्वती एक पुत्री की कामना करने लगी। तभी माता को कल्पवृक्ष का ध्यान आया और उस वृक्ष के पास जाकर उन्होंने अपनी इच्छा बताई तभी कल्पवृक्ष के प्रभाव से एक सुन्दर कन्या माता पार्वती के सामने प्रकट हुई।

  • माता पार्वती पुत्री प्राप्ति से बहुत प्रसन्न थी इसलिय माता ने पुत्री अशोक सुंदरी को यह वरदान दिया था कि उसका विवाह देवराज इंद्र जैसे शक्तिशाली युवक से होगा। एक बार अशोक सुंदरी अपने सहेलियों के साथ नंदनवन में खेल रही थी तभी वहाँ हुंड नामक एक भयंकर राक्षस आया। वह अशोक सुंदरी के रूप को देखकर आकर्षित हो गया उसने इस से पहले कभी अशोक सुंदरी के समान कोई सुन्दर कन्या नही देखी थी। हुंड नामक राक्षस ने अशोक सुंदरी के सामने विवाह का प्रस्ताव रखा लेकिन अशोक सुंदरी ने उसका प्रस्ताव यह कहते हुए ठुकरा दिया की उसका विवाह राजकुमार निहुष के साथ होगा ऐसा उसे वरदान प्राप्त हुआ है। राक्षस अशोक सुंदरी से बोला की वह राजकुमार निहुष का वध कर उस से ही विवाह करेगा। इस के बाद राक्षस हुंड राजकुमार निहुष को ढूढ़ने निकल पड़ा राक्षस ने निहुष का अपहरण कर लिया उस समय राजकुमार निहुष काफी छोटे थे। राक्षस की एक दासी ने किसी तरह राजकुमार निहुष को बचाकर ऋषि विशिष्ठ के आश्रम में लायी और इसी आश्रम में ही राजकुमार बड़े हुए। एक दिन राजकुमार निहुष ने राक्षस हुड को ढूढ़कर उसका वध कर दिया। इसके बाद भगवान शिव और माता पर्वती के आशीर्वाद से निहुष और अशोक सुंदरी का विवाह सम्पन्न हुआ तथा अशोक सुंदरी ययाति जैसे वीर पुत्र और सौ रूपवान कन्याओ की माता बनी।