शिव पुराण का महत्व- Importance of Shiva Purana

Share:


padam puran पद्म पुराण in hindi, sakshambano image, sakshambano ka udeshya in hindi, sakshambano ke barein mein in hindi, sakshambano ki pahchan in hindi, apne aap sakshambano in hindi, sakshambano blogger in hindi,  sakshambano  png, sakshambano pdf in hindi, sakshambano photo, Ayurveda Lifestyle keep away from diseases in hindi, sakshambano in hindi, sakshambano hum sab in hindi, sakshambano website, adopt ayurveda lifestyle in hindi, to get rid of all problems in hindi, Vitamins are essential for healthy health in hindi in hindi,Importance of Shiva Purana in hindi, shiv puran kya hai hindi, shiv puran katha book in hind, shiv puran ke barein mein in hindi, shi puran ka mahatva in hindi, shiv puran se fayde in hindi, shiv puran se man pavitra in hindi, shiv puran se man ko shanti in hindi, bhagwan shiv ke barein mein in hindi, bhagwan shiv ki pooja in hindi, shiv ki shakti in hindi, shiv-pooja, kaal-ka-bhay-kaise, sharavan-maas-pooja, sharavan-mein-shiv-ki-pooja, har-dukh-door,shiv-parvati, shiv-ke-barin-mein, shiv-pooja-ka-mahatva, shiv-kunji, shiv-hi-shiv, om-namah-shivaya, shiv-ki-bhakti-mein-shakti, shiv hindi, shiv-gyan hindi, pavitra sawan ka mahina,   shiv ki pooja in hindi, shiv pooja in hindi, shiv pooja hindi, kaal ka bhay kaise in hindi, kaal ka bhay kaise in hindi, hindi, sharavan maas pooja in hindi, sharavan maas pooja  hindi, sharavan mein shiv ki pooja in hindi, har dukh door in hindi, shiv-parvati in hindi, shiv ke barin mein in hindi, shiv pooja ka mahatva in hindi,  shiv-kunji  in hindi,  shiv hi shiv in hindi,  om-namah-shivaya in hindi,  shiv ki bhakti  in hindi, shiv bhakti mein shakti in hindi, shiv hindi, shiv-gyan in hindi, pavitra sawan ka mahina in hindi, पवित्र सावन मास in hindi, शिव भगवान अति प्रसन्न होते सावन महिने में in hindi, शिव को प्रसन्न करने का सरल उपाय in hindi, सब देवताओं का आर्शीवाद एक साथ प्राप्त होता है in hindi, चन्द्रमा की दशा से मुक्ति मिलती है in hindi, शिव शंकर ने चन्द्रमा को अपने सिर पर धारण किया in hindi, देवी-देवताओं ने जल वर्षा की, शिवलिंग की पूजा कैसे करें in hindi, शिवलिंग की पूजा विधि in hindi, शिवलिंग पर लाल रंग का प्रयोग भूल से भी न करें in hindi, शिव शंकर प्रसन्न होते है in hindi, बेलपत्र का प्रयोग करे in hindi, धातूरे का प्रयोग करें in hindi, दूध का प्रयोग करें in hindi, सबसे दयालु शिव भगवान in hindi, शीघ्र फल देते है in hindi, शीघ्र प्रसन्न होते है in hindi, हर मनोकामना पूरी करते है in hindi, शिव पूजा से प्राण संकट की दशा मिट जाती है in hindi, मां पार्वती अटूट भक्ति से शिव की प्राप्ति in hindi, सावन में मां पार्वती की शिव भक्ति in hindi, मोक्ष प्राप्त होता है in hindi, शिव-पार्वती विवाह से विवाह प्रथा शुरू हुई in hindi, सोमवार को शिव पूजा जरूर कीजिए in hindi, सोमवार व्रत विधि in hindi, सावन में सोमवार का महत्व in hindi,शिव पूजा से गृह क्लेश दूर होता है in hindi, शिव पूजा से सभी ग्रहों का प्रकोप दूर होता है in hindi, शनि का प्रकोप दूर होता है in hindi, सावन के सोमवार व्रत से मन पसन्द जीवन साथी मिलता है in hindi, निश्चित शिव कृपा प्राप्त होती है in hindi, सावन में शिव-शक्ति का मिलन in hindi, चावल in hindi, तिल in hindi, इत्र in hindi, पुष्प in hindi, धतुरा in hindi, बेल पत्र in hindi 5, 11, 21, शुभ संख्या है अर्पित करें in hindi, मौली in hindi, जनेऊ in hindi,  वस्त्र अर्पित कर सकते हैं in hindi,  दूध hindi, दही in hindi, घी in hindi, शहद in hindi, शक्कर hin hindi, केसर के मिश्रण से अभिषेक कीजिए in hindi, भगवान शिव को चमेली के फूल अर्पित करने से वाहन सुख की प्राप्ति होती है in hindi, भगवान शिव को बेलपत्रा अर्पित करने से सभी रागों से मुक्ति मिलती है in hindi, pavitr shravan month in hindi, shiv bhagwan ati prasan hote shravan month mein in hindi, shiv ko prasann karane ka saral upay in hindi, sab devataon ka asheevad ek sath prapt hota hai in hindi, chandrama ki dasha se mukti miltee hai in hindi, shiv shankar ne chandrama ko apane sir par dharan kiya in hindi, devi-devtaon ne jal varsha kee in hindi, shivaling ki pooja kaise karen in hindi, shivaling ki pooja vidhi in hindi, shivaling par lal rang ka prayog bhool se bhee na karen in hindi, shiv shankar prasann hote hai in hindi, belapatr ka prayog kare in hindi, dhaatoore ka prayog karen in hindi, doodh ka prayog karen in hindi, sabase dayalu shiv bhagwan in hindi, sheeghr phal dete hai in hindi, sheeghr prasann hote hai in hindi, har manokamana poori karate hai in hindi, shiv pooja se pran sankat ki dasha mit jati hai in hindi, maa parwati atoot bhakti se shiv ki prapti in hindi, shravan month mein man parwati ki shiv bhakti in hindi, moksh prapt hota hai in hindi, shiv-parwati vivah se vivah pratha shuroo huee in hindi, somavar ko shiv pooja jaroor keejie in hindi, somavar vrat vidhi in hindi, shravan month mein somavar ka mahatv in hindi, shiv pooja se grh klesh door hota hai in hindi, shiv pooja se sabhee grahon ka prakop door hota hai in hindi, shani ka prakop door hota hai in hindi, shravan month ke somavar vrat se man pasand jeevan sathi milta hai in hindi, nishchit shiv krpa prapt hoti hai in hindi, shravan month mein shiv-shakti ka milan in hindi, isee mahine bhagwan shiv ne samudr manthan se nikala vishpan karke srishti  k

शिव पुराण का महत्व

शिव का अर्थ होता है कल्याण। इस पुराण भगवान शिव के लीलाओं और उनके महात्मय से भरा पड़ा है। इसीलिए इस पुराण को शिव पुराण कहते है। भगवान शिव को पापों का नाश करने वाले देव है। तथा भगवान् शिव बड़े ही सरल स्वभाव के हैं। इसीलिए उनका एक नाम भोलेनाथ भी है। अपने नाम के ही अनुसार भगवान शिव बड़े ही भोले भाले और शीघ्र ही अपने भक्तों पर प्रसन्न होने वाले देवता हैं। भगवान शिव कम समय में ही अपने भक्तों पर प्रसन्न होकर उन्हें मनवांछित फल प्रदान करते हैं। 

पद्म पुराण

शिव पुराण के अनुसार इस ग्रंथ के इन संहिताओं का श्रवण करने से मनुष्य के समस्त पाप नष्ट हो जाते हैं। तथा शिव धाम की प्राप्ति हो जाती है। एक बार जब जल में नारायण शयन कर रहे थे तब उनकी नाभि से एक सुंदर और विशाल कमल प्रकट हुआ। उस कमल से ब्रह्मा जी की जन्म हुआ। माया के वश में होने के कारण ब्रह्माजी अपने जन्म का कारण नहीं जान सके। उन्हें चारों ओर जल ही जल दिखाई पड़ा। तब उन्होंने एक आकाशवाणी सुनी- आकाशवाणी ने उनसे कहा कि तुम तपस्या करो। लेकिन माया के वश में ब्रह्माजी श्री हरि विष्णु जी के स्वरूप को ना जानकर उनसे युद्ध करने लगे। तब ब्रह्मा जी और विष्णु जी के विवाद को शांत करने के लिए एक अद्भुत ज्योतिर्लिंग प्रकट हुआ। दोनों देव बड़े आश्चर्य होकर इस दिव्य ज्योतिर्लिंग को देखते रहे। और देखते ही देखते उस ज्योतिर्लिंग का स्वरूप जानने के लिए ब्रह्मा जी ने अपना स्वरूप हंस का बनाकर ऊपर की ओर, और भगवान विष्णु वराह का स्वरूप धारण कर नीचे की ओर चले गए। लेकिन दोनों देवों को इस दिव्य ज्योतिर्लिंग के आदि और अंत का पता नहीं चल सका।

click here » हर दुखों का निवारण करता है - पवित्र श्रावण मास

ब्रह्मा जी और भगवान विष्णु को इस दिव्य ज्योतिर्लिंग का आदि और अंत ढूंढने में सौ वर्ष बीत गए। इसके पश्चात उस दिव्य ज्योतिर्लिंग से उन्हें ओमकार का शब्द सुनाई पड़ा। और उस ज्योतिर्लिंग में पंचमुखी एक मूर्ति दिखाई पड़ी। यही भगवान शिव थे। ब्रह्मा और भगवान विष्णु ने उन्हें प्रणाम किया। तब भगवान शिव ने कहा तुम दोनों मेरे ही अंश से उत्पन्न हुए हो। और फिर भगवान शिव ने ब्रह्मा जी को सृष्टि की रचना, भगवान विष्णु को सृष्टि का पालन करने की जिम्मेदारी प्रदान की। शिव पुराण में 24000 श्लोक हैं। इस पुराण में तारकासुर वध, मदन दाह, पार्वती जी की तपस्या, शिव पार्वती विवाह, कार्तिकेय का जन्म, त्रिपुर का वध, केतकी के पुष्प शिव पुजा में निषेद्य, रावण की शिव-भक्ति आदि प्रसंग वर्णित किये गए हैं।

click here » शिव की पूजा से काल का भय कैसे ?

शिव पुराण सुनने मात्र से मिलता

जो भी मनुष्य श्रद्धा के साथ भगवान शिव के चरणों में ध्यान लगाकर शिव पुराण की कथा को पढ़ता या सुनता है  वह जन्म-मरण के बन्धन से मुक्त हो जाता है और और अंत भगवान् शिव के परम धाम को प्राप्त करता है। अन्य देवो की अपेछा भगवान शिव अपने भक्तों पर जल्द ही प्रसन्न हो जाते है। और अपने भक्तों की हर मनोकामना पूरी करते हैं। जो शिव पुराण की कथा श्रवण करते हैं उन्हें कपिला गायदान के बराबर फल मिलता है। पुत्रहीन को पुत्र, मोक्षार्थी को मोक्ष प्राप्त होता है तथा उस जीव के कोटि जन्म पाप नष्ट हो जाते हैं और शिव धाम की प्राप्ति होती है। इसलिये शिव पुराण कथा का श्रवण अवश्य करना चाहिये। इसलिए हर मनुस्य को अपने जीवन में एक बार इस गोपनीय पुराण को पढ़ना या इसकी कथा अवश्य ही सुननी चाहिए।

शिव पुराण के 12 संहिताओं के नाम हैं।

रौद्र संहिता 

भौम संहिता

मात्र संहिता

धर्म संहिता 

कैलाश संहिता

कोटि रूद्र संहित

शत् रूद्र संहिता

 वायवीय संहिता

वैनायक संहिता  

विघ्नेश्वर संहिता

रूद्रएकादश संहिता

 सहस्र कोटि रूद्र संहिता  


समस्त समस्याओं से मुक्ति पाने के लिए (To get rid of all problems)


    click here » शिव की पूजा से काल का भय कैसे?
    click here » हर दुखों का निवारण-पवित्र श्रावण मास


    भगवान शिव के अवतार (Bhagwan Shiv Ke Avatars)

    click here » भगवान शिव का नंदी अवतार 
    click here » भगवान शिव का गृहपति अवतार 
    click here » भगवान शिव का शरभ अवतार
    click here » भगवान शिव का वृषभ अवतार
    click here » भगवान शिव का कृष्णदर्शन अवतार
    click here » भगवान शिव का भिक्षुवर्य अवतार
    click here » भगवान शिव का पिप्पलाद अवतार
    click here » भगवान शिव का यतिनाथ अवतार
    click here » भगवान शिव का अवधूत अवतार 
    click here » भगवान शिव के अंश ऋषि दुर्वासा
    click here » भगवान शिव का सुरेश्वर अवतार
    click here » शिव का रौद्र अवतार-वीरभद्र
    click here » भगवान शिव का किरात अवतार 

    No comments